Wednesday, June 19, 2024
Home Blog

क्रिप्टो-करेंसी क्या है, क्रिप्टो करेंसी की सारी जानकारी 

0
क्रिप्टो-करेंसी क्या है, क्रिप्टो करेंसी की सारी जानकारी 
क्रिप्टो-करेंसी क्या है, क्रिप्टो करेंसी की सारी जानकारी 

एक जमाने में लोग अपनी जरूरतों को पूरी करने के लिए पैसो की नही बल्कि चीजों का इस्तेमाल करते थे। आज भी गांव एरिया में जाकर आप देख सकते हो कि लोग पैसे नहीं बल्कि गेंहू धान इत्यादि अनाजो को बदलकर जरूरत का सामान खरीदते हैं। बहुत जगह यहबप्रथा आज भी चलती आ रही है। लेकिन धीरे-धीरे लोग अनाज की जगह पैसे रखने लगे क्योंकि पैसे को इधर से उधर ले जाना आसान होता था। आप इतिहास के पन्नों को पलट कर भी देख लीजिए, पुराने जमाने में लोग अनाज का इस्तेमाल करते थे पैसों की रूप में और खरीदारी करने अगर मंडी जाते तो भी साथ में अनाज लेकर जाते थे। 

क्रिप्टो-करेंसी क्या है, क्रिप्टो करेंसी की सारी जानकारी 

खैर अब तो हर किसी के पास पैसे रहते हैं। लोग पैसे देकर कुछ भी खरीद सकते हैं। जैसे जैसे समय आगे बढ़ा बहुत सारी नई तकनीक, बहुत सारी नई सुविधाओं के आविष्कार होते गयें। 21वी सदी एक ऐसा समय है, जब सबसे ज्यादा बदलाव हुए। लोगों की जिंदगियों को आसान बनाने के लिए जितना अधिक संभव हुआ उतने बदलाव इस युग में किए गए। ऐसा ही एक खास बदलाव है आभासी मुद्रा यानी Virtual Currencyका प्रचलन। लेकिन ध्यान रखना जरूरी है कि आभासी मुद्रा की लाइन में रिस्क बहुत है और हाल ही में आर्थिक केंद्रीय मंत्रालय ने भी यह आदेश जारी किया है कि लोग बिटकॉइन और बाकी क्रिप्टो करेंसी मुद्राओ में Invast से बचें। आज के पोस्ट में हम क्रिप्टो-करेंसी और इसके सारे पहलुओं को समझेंगे।
क्रिप्टो-करेंसी क्या है

क्रिप्टो करेंसी के बारे में सरल भाषा में कहें तो यह क्रिप्टोग्राफी प्रोग्राम पर आधारित वर्चुअल करेंसी या ऑनलाइन मुद्रा है, जो पियर टू पियर Cash System है।जैसा कि हमने कहा यह ऑनलाइन मुद्रा है, इसको हम डिजिटल वॉलेट में ही रख सकते हैं और वहीं से इस मुद्रा को इस्तेमाल कर सकते हैं। इस मुद्रा को रखने के लिए हमें बैंक के किसी अन्य वित्तीय संस्थान की जरूरत नहीं पड़ती है। क्रिप्टो-करेंसी दो तरह के होते हैं। फिएट क्रिप्टोक्रिप्टो-करेंसी और नॉन फिएट क्रिप्टो-करेंसी।

फिएट और नॉन फिएट क्रिप्टो-करेंसी क्या है

आप इतना समझिए कि नॉन फिएट क्रिप्टो-करेंसी निजी क्रिप्टो-करेंसी है जैसे कि बिटकॉइन। वही फिएट क्रिप्टो-करेंसी एक डिजिटल मुद्रा है, जिसे केंद्रीय बैंक द्वारा जारी किया जाता है। अगर भविष्य में भी रिजर्व बैंक कोई आभासी मुद्रा जारी करती है तो उसको फिएट क्रिप्टो करेंसी कहा जायेगा। 

बिटकॉइन और क्रिप्टो-करेंसी में कंफ्यूजन 

क्रिप्टो-करेंसी क्या है, क्रिप्टो करेंसी की सारी जानकारी 

कुछ लोगों को लगता है कि क्रिप्टो-करेंसी सिर्फ बिटकॉइन ही है। काफी लोग क्रिप्टो-करेंसी और बिटकॉइन को एक ही समझते हैं। लेकिन यहा पर थोड़ी सी समझने की जरूरत है। आप लोग बस इतना समझ ले कि सभी क्रिप्टो-करेंसी बिटकॉइन नहीं है लेकिन सभी बिटकॉइन क्रिप्टो-करेंसी है। बिटकॉइन के अलावा भी बहुत सारे क्रिप्टो-करेंसी है जैसे कि एथेरेम(Ethereum), रिप्पल(Ripple) इत्यादि।

क्रिप्टो करेंसी के लाभ या सुविधाएं

◆ यह मुद्रा ने निजता बनाए रखने में मददगार है। क्रिप्टो-करेंसी के द्वारा लेनदेन के दौरान छद्म नाम एवं पहचान बताएं जाते हैं। जो लोग अपनी निजता को लेकर काफी ज्यादा संवेदनशील है, उनके लिए लेन-देन का यह विकल्प काफी संतोषजनक और सुलझा हुआ है।

◆ क्रिप्टो-करेंसी मे लेनदेन की लागत बहुत ही कम है, जो इसकी लोकप्रियता का एक मुख्य कारण है। घरेलू हो या अंतरराष्ट्रीय दोनो प्रकार की लेनदेन में लागत समान ही लगती हैै।

◆ क्रिप्टो करेंसी के जड़िये लेनदेन में किसी भी थर्ड पार्टी सर्टिफिकेशन की जरूरत नहीं पड़ती है, जिसके कारण पैसे और समय दोनों की काफी बचत हो जाती है।

◆ इस माध्यम में प्रवेश जनक बाधाएं न के ही बराबर है। अगर हम लोग बैंक द्वारा लेनदेन करते हैं तो अकाउंट खोलने से लेकर पैसों की लेनदेन करने तक हर कदम पर नए-नए प्रमाणपत्र की जरूरत पड़ती है, जो कभी कभी काफी irritating हो जाता है। लेकिन क्रिप्टो-करेंसी में प्रमाण पत्रों का कोई झंझट ही नहीं है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लेनदेन के मामलों में भी काफी औपचारिकता से गुजरना पड़ता है। लेकिन क्रिप्टो-करेंसी के माध्यम से लेनदेन करने पर यह सब काम आसानी से हो जाता है।

◆ बैंकों के माध्यम से लेनदेन करने पर, सरकार के पास यह अधिकार होता है कि वह हमारे बैंक खाते को फ्रीज या जब्द कर सकती है। लेकिन क्रिप्टो-करेंसी के मामले में सरकार ऐसा नहीं कर सकती। यह पद्धति पूरी तरह से सरकारी नियंत्रण से बाहर है।
क्रिप्टो-करेंसी के नुकसान और समस्या

◆ यह एक असुरक्षित लेन-देन व्यवस्था है इसकी पूरी प्रक्रिया और लाइन होने के कारण इसकी सुरक्षा पर सवाल उठते हैं इसके हैक होने का खतरा बना रहता है।

◆ इस व्यवस्था के साथ देश की सुरक्षा संबंधी चिंताएं भी जुड़ी हुई है। यह मुख्य वित्तीय सिस्टम और बैंकिंग प्रणाली से पूरी तरह बाहर रहकर काम करती है, जिससे इसके स्रोत और सुरक्षा पर सवाल उठते हैं। जानकारी के लिए बता दें, इस डिजिटल मुद्रा को फ्रॉड, हवाला मनी और आतंकी गतिविधियों को पोषित करने वाली मुद्रा के रूप में संबोधित किया जाता आ रहा है।

◆  क्रिप्टो-करेंसी का एक और नेगेटिव पॉइंट इसके नियंत्रण को प्रबंधन के साथ जुड़ा हुआ है। भारत देश जैसे कई देशों ने अभी तक इसको मुद्रा के रूप में स्वीकृति नहीं दी है। जिससे इसका प्रबंधन और नियंत्रण एक बड़ी समस्या बनी हुई है।

◆ क्रिप्टो-करेंसी के लेनदेन के साथ पर्यावरण संबंधी चिंताएं भी जुड़ी हुई है। गौरतलब है कि एक बिटकॉइन के लेन-देन में 237 किलोवाट बिजली खपत होती है, जिससे प्रति घंटा लगभग 92 किलो कार्बन का उत्सर्जन होता है।

लेकिन फिर भी क्रिप्टो-करेंसी की जनप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसके सरल लेनदेन पद्धति के कारण लोग लेन-देन के इस माध्यम को ज्यादा पसंद करते हैं। सरकार भी इन पर नियंत्रण करने में सफल नहीं हो पा रही हैं। विश्व के केंद्रीय बैंकों को यह आभास होने लगा है कि आभासी मुद्रा पर नियंत्रण लगाने का प्रयास निरर्थक है। इसी कारण देश और लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए वित्तीय संस्थानों ने खुद का क्रिप्टो-करेंसी जारी करने की दिशा में कदम बढ़ाया है और विचार कर रही हैं।

Bitcoin क्या है: जानिए बिटकॉइन के बारे में सबकुछ।

0
Bitcoin क्या है: जानिए बिटकॉइन के बारे में सबकुछ।
Bitcoin क्या है: जानिए बिटकॉइन के बारे में सबकुछ।

Bitcoin एक virtual currency है जैसे कि बाकी करेंसीज Rupee, Dollar इत्यादि। बाकी Currencies तरह बिटकॉइन एक Digital currency है। बिटकॉइन को डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है। यह एक open-source है, जिसे कोई भी यूज कर सकता है। virtual currency का मतलब होता है कि यह पैसे तो है और इसका यूज भी हम हर जगह कर सकते हैं। लेकिन इसे हम ना तो छू सकते हैं और ना ही देख सकते हैं। जी हां दोस्तों! फिर आप यह कह सकते हैं कि यह एक तरह का पॉइंट्स होता है, जो हमें मिलता है और जिसे हम बाद में अपने देश की मुद्रा के हिसाब से कन्वर्ट कर सकते हैं।

आप लोग यह जरूर सोच रहे होंगे कि यह कैसी मुद्रा है। जो कि ना हम छू सकते हैं और ना ही देख सकते हैं। तो हम इसे कैसे हमेशा अपने पास रखेंगे और कैसे इसका यूज करेंगे। तो आपको हम बता दे कि यह एक वर्चुअल करेंसी है, जिसे आप बाद में अपने बैंक अकाउंट में भेज करके अपने देश का करेंसी बना सकते हैं। यानी कि आपके देश में जो करेंसी चलती है आप उस देश के करेंसी के हिसाब से उसे बना सकते हैं। अब तो आप लोग समझ गए होंगे कि बिटकॉइन क्या है।

Bitcoin क्या है: जानिए बिटकॉइन के बारे में सबकुछ।

1 बिटकॉइन की कीमत आप जानकर हैरान रह जाएंगे। इंडिया में एक बिटकॉइन की आज की कीमत लगभग Rs 7,86,750.53 रुपए हैं। लेकिन इसमें एक बात यह है कि बिटकॉइन की कीमत घटती और बढ़ती रहती है। क्योंकि इसे कंट्रोल करने के लिए कोई अथॉरिटी नहीं है। और इसीलिए इसकी वैल्यू इसके डिमांड के हिसाब से चेंज होती रहती है। अगर आप वर्तमान में एक बिटकॉइन की कीमत जानना चाहते हैं। तो आप गूगल पर 1 Bitcoin to inr लिखकर सर्च करें वर्तमान में बिटकॉइन की जो कीमत है वह आपको पता चल जाएगा।

बिटकॉइन को ट्रांजेक्शन में इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे तेज और कुशल माध्यम माना जाता है। आजकल बहुत से लोग बिटकॉइन को अपना रहे हैं। जैसे कि Online developers, entrepreneurs, non-profit organisations इत्यादि। आज की डेट में बिटकॉइन का इस्तेमाल पूरी दुनिया में ग्लोबल पेमेंट के लिए किया जा रहा है।

बिटकॉइन का यूज आप कहां कर सकते हैं –

  • * बिटकॉइन को आप ऑनलाइन शॉपिंग के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • * दुनिया में आप किसी को भी पैसे भेजने या किसी से पैसे रिसीव करने के लिए बिटकॉइन का यूज़ कर सकते हैं।
  • * आप किसी को पेमेंट भेजने के लिए बिटकॉइन का उपयोग कर सकते हैं।
  • * बिटकॉइन का प्रयोग आप पैसे कमाने के लिए कर सकते हैं।
  • * साथ ही आप बिटकॉइन को खरीद और बेच भी सकते हैं।

आशा करती हूं अभीतक आपको बिटकॉइन के बारेे में सारी जानकारी मिल गयी होगी। और आप लोग यह समझ चुके होंगे कि बिटकॉइन क्या है और इसका इस्तेमाल कहांं कहां किया जा सकता है। मैने बहुत ही सरल भाषा में आप लोगोंं को बिटकॉइन के बारे में समझाया है, जो आशाा करती हु आपको पसंद आया होगा।

Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।

0
Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।
Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।

एक जमाना था जब, बीमारियां काफी कम थी। इतने बीमारियों के नाम भी लोगों को पता नहीं थे और बीमारी होती भी थी तो लोग देसी इलाज करके ही उन्हें ठीक कर लेते थे। दरअसल पहले का खानपान अलग था, खानपान में कोई मिलावट नहीं थी। लोग प्रकृति से जुड़ी चीजों का सेवन करते थे और स्वस्थ रहते थे। लेकिन आज की लाइफ स्टाइल और खानपान दोनों एकदम बदल गया है। लोग 24 घंटे Busy रहने लगे हैं, खाने-पीने का कोई सही समय नहीं है आज। साथ ही साथ खानपान में भी मिलावट आ गई है। इसी कारण नई नई बीमारियां आए दिन लोगों को जकड़ रही हैं। ऐसी ही एक बीमारी है गुर्दे में पथरी। Research से यह पता चला है कि हर 100 में से 15 लोगों को गुर्दे में पथरी है। इसीसे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह बीमारी कितनी गंभीर रूप लेती जा रही है दिन प्रतिदिन। लेकिन सवाल यह है कि ये बीमारी लगती कैसे हैं। चलिए पहले इसी बारे में जानते हैं।

किडनी में पथड़ी का कारण

दोस्तों! आज की लाइफ स्टाइल को देखते हुए ऐसा कोई निश्चित कारण नहीं बता सकते, जिसके कारण किडनी में पथरी होती है। बहुत से ऐसे वजह है जिससे पथरी होने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ वजह सामने आई है तो कुछ वजह अभी तक अनजान है। लेकिन  सबसे ज्यादा जिस वजह से गुर्दे में पथरी होती है, वह यह कि किडनी के फिल्टर मेकेनिज्म  खराबी आ जाती है। जब उसमें खराबी आ जाती है तो यूरिन में कुछ रसायन अधिक हो जाते है। जो जमा होकर गुर्दे में पथरी का रूप ले लेते है। किडनी में पथरी होने के कुछ कारण इस प्रकार है।

Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।

प्रोटीन, नमक और ग्लूकोजयुक्त पदार्थ का अधिक मात्रा में सेवन

हम सभी को पता है कि प्रोटीन और ग्लूकोज हमारी सेहत के लिए जरूरी है। लेकिन अगर इसकी मात्रा अधिक हो जाए तो बीमारी लगते देर नहीं लगती। प्रोटीन, ग्लूकोज और नमक के ज्यादा सेवन से गुर्दे में पथरी होने का खतरा रहता है।
थाइरॉएड से ग्रस्त होने पर

थाइरॉएड की दिक्कत  होने से भी पथरी होने का खतरा रहता है। इसीलिए थाइरॉएड से ग्रस्त रोगी को अपनी सेहत का ध्यान रखना चाहिए, साथ ही उन्हें बीच-बीच में जांच कराते रहना की कही उनके गुर्दे में भी पथरी तो नहीं हो गयी।
वजन अधिक होना 

कम या ज्यादा वजन हमारे शरीर के लिए घातक होता है। जिन लोगों का वजन ज्यादा है, उन्हें बाकी बिना बीमारियों के साथ किडनी स्टोन होने का भी खतरा रहता है। इसी कारण वजन को नियंत्रित रखना बहुत जरूरी होता है।
बाईपास सर्जरी का होना 

जिन लोगों ने हालही में अपना बाईपास सर्जरी करवाया है, उनको भी किडनी में पत्थर होने का खतरा रहता है। ज्यादातर यह बाईपास सर्जरी के साइड इफेक्ट के कारण होते हैं।
पानी कम पीना 

कुछ लोग को पानी कम पीने की आदत होती है। वह लोग ज्यादा पानी नहीं पी पाते। लेकिन ऐसा करना सही नहीं। पानी कम पीने से हमारे शरीर में बहुत सी बीमारी लगने का खतरा रहता है। पानी कम पीने से हमारा शरीर पूरी तरह से साफ नहीं हो पाता और हमारे गुर्दे में पथरी बनने की संभावना रहती है।

गुर्दे में पथरी कितने प्रकार के होते हैं

कैल्शियम स्टोंस (Calcium stones) — अधिकांश लोगों को कैल्शियम स्टोंस होते हैं। यह आमतौर पर कैलशियम ऑक्सलेट के रूप में होती है। ऑक्सलेट एक प्राकृतिक रूप से पाया जानेवाला पदार्थ है जो भोज्य पदार्थों में मिलने के साथ-साथ लीवर में भी इसका निर्माण होता है। बात करें भोज्य पदार्थों की तो कुछ फल-सब्जियां,अनाज, चॉकलेट इत्यादि में ऑक्सलेट पाए जाते हैं।

स्रावित स्टोंस(Secreted stones) — यह स्टोंस आमतौर पर संंक्रमण के कारण होते हैं। अगर यह स्टोन हो जाए तो ये काफी जल्दी बड़े हो सकते हैं।

यूरिक एसिड स्टोंस(Uric acid stones)– यह पथरी महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा होती हैं। यह उन लोगों को खासतौर पर होती है जो, पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ या पानी का सेवन नहीं करते और जिनके मूत्र में एसिड की मात्रा अधिक होती है। 

सिस्टीन स्टोंस(Cysteine stones)– यह काफी कम लोगो मे होता है। यह स्टोन खासतौर पर उन लोगों के शरीर में होती है, जिनको कोई अनुवांशिकी विकार है। इस स्थिति में सिस्टीन एसिड, किडनी से लीक होकर मूत्र में आ जाता है।

Kidney stone का इलाज 

किडनी स्टोन के इलाज के लिए बहुत से विकल्प मौजूद है जैसे कि –

Homeopathy Treatment — काफी लोग जो खास करके ज्यादा खर्च करने के लिए सक्षम नहीं है या फिर ऑपरेशन से डरते हैं या फिर ज्यादा अंग्रेजी दवाइयों का सेवन नहीं कर सकते उनके लिए होम्योपैथिक बेस्ट उपाय है। अगर शुरुआती दिनों में ही बीमारी का पता लग जाए होम्योपैथिक ट्रीटमेंट बहुत कारगर साबित होता है और जल्दी ही पथरी को खत्म कर देता है।

अंग्रेजी दवाइयों का सेवन — अंग्रेजी दवाइयां किडनी स्टोन को बढ़ने नहीं देती और बाकी दिक्कतें भी नहीं आने देती। जिससे हम किडनी स्टोन को निकालने का पर्याप्त इलाज ढूंढ सकते हैं। 

थेरेपी — थेरेपी भी बहुत कारगर इलाज है किडनी स्टोन को बाहर निकालने के लिए लेकिन ज्यादातर लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है या साइड इफेक्ट के डर से लोग थेरेपी लेने से कतराते हैं। लेकिन इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है और यह 100% सच है।

ऑपरेशन — जब कोई विकल्प नहीं बचता तो हमारे पास आखिरी विकल्प ऑपरेशन ही बच जाता है। लेकिन अगर आप लोगों के पत्थर का साइज ज्यादा बड़ा नहीं है और आपको ज्यादा दिक्कत नहीं है तो आप पहले बाकी इलाज को ट्राई करें, तभी ऑपरेशन के बारे में सोचे। क्योंकि ऑपरेशन में खर्चा भी आपको 50 हजार से 1 लाख के करीब पर जाएगा और आपके शरीर को भी कष्ट होगा। इसीलिए बाकी दूसरा कोई विकल्प ना बचने पर ही ऑपरेशन के बारे में सोचें आप लोग।

देसी इलाज या घरेलू नुस्खा भी ट्राई किया जा सकता है — अगर आपके किडनी में स्टोन है तो देसी इलाज इलाज अपना सकते हैं। बार-बार पानी पीना और पेशाब करना एक महत्वपूर्ण इलाज है, इससे किडनी की पथरी अपने आप निकल जाती है। बहुत सारे ऐसे घरेलू नुस्खे हैं, जो गुर्दे की पथरी निकालने में कारगर साबित हुए हैं। नींबू का रस, सेव का सिरका इत्यादि का सेवन करना काफी फायदेमंद होता है इस बीमारी मे। कुछ अन्य देसी और घरेलू उपाय है —

अनार जूस — अगर आपके गुर्दे में पथरी की समस्या हो गई है तो आपको रोज सुबह एक गिलास अनार का जूस पीना चाहिए। अनार के जूस के सेवन से पथरी में होने वाले दर्द से आपको काफी राहत मिलेगी और पथरी का साइज बड़ा नहीं होगा। साथ ही आप पथरी को निकालने के लिए जिन दवाइयों का सेवन कर रहे हैं उन दवाइयों का असर भी झटपट होगा और आपको पथरी की समस्या से निजात मिल जाएगा

इलाइची — एक चम्मच इलायची, दो चम्मच मिश्री और थोड़े से खरबूज के बीज की गिरी ले। उनको आधा कप पानी में अच्छी तरह उवाले और सुबह शाम उस पानी को पी लें। ऐसा करने से आप की पथरी के निकलने में काफी मदद मिलेगी और दर्द से भी आप को राहत मिलेगी। साथ ही पथरी के बाकी लक्षणों से भी आपको निजात मिलेगी।

राजमे का पानी — आप थोड़े से राजमे को भिगो लें। उसके बाद उसको पानी में अच्छी तरह उबाले। फिर राजमें को निकाल ले और जो पानी बच जाए उसको दिन भर में थोड़ा-थोड़ा करके कई बार पिए। पथरी के रोगियों के लिए यह पानी किसी दवाई से कम नहीं है।

प्याज का रस —  दो प्याज ले और उनको छोटे-छोटे टुकड़ों में काट ले। अब उस प्याज के टुकड़ों को थोड़ा सा पानी में डालकर धीमी आंच पर थोड़ी देर के लिए पकाए। पकने के बाद गैस बंद कर दे और उस प्याज को अच्छी तरह से पीसकर प्याज का रस निकाल ले। अब उस रस को पी जाए। ऐसा आप एक-दो दिन के अंतराल पर करें ।आपको काफी फायदा होगा।

मकई(Corn) — पथरी के रोगियों के लिए मकई का सेवन भी काफी फायदेमंद होता है। मकई खाने से पेशाब ज्यादा लगता है और पथरी छोटे-छोटे कणों के रूप में बाहर निकल आते हैं। आप कुछ दिन तक मकई खाकर देखे आपको किडनी के पथरी से अवश्य निजात मिलेगा।

व्हीट ग्रास — सिर्फ किडनी की पथरी ही नहीं किडनी कि किसी भी प्रकार के रोग के लिए व्हीटग्रास काफी फायदेमंद है। आप व्हीटग्रास को थोड़ा सा पानी में उबालें और फिर उस पानी को पिए। ऐसा करने से आपकी पथरी तो निकलेगी ही साथ ही आपके किडनी के बाकी बीमारियों से भी आप को राहत मिल जाएगी। आपकी किडनी स्वस्थ रहेगी।

खजुर — खजूर में फाइबर की अच्छे मात्रा होती है जो किडनी में पथरी होने के खतरे को कम कर सकता है। अगर आपकी किडनी में पथरी नहीं भी है तो भी आप इसका सेवन करें। इससे आपकी किडनी स्वस्थ रहेगी और पथरी होने के चांसेस कम रहेंगे। आप रातभर थोड़े से खजूर को भिगोकर रख दे। सुबह उठकर खजूर को चबा चबा कर खाए बचा हुआ पानी भी पी ले। आपको काफी फायदा होगा। अगर आपकी किडनी में पथरी हो भी गयी है, फिर भी आप इसका सेवन करें। किडनी की पथरी धीरे-धीरे बाहर निकलेगी और दर्द से भी आप को राहत मिलेगी।

आशा है आपको यह जानकारी अच्छी लगी।

एक अच्छा राइटर कैसे बने — जानिए लेखक बनने के लिए जरूरी टिप्स।

0
एक अच्छा राइटर कैसे बने -- जानिए लेखक बनने के लिए जरूरी टिप्स।
एक अच्छा राइटर कैसे बने -- जानिए लेखक बनने के लिए जरूरी टिप्स।


हैल्लो दोस्तो, आज का हमारा टॉपिक है “लेखक कैसे बने और “बेस्ट राइटर बनने के टिप्स”। हर किसिके लाइफ में कोई ना कोई उद्देश्य जरूर होता है जो की जरूरी भी है। किसी उद्देश्य के बिना, किसी Passion के बिना लाइफ अधूरी अधूरी सी लगती है। जिसमें जी कर कोई मजा नहीं आता। कोई डॉक्टर बनना चाहता है, तो कोई इंजीनियर, कोई बिजनेसमैन बनना चाहता है तो कोई लॉयर। लेकिन कुछ लोगो का Passion सबसे हटकर होता हैं। वह लोग कुछ खास और अलग करना चाहते हैं। ऐसी ही एक हॉबी हैं राइटिंग। कुछ लोगो को लिखने का बहुत शौक होता हैं। वो अपने मन की हर बात कागज पर लिख डालते हैं। ऐसा करते करते एक दिन उनके मन में प्रोफेशनल राइटर बनने की चाह पैदा हो जाती है और वो प्रोफेशनल राइटर बनने की तैयारी में लग जाते हैं।

तो जो लोग रियल में एक राइटर बनना चाहते हैं उनके लिए हम कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए हैं, जिसे पढ़ने के बाद उनका माइंड काफी डेवलप हो जाएगा। एक अच्छा राइटर बनने के लिए क्या क्या क्वालिटी होना चाहिए यह आज के हमारे इस लेख को पढ़ने के बाद आप लोगो को समझ में आ जाएगा। तो चलिए जान लेते हैं की एक अच्छा राइटर बनने के लिए हमारे अंदर किस किस क्वालिटी का होना जरूरी है।

भाषा पर ध्यान दे 

आप अगर कुछ लिख रहे हैं और आप चाहते है की ज्यादा से ज्यादा लोग आपके उस लेख को पढ़े तो आप अपने भाषा पर थोड़ा ध्यान दीजिए। अगर आप अपने लेख में सरल और सिंपल भाषा का इस्तेमाल करेंगे तो लोगो को आपका लेख आसानी से समझ में आएगा और आपका लेख हर कोई पढ़ेगा। धीरे-धीरे आपके लेख के साथ ज्यादा से ज्यादा लोग जूड़ जाएंगे और एक बार आपके लेख के साथ ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ने लगे फिर आपका लेख और आप दोनो को फेमस होने से कोई नहीं रोक सकता।

कुछ रोमांचक लिखे 

हम कोई भी किताब जब पढ़ते हैं, तो यह देखकर पढ़ते हैं की उस किताब में कुछ रोमांचक है या नहीं। अगर आप भी अपने लेख के साथ ज्यादा से ज्यादा लोगो को जोड़ना चाहते हैं तो कोशिश करें की जितना हो सके आप कुछ रोमांचक लिखे। आप कहानी, कविता जो भी लिखे बस ध्यान रखे की बीच बीच में कुछ रोमांचक लिखा हो ताकि लोगो को आपकी बुक पढ़ने में इंटरेस्ट बढ़े और वे लोग आपकी बुक को पढ़े।

दिल से लिखे 

जब कोई बात हम दिलसे बोलते हैं तो सीधे जाकर वो सुननेवाले के दिल को छूता है उसी तरह जब हम कुछ दिल से लिखते हैं तो वो भी सीधे जाकर पढ़ने वाले के दिल को छूता हैं। अगर आप चाहते हैं की आप जो भी लिखे वो सबके दिल को जाकर छुए तो आप जो भी लिखे वो पूरे दिल से और ईमानदारी से लिखे।

एक अच्छा राइटर कैसे बने — जानिए लेखक बनने के लिए जरूरी टिप्स।

नयी नयी बातो को सामने लाए 

हम सब लोग नयी नयी बाते जानना चाहते हैं। जिस बुक या ब्लॉग को पढ़ने से हमें नयी नयी बातो की जानकारी मिलती है उस बुक के प्रति हमारी चाह दिन प्रतिदिन बढ़ती जाती है। आप भी अगर अपने लेख के प्रति लोगो की चाहत को बढ़ाना चाहते हैं तो कुछ ऐसा लिखे जो बिल्कुल नया हो और सीखने लायक हो। धीरे धीरे आपके लेख के प्रति लोगो की चाहत बढ़ने लगेगी और आप भी धीरे-धीरे फेमस होने लगेंगे।

अपने काम को समय दे 

आप अगर लिखने में शौकीन हैं तो आप अपने राइटिंग को जितना possible हो उतना समय दे। अगर आप थोड़े से समय में ज़्यादा लिखने की कोशिश करेंगे तो कुछ भी नहीं लिख पाएंगे और अगर लिख भी लिया तो आपकी राइटिंग में वो बात नहीं होगी। क्योंकि राइटिंग एक ऐसा काम है जो शांति से ही हो सकती है, हरबरी में नहीं। इसलिए आप अपने इस काम के लिए समय निकाले और मन को शांत करके लिखना स्टार्ट करे। अगर लिखते लिखते बीच में आपका मन लिखने को ना करे तो उसी वक़्त लिखना बंद कर दें। फिर जब आप अपना माइंड फ्रेश कर ले और आपको लिखने का मन करे तभी आप फिरसे लिखना स्टार्ट करें।

राइटिंग कैरियर की शुरुआत कैसे करें —

जब हमारी हॉबी, हमारा कैरियर बन जाए तो उससे अच्छी बात कुछ हो ही नहीं सकती। अगर लिखना आपकी हॉबी है तो आपको राइटिंग में अपना करियर जरूर तलाशना चाहिए। राइटिंग में करियर बनाने के बहुत सारे विकल्प मौजूद है। आजकल क्योंकि जमाना डिजिटल हो गया है,सब कुछ ऑनलाइन ही होने लगा है यहां तक की पढ़ाई लिखाई भी ऑनलाइन होने लगी है। किसी को कोई भी खास जानकारी चाहिए हो तो, कोई खास  बुक पढ़नी हो तो लोग लाइब्रेरी जाने के बजाय ऑनलाइन सर्च करते है और बुक पढ़ने के बजाय लैपटॉप में ही पीडीएफ डाउनलोड करके पढ़ लेते है। इसी तरह लोग जानकारी के लिए ब्लॉग या वेबसाइट पर जाते हैं। ऐसे में ऑनलाइन, आप लोगों के लिए बहुत बड़े बड़े स्कोप है। आप लोग ऑनलाइन माध्यम से ही  राइटिंग में अपना करियर बना सकते हैं। ऑनलाइन राइटिंग करने के लिए आप लोगो के पास बहुत सारे विकल्प मौजूद है। जैसे कि –

अपना वेबसाइट बनाकर 

आप लोग अपना वेबसाइट बनाकर, उस पर राइटिंग कर सकते हैं और ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपने वेबसाइट पर लाकर अच्छी कमाई कर सकते हैं। कुछ फेमस राइटर्स ऐसे भी हैं जो महीने में सात से आठ लाख तक की कमाई करते हैं। लेकिन आपकी राइटिंग में दम होना चाहिए तभी आप कमाई कर पाएंगे।

दूसरा तरीका है फेसबुक 
 

आजकल Facebook account लगभग हर किसी की पास होता है। ऐसे में आप लोग अपनी स्टोरीज, कविताएं, शायरी फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट कर सकते हैं। जब लोग उनको पड़ेंगे और अगर उनको आपकी राइटिंग पसंद आएगी तो वह आपकी पोस्ट को लाइक करेंगे। इस तरह जितने ज्यादा लाइक्स आपके पोस्ट को मिलेंगे आप उतना ज्यादा फेमस होंगे। ईस तरह बाद में आप ऐडसेंस अप्लाई करके फेसबुक के माध्यम से भी अर्निंग कर सकते हैं। और भगवान ने चाहा तो अगर किसी बड़ी हस्ती की नजर आपके पेज पर पड़ गई तो समझ लीजिए आपकी किस्मत खुल गई।

यूट्यूब के माध्यम से

अगर आप अच्छे कंटेंट लिखने की क्षमता रखते हैं तो आप उनका उन बातों को शब्दों में पिरो कर वीडियो बना सकते हैं। आजकल बहुत से लोग जानकारी के लिए youtube पर जाते हैं। जब लोगों को आपके बोलने का तरीका पसंद आएगा तो ज्यादा से ज्यादा विजिटर आपको मिलेंगे और ज्यादा से ज्यादा कमाई आपकी होगी।इनके अलावा और भी बहुत सारे विकल्प मौजूद है ऑनलाइन आजकल बहुत सारे राइटिंग कंपटीशन होते रहते हैं। आप उन Compititions में भी हिस्सा ले सकते हैं। अगर आप जीते तो आपको ना सिर्फ पैसा मिलेगा साथ ही आपको शोहरत भी हासिल होगी। 

अपनी किताब छपवाकर 

ऑनलाइन तरीकों के अलावा अगर आप चाहे तो पुराना परंपरागत तरीके को भी अपना सकते हैं। अगर आपके पास कविताओं का एक भंडार है या फिर आपके दिमाग में एक बड़ी सी कहानी है तो आप उसको लिख कर पब्लिश करा सकते हैं। वैसे तो इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि आपकी किताब पब्लिश होने के बाद आप एक सफल लेखक बन जाएंगे, लेकिन कहते हैं ना सफलता आपके सिर्फ एक बुक पर ही निर्भर करती है। कुछ लोग पहला बुक लिखकर ही सक्सेसफुल राइटर बन जाते हैं तो कुछ लोग 10, 15, 20 किताब लिखने के बाद भी फेमस और सफल नहीं हो पाते। इसका कारण है क्वॉलिटी। अगर आप क्वॉलिटी राइटिंग करेंगे तो आप जरूर सफल होंगे।

राइटर की नौकरी 

इन तरीकों के अलावा आप ‘As a writer’ किसी कंपनी में नौकरी भी कर सकते हैं। आजकल बहुत सारे ऐसी कंपनी है जो राइटर्स को हायर करती है। आप लोग उन कंपनीस में फुल टाइम या पार्ट टाइम जॉब कर सकते हैं। अगर आप ऑफिस में जाकर नहीं बल्कि घर से ही काम करना चाहते तो भी यहां पर आपके लिए मौके है। ज्यादातर वेबसाइट के ओनर्स, जिनकी कमाई अच्छी खासी है उनके पास ज्यादा आर्टिकल लिखने का टाइम नहीं होता। तो वह लोग कुछ राइटर्स को हायर कर लेते हैं। आपको बस सोशल मीडिया वगैरा के माध्यम से ऐसे क्लाइंट की तलाश करनी है और फिर उनके वहां जॉब की अर्जी डालनी है। अगर आपकी लिखावट उन्हें पसंद आ गयी तो आप घर बैठे ही रोज हजारों की कमाई कर सकते हैं।

इसके अलावा आप freelance पर अकाउंट बनाकर भी ‘As a writer’  घर बैठे ही पैसे कमा सकते हैं। इनके अलावा भी और बहुत सारे विकल्प मौजूद है, राइटर्स के लिए। बस आपके पास हौसला होना चाहिए और विकल्प को तलाशने का धैर्य होना चाहिए और सबसे जरूरी बात आपकी राइटिंग में वह बात होनी चाहिए जो किसी की सोच को बदल सके, किसी को सोचने पर मजबूर कर सकें।

उम्मीद है आज के इस लेख को पढ़कर आप लोगो को फायदा हुआ। राइटिंग ही जिन लोगो का सपना है, उनके लिए इस लेख को पढ़ना बहुत जरूरी है क्योंकि जरा सी गलती और लापरवाही हमारे सपने को तोड़ सकती है। इसलिए जब हम कोई सपना देखते हैं तो हमें उस सपने को लेकर काफी जिम्मेदार होना चाहिए और हमें हर बार यह कोशिश करनी चाहिए की हमसे कोई भी गलती ना हो जिसके कारण हमें बाद में पछताना परे। इसलिए आप लोग आज के इस लेख को ध्यान से पढ़िए और फॉलो करिए। मुझे पूरी उम्मीद है कि आप एक दिन एक बड़े राइटर जरूर बनेंगे।

बेटी दिवस 2020: इस बेटी दिवस अपनी बेटी को अनमोल होने का एहसास दिलाये।

0
बेटी दिवस 2020: इस बेटी दिवस अपनी बेटी को अनमोल होने का एहसास दिलाये।
बेटी दिवस 2020: इस बेटी दिवस अपनी बेटी को अनमोल होने का एहसास दिलाये।

ऐसे तो बहुत से दिवस मनाए जाते हैं। Father’s Day, Mother’s Day और भी बहुत सारे त्योहार। ऐसे ही एक दिन बेटी दिवस के रुप में मनाया जाता है। लेकिन आपको बता दें, इस दिवस की कोई खास तारीख नहीं होती है। इसको हर साल, सितंबर के हर चौथे रविवार को मनाया जाता है। चाहे वह कोई भी डेट क्यों न हो। जो रविवार सितंबर महीने में चौथा होता है उसी डेट को बेटी दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिवस तीन बेटियों को समर्पित होता है। इस दिन को अलग-अलग देशों में अलग अलग दिन पर मनाया जाता है। लेकिन भारत में खासकर सितंबर के चौथे रविवार को बेटी दिवस के रूप में मनाते हैं। इस साल 2020 में, चौथा रविवार 27 सितंबर को पड़ा है। इसीलिए आज यानी 27 सितंबर के दिन बेटी दिवस के रूप में मनाया जाएगा। आइये जानते हैं, बेटी दिवस क्यों मनाया जाता है।

बेटी दिवस 2020: इस बेटी दिवस अपनी बेटी को अनमोल होने का एहसास दिलाये।

बेटी दिवस क्यों मनाया जाता है

दरअसल में बेटियों को प्यार जताने के लिए बेटी दिवस का दिन मनाया जाता है। इसके अलावा भी भारत में बेटी दिवस मनाने का एक खास वजह है। दुनिया में ऐसे बहुत से जगह होते है जहाँ के लोग बेटियो को पढ़ने नहीं देते हैं। उन्हें जन्म देने से पहले ही मार देते हैं। साथ ही बहुत से जगहों पर घरेलू हिंसा का भी शिकार बेटियां ही बनती है और दहेज से लेकर हर एक दुष्कर्म का भी शिकार बेटियों को बनाया जाता है। ऐसे में इन सब से बेटियों को बचाने व छूटकारा दिलाने के लिए हर एक भारतीय को जागरूक करना इस दिवस का मुख्य उद्देश्य होता है। इस दिवस पर उन्हें यह समझाया जाता है कि बेटियां किसी पर बोझ नहीं होती है, बल्कि वह भी आपके आंगन का एक अहम हिस्सा होती हैं।

बेटी दिवस कैसे मनाया जाता है

बेटी दिवस के अवसर पर उन्हें खुश करने के लिए उनको उपहार, गिफ्ट दिया जाता है। उन्हें बाहर खाना खिलाने और फिल्म दिखाने ले जा सकते हैं। उनकी इच्छाओ को पूरा कर सकते हैं और सबसे जरूरी और अहम उन्हें यह महसूस करा सकते हैं कि आपकी बेटियां आपके लिए बोझ नहीं है बल्कि वे बहुत स्पेशल है ।

उन्हें आप ऐसा फील करा सकते हैं कि बेटीया आपके ऊपर बोझ नहीं है बल्कि आपके घर की लक्ष्मी है। यह दिन बेटियों के लिए होता है, उन्हें प्यार जताने के लिए होता है जिसे राष्ट्रीय बेटी दिवस के रूप में मनाया जाता है। पहले के समय में लोग बेटियों पर जो जुल्म करते थे, उस बात से हर कोई वाकिप है लेकिन आज के समय में ऐसा बिल्कुल नहीं है और कुछ जगह है भी तो उसे मिटाने की हर संभव कोशिश की जा रही है। आजकल लोग बेटियों को भी उतना मान देते हैं जितना मान वह अपने बेटों देते हैं। ओर जब-जब बेटियों को मौका मिला है उन्होंने अपना, अपने परिवार का और इस देश का हर कदम पर नाम रोशन किया है और कर रही है। बेटियों ने यह साबित करके दिखा दिया है कि वह किसी से कम नहीं है। बेटी भी वह सब कर सकती है जो कि बेटे कर सकते हैं ।

आशा करते हैं, बेटी दिवस के ऊपर यह लेख आपको पसंद आया और इस Daughter Day आप भी अपनी बेटी को खुश करने का हर संभव प्रयास करेंगे और उसे स्पेशल होने का एहसास जरूर दिलाएंगे। आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद। इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, लाइक करें और कमेंट करें। हमें आपके Comments का इंतजार रहेगा।

एक Journalist होने का सम्मान पाएं: जानिए, पत्रकारिता में करियर कैसे बनायें।

0
एक Journalist होने का सम्मान पाएं: जानिए, पत्रकारिता में करियर कैसे बनायें।
एक Journalist होने का सम्मान पाएं: जानिए, पत्रकारिता में करियर कैसे बनायें।

पत्रकारिता में करियर विकल्प की बात करें तो वर्तमान के समय में जर्नलिज्म यानी कि पत्रकारिता के क्षेत्र में आप चाहे तो बहुत अच्छा करियर बन सकता है। आज के समय में हर दिन नए-नए टीवी चैनल और न्यूज़पेपर लांच हो रहे हैं। और इनके owners बड़े-बड़े शहर में अपने जर्नलिस्ट नियुक्त करते हैं। इन सब में आप आसानी से नौकरी पा सकते हैं। साथ ही आप पत्र – पत्रिकाओं में भी जर्नलिस्ट के तौर पर अपनी सेवा दे सकते हैं। इस समय के दौड़ में तो ज्यादातर ऑनलाइन मीडिया का ही बोलबाला है। इसे डिजिटल मीडिया या न्यूज़ मीडिया कहा जाता है और इसके अंतर्गत न्यूज़ पोर्टल, न्यूज़ वेबसाइट etc आते हैं। आजकल देखा जाए तो आए दिन न्यूज पोर्टल लॉन्च होते रहते है और इन न्यूज पोर्टल्स में आप आसानी से नौकरी ले सकते हैं।

इतनी तेजी से, इतना ज्यादा संख्या में न्यूज़ पोर्टल्स बनने के पीछे कारण यही है कि इस मीडिया के माध्यम में खर्च बहुत कम होता है। कोई भी चाहे तो 10 हज़ार की लागत में न्यूज़ पोर्टल डिजाइन करके इसे शुरू कर सकता है।

एक Journalist होने का सम्मान पाएं: जानिए, पत्रकारिता में करियर कैसे बनायें।

इन सब में आप नौकरी तलाश कर सकते हैं। इन सभी के अलावा आप सरकारी न्यूज़ चैनल मीडिया हाउस में भी नौकरी कर सकते हैं। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, प्रिंट मीडिया या ऑनलाइन मीडिया इन सभी में जर्नलिस्ट की बहुत डिमांड रहती है। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में न्यूज़ चैनल्स आते हैं, प्रिंट मीडिया में न्यूज़पेपर, पत्र, पत्रिकाएं आते हैं और ऑनलाइन मीडिया में न्यूज़ पोर्टल  और वेबसाइट इत्यादि आते हैं। अगर आप में एक अच्छे जर्नलिस्ट का टैलेंट आ जाता है तो आपको किसी अच्छे खासे चैनल में नौकरी मिल जाएगी। 

आईए अब जानते हैं जर्नलिस्ट बनने के कोर्स के बारे में

जर्नलिस्ट या पत्रकार बनने के लिए आप डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन, पीजी डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन, बैचलर इन मास कम्युनिकेशन, मास्टर इन मास कम्युनिकेशन, डिप्लोमा इन जर्नलिज्म डिग्री इत्यादि कोर्स कर सकते हैं।

डिप्लोमा कोर्स

Diploma course के अन्दर डिप्लोमा इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, डिप्लोमा इन जर्नलिज्म, डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन, डिप्लोमा इन ब्राउन फास्ट, डिप्लोमा इन वेब मीडिया या ऑनलाइन मीडिया, डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, डिप्लोमा इन प्रिंट मीडिया इत्यादि कोर्स आते हैं। आप अपने इच्छानुसार, इन मे से बेस्ट कोर्स को कर सकते हो और जॉर्नलिस्ट बनने के अपने सपने को साकार कर सकते हैं।

डिग्री कोर्स

डिग्री कोर्स में बैचलर इन मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म, बैचलर इन मास कम्युनिकेशन, बैचलर इन जर्नलिज्म, बैचलर इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म इत्यादि कोर्सेज को किया जा सकता है, जॉर्नलिस्ट बनने के लिए।

PG डिप्लोमा कोर्स

PG डिप्लोमा इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, PG डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन, PG डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म, PG डिप्लोमा इन जर्नलिज्म।

मास्टर डिग्री कोर्स

मास्टर्स इन मास कम्युनिकेशन,  मास्टर्स इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, एमएससी मास कम्युनिकेशन इत्यादि। अब जानते है, जॉर्नलिस्ट का कोर्स करने के लिए हमारे पास क्या क्या योग्यताए होनी चाहिए।

जर्नलिस्ट कोर्स के लिए योग्यता

जर्नलिस्ट का कोर्स करने के लिए आपको किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास होना पड़ेगा। इसके बाद आप जर्नलिस्ट में  डिप्लोमा या डिग्री कोर्स कर सकते हैं।

पत्रकारिता में मास्टर डिग्री लेने के लिए आपसे जर्नलिज्म में बैचलर डिग्री मांगी जाती है। लेकिन कुछ कॉलेजों में BA या BSc के बाद मास्टर डिग्री कोर्स कर सकते हैं।  

किसी अच्छे कॉलेज में दाखिला ले

अगर आप पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना भविष्य उज्जवल बनाना चाहते हैं, अपना करियर बनाना चाहते हैं। तो आपको किसी जाने-माने कॉलेज से इसका कोर्स करना चाहिए। क्योंकि आजकल के समय में ऐसे बहुत से कॉलेजेस हैं, जहां जर्नलिज्म कोर्स कराए तो जाते हैं लेकिन उन कॉलेजों में ना तो इनकी अच्छी फैसिलिटी होती है और ना ही वह स्टूडेंट को सारे चीजों की प्रैक्टिकली जानकारी दे पाते हैं। इस तरह से आपका ही नुकसान होगा क्योंकि किसी भी चीज को करने में जो सबसे जरूरी होता है, वह होता है टैलेंट। जिस फील्ड में आप जाना चाहते हैं उस फील्ड की पूरी जानकारी होनी बहुत जरूरी है। अगर आपके पास जानकारी ही नहीं होगी तो आप उसमें कुछ भी अच्छा नहीं कर पाएंगे। इसीलिए किसी भी कॉलेज में एडमिशन लेने से पहले आप वहां की फैसिलिटी और केंपस प्लेसमेंट की सारी जानकारी जरूर हासिल कर लें।

जर्नलिस्ट बनने के लिए कुछ खास क्वालिटी, जो आपमें होनी चाहिए –

* भाषा पर आपकी अच्छी पकड़ होनी चाहिए।

* आपकी लिखावट भी अच्छी होनी चाहिए।

* टाइपिंग, कंप्यूटर नॉलेज आपके पास होना चाहिए।

* किसी भी न्यूज़ को जल्दी से समझने की क्षमता आपके अंदर होनी चाहिए।

* न्यूज़ को विश्लेषण करने की क्षमता भी होनी चाहिए।

* आपको निडर होना पड़ेगा।

* साथ ही आपको साहसी और ईमानदार होना पड़ेगा।

* विषम परिस्थितियों में भी काम करने की क्षमता।

* न्यूज़ रिपोर्ट, न्यूज़ राइटिंग, न्यूज़ एडिटिंग,फोटोग्राफी की कला।

* समय का पाबंद होना पड़ेगा।

* करेंट मुद्दों की सारी जानकारी।

* न्यूज़ को शार्ट बनाने की योग्यता।

आप चाहे तो किसी गवर्नमेंट कॉलेज या यूनिवर्सिटी से मास कम्युनिकेशन का कोर्स कर सकते हैं। बहुत से न्यूज़ चैनल के भी मीडिया कॉलेज होते हैं। आप चाहे तो वहां से भी इस कोर्स को कर सकते हैं। नीचे हम आपको कुछ कॉलेज के नाम बता रहे हैं, जहां से आप यह कोर्स कर सकते हैं।

★दिल्ली यूनिवर्सिटी

★अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी 

★इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी 

★इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, दिल्ली ★भारतीय विद्या भवन, दिल्ली

★गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़

★माखन लाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी, भोपाल

★गुरु घासीदास यूनिवर्सिटी, बिलासपुर छत्तीसगढ़

★व्हिसलिंग वुड्स इंटरनेशनल, मुंबई

★सिंबोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, पुणे

★चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी

★मनोरमा स्कूल ऑफ कम्युनिकेशन, केरल

★हैदराबाद यूनिवर्सिटी
फीस कितनी लगती है

अगर फीस की बात करें तो प्राइवेट कॉलेज में अगर आप पढ़ने जाते हैं, तो आपको 50 हजार से लेकर लगभग एक लाख तक फीस प्रतिवर्ष लग सकता है। अगर आप ज्यादा फीस देने में  सक्षम ना हो तो आप सरकारी कॉलेज से जर्नलिज्म का कोर्स कर सकते हैं। सरकारी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में इसकी फीस बहुत कम होगी। सरकारी कॉलेज में, 10 हजार से लेकर 30 हजार रुपए प्रति वर्ष लग सकता है।

जर्नलिज्म कोर्स में एडमिशन कैसे ले

सरकारी कॉलेजों में एडमिशन, एंट्रेंस टेस्ट के माध्यम से होता है। लेकिन कुछ सरकारी कॉलेजों में मेरिट के आधार पर ही एडमिशन मिल जाती है। वही प्राइवेट कॉलेजों में डायरेक्ट भी एडमिशन हो जाता है।

कोर्स करने के बाद जरूरत पड़ती है नौकरी ढूंढने की।

जर्नलिस्ट का कोर्स करने के बाद आपको किसी अच्छे मीडिया हाउस में इंटर्नशिप करनी चाहिए। अगर आप इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में जाना चाहते हैं तो आप किसी न्यूज़ चैनल में इंटर्नशिप कर सकते हैं। अगर आप प्रिंट मीडिया में नौकरी करना चाहते हैं तो आप किसी अच्छे न्यूज़पेपर में इंटर्नशिप कर सकते हैं। अगर आप वेब मीडिया में काम करना चाहते हैं तो आपको किसी न्यूज़ पोर्टल में इंटर्नशिप करना चाहिए। लोग अक्सर यही गलती कर बैठते हैं उनको जाना कही और रहता है और इंटर्नशिप कही और कर बैठते हैं।

जर्नलिस्ट के काम

किसी भी पत्रकार का काम बहुत चुनौतीपूर्ण होता है। किसी भी रिपोर्टर को बाढ़, तूफान, टेरेरिस्ट अटैक इत्यादि सब की रिपोर्टिंग करनी होती है, साथ ही सरकार के काम-काज पर भी नजर रखनी होती है। किसी भी पत्रकार का मुख्य कार्य होता है न्यूज़ तलाशना और उन्हें इकट्ठा करना। इस काम को करने के लिए उन्हें फील्ड में जाना पड़ता है। फिर उस न्यूज़ को कंप्यूटर पर लिखना होता है। उसके बाद ही वह न्यूज़ समाचार, टेलीविजन, रेडियो, न्यूज़ पोर्टल इत्यादि के माध्यम से लोगों के पास पहुंचती है। न्यूज़ में कैमरामैन, एडिटर, फोटोग्राफर सब का योगदान होता है।

हर एक परिस्थिति में एक रिपोर्टर को बिना डरे, फील्ड में उतरना होता है। जान की परवाह किए बिना न्यूज़ हासिल करना होता है। चाहे वह कोई भी जगह हो उस जगह पर  जर्नलिस्ट को पहुंचना होता है। और न्यूज़ हासिल करनी होती है। ऐसे में अगर आपके अंदर पत्रकारिता का जुनून है तो ही आप इस फील्ड में कदम रखें। नहीं तो आप अपना पैसा और टाइम बर्बाद ना करें। पत्रकारिता करना आसान बात नहीं होता है। क्योंकि यहां पर आपकी जान जोखिम में रहती है। आपको बड़े बड़े क्रिमिनल, बेईमान, भ्रष्टाचारी नेता, डाकू के खिलाफ भी समय आने पर लिखना होता है। भयंकर से भयंकर परिस्थिति में भी आपको काम करना पड़ सकता है। इसीलिए अगर आप मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से पत्रकारिता के लिए तैयार हैं। तो ही आप इस फील्ड में कदम रखें। अगर आपके पास कोई न्यूज़ है तो आप पैसे लेकर इसे कभी भी मत दबाइए हमेशा मेहनत और ईमानदारी के साथ काम करते रहिए। समाज में भ्रष्टाचार को उजागर करने में जर्नलिस्ट का बड़ा हाथ होता है। इसीलिए अपने कर्तव्य के प्रति ईमानदार रहिए आपको अवश्य सफलता मिलेगी। आशा है आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी और अगर आप एग्जाम लिस्ट बनने का सपना रखते हैं तो अब आपको इस बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी और आपका सारा डाउट क्लियर हो गया होगा अगर आपका कोई सवाल है सुझाव है तो कमेंट करके जरूर बताएं

जानिए वकील बनने का सही Process: अपने नाम के आगे Advocate कैसे जोड़े।

0
जानिए वकील बनने का सही Process: अपने नाम के आगे Advocate कैसे जोड़े।
जानिए वकील बनने का सही Process: अपने नाम के आगे Advocate कैसे जोड़े।

आज के दौर में हर कोई करियर के लिए भागता है और चाहता है कि वह लाइफ में कुछ अच्छा और बड़ा करके अपना नाम रोशन करें। बहुत से लोग ऐसे हैं जो लॉयर बनने का सपना रखते हैं लेकिन समझ नहीं पाते हैं कि लॉयर कैसे बने। आज हम आपको इसी बारे में बताएंगे। आज के इस पोस्ट हम आपको वकील बनने के बारे में सारी जानकारी देंगे।

ऐसे कितने ही लोग हर साल वकालत की पढ़ाई पूरी करते हैं। लेकिन उनमें से कुछ ही वकील बन पाते हैं और बेहतर एडवोकेट कहलाते हैं। इसीलिए इस बारे में पूरी जानकारी होना बहुत जरूरी है।

दोस्तों, LLB का फुल फॉर्म होता है “Lagum Baccalaureus” जो लेटिन भाषा का शब्द है। अपने भाषा में इसको बैचलर ऑफ लॉ (Bachelor of Laws) बोलते हैं। यह एक बैचलर डिग्री होता है, जो हम 12वीं पास करने के बाद कर सकते हैं। इसमें कानून के बारे में पढ़ाया जाता है। अगर आपको लगता है कि पुलिस ने जिस अपराधी को पकड़ा है वह अपराधी नहीं है तो आप उसके तरफ से लड़कर उसे बचा सकते हैं। उसे ही वकील कहते हैं, किसी भी देश के वकील को अपने देश के कानून के बारे में सब कुछ पता होना चाहिए। वेसे भी अगर किसी को कानूनी किसी चीज की जानकारी चाहिए होती है, तो हम वकील को ही बुलाते हैं। यानी कि जब आप LLB की पढ़ाई पूरी कर लेते हैं तो आप एक वकील बन जाते हैं। यानी कि आपको कानून के बारे में सब कुछ पता होता है। उसके बाद आप अपनी मेहनत से कोर्ट में जज भी बन सकते हैं।

★ वकील बनने के लिए कोर्स

वकील का कोर्स दो तरह का होता है। एक 5 साल का होता है और दूसरा 3 साल का होता है। अगर आप 12वीं कक्षा पास करने के बाद सीधे Law की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपको 5 साल का कोर्स पढ़ना पड़ेगा। और अगर आप 3 साल का कोर्स करते हैं तो आपको पहले ग्रेजुएशन पूरा करना होगा। फिर आपको 3 साल का LLB का कोर्स पूरा करना होगा।

जानिए वकील बनने का सही Process: अपने नाम के आगे Advocate कैसे जोड़े।

★ वकील बनने के लिए योग्यता

* अगर आप वकालत की पढ़ाई करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको किसी भी स्ट्रीम(Arts /science) से 12वीं पास करना पड़ेगा।

* अगर आप 12वीं के बाद वकालत की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आपको 5 साल का कोर्स करना पड़ेगा। 12वीं में आप हो कम से कम 50% मार्क लाने होंगे।

* अगर आप 3 साल के वकालत का कोर्स करना चाहते हैं तो आपके पास किसी भी स्ट्रीम Arts /science से ग्रेजुएशन का डिग्री होना पड़ेगा। ग्रेजुएशन में आपको कम से कम 50% मार्क्स लाने होंगे।

★ लॉ की पढ़ाई करने के लिए 12वीं के बाद (CLAT) एंट्रेंस एग्जाम

12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद आपको वकील बनने की पढ़ाई करनी पड़ती है। इसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है। ऑल इंडिया लेवल पर भारत में CLAT एग्जाम बहुत पॉपुलर है। जिसका पूरा नाम होता है (कॉमन लॉ ऐडमिशन टेस्ट)। इस एग्जाम को देने के बाद आपको लॉ कॉलेज में एडमिशन लेना पड़ता है, जो पूरे 5 साल का कोर्स होता है। CLAT एग्जाम में एक कॉमन टेस्ट लिया जाता है,जिसमें आपसे इंग्लिश, रीजनिंग, मैथ, जनरल नॉलेज के बारे में पूछा जाता है।

★ पढ़ाई पूरी करने के बाद

जब आप लॉ की पढ़ाई खत्म कर लेंगे। उसके बाद आपको इंटर्नशिप करनी होगी। इंटर्नशिप के दौरान आपको कोर्ट-कचहरी के बारे में सब कुछ सिखाया जाता है। जैसे कि कोर्ट की hearing कैसे होती है, दो वकील कैसे बहस करते हैं, इन सब जानकारी के लिए आपको इंटर्नशिप करनी होती है।

जब आप इंटर्नशिप कर लेते हैं। उसके बाद आप किसी भी स्टेट बार काउंसिल (State bar council) में जाकर अपने आप को Enroll करना होता है। Enroll करने के बाद आपको ऑल इंडिया बार एग्जामिनेशन (All India bar Examination) से गुजरना होगा। यह एग्जाम बार काउंसिल ऑफ इंडिया (bar council of India) के द्वारा कंडक्ट कराया जाता है। जब इसे पास कर लेते हैं, तो आपको एक प्रैक्टिस का सर्टिफिकेट मिलता है और इसके बाद आपकी LLB कोर्स यानी कि वकील बनने की पढ़ाई पूरी हो जाती है। ऐसा करने के बाद आपको अपनी प्रैक्टिस को जारी रखना पड़ती है।

★ लॉयर बनने के लिए कुछ जरूरी गुण जो आप में होने चाहिए

* याददाश्त शक्ति! आपकी याददाश्त शक्ति थोड़ी तेज होनी पड़ेगी।

* आसपास हो रहे घटनाओं के बारे में थोड़ा-बहुत जानकारी रखना पड़ेगा।

* हर एक बात को ध्यान से सक्रिय होकर सुनने की कला।

* समय प्रबंधन।

* इंग्लिश में मजबूत पकड़।

* हमेशा सही फैसला लेने की क्षमता।

* तार्किक और विश्लेषणात्मक व्यक्तित्व।

* बहुत सोचने की क्षमता, लेखन की कला।

* दूसरों के साथ बातचीत करने का तरीका और अपना पक्ष रखने का तरीका।

* तत्काल सोच।

अगर आपके अंदर यह सब क्वॉलिटी नहीं है या थोड़ी बहुत है तो, आप समय के अनुसार इन सब पर ध्यान देकर इन सारे क्वालिटी को अपने अंदर डेवलॅप कर सकते हैं।

★ एलएलबी के पढ़ाई के दौरान आप को  इन विषयों की शिक्षा दी जाती है।

* Human Rights law

* Environnemental law

* Banking Law

* business law

* International Trade

* company law

* family law

* criminal law

* constitutional law

* intellectual property law

* information technology Law

* Law of taxation

* insurance law

* Administrative law

* Humanitarian and Refugee law

* labour and industrial law

* law Relating to women and children

★ भारत के कुछ Top law colleges

* नेशनल लॉ स्कूल आफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर 

* नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली 

* नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल 

* NALSAR यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, हैदराबाद 

* WB नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जुडिशल साइंस, कोलकाता 

* फैकल्टी ऑफ लॉ यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली

* सिंबोसिस लॉ स्कूल, पुणे 

* नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर 

* गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, गांधीनगर

* राजीव गांधी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ  

* अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ 

* जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल, सोनीपत 

* नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ एडवांस्ड लीगल स्टडीज, कोच्चि

* बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, वाराणसी

आशा है आपको वकील बनने केे प्रोसेस के बारे में स्टेप बाय स्टेप पता चल गया होगा। साथ ही आपने यह भी डिसाइड कर लिया होगा कि आपको Law कैसे और किस कॉलेज में करनी है। अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई तो इसको एक लाइक जरुर करें।

कोरोना मरीजों के लिए बहुत कारगर हैं ये मशीनें, जानिए कैसे बचाई जा सकती है कोरोना मरीजों की जान

0

कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या से अस्पतालों में बेड की समस्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में ऑक्सीजन थेरेपी होम आइसोलेट मरीजों के लिए काफी कारगर साबित हो सकती है। इस सुविधा के बाद से अस्पतालों में बेड की समस्या भी दूर होगी। साथ ही होम आइसोलेट में अगर मरीजों को सांस लेने में परेशानी होगी तो उनका तत्काल इलाज भी घर पर ही शुरू हो सकेगा। आईएमए ऑक्सीजन थेरेपी की सुविधा के लिए प्रयासरत भी है, जिससे की मरीजों की जान बचाई जा सके।

होम आइसोलेशन की सुविधा जब से शुरू हुई है, तब से प्रशासन को काफी हद तक राहत मिली है। डॉक्टरों का मानना है कि अगर लेवल-टू और थ्री के मरीजों की स्क्रीनिंग सही तरीके से घर पर हो जाए, तो करीब 20 प्रतिशत बेड और खाली हो जाएंगे। लेकिन इसके लिए ऑक्सीजन थेरेपी की सुविधा शुरू करनी होगी।

आईएमए के अध्यक्ष डॉ. एसी कौशिक ने बताया कि होम ऑक्सीजन थेरेपी से अस्पतालों में कम बेड से भी काम चलाया जा सकता है। इसके लिए मेडिकल छात्रों और नर्सिंग छात्रों को प्रशिक्षित करने की जरूरत है। बताया कि इस सुविधा के लिए प्रयासरत हैं। इससे काफी हद तक मरीजों को राहत मिलेगी और ऑक्सीजन लेवल कम होने से मरीजों की जान नहीं जाएगी।

ऑक्सीजन थेरेपी के लिए इन मशीनों की होगी जरूरत

होम आइसोलेट मरीजों के शरीर में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया को ऑक्सीजन थेरेपी कहते हैं। इसके लिए ऑक्सीमीटर मशीन और ऑक्सीजन कंसट्रेट मशीन की जरूरत होगी। यह मशीन बिजली और बैटरी दोनों से चलते हैं। इन मशीनों से ऑक्सीजन का लेवल शरीर में नापा जा सकता है। जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन दिया भी जा सकता है।

इस स्थिति में जा सकती है मरीज की जान

बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के चेस्ट विभागाध्यक्ष डॉ. अश्वनी मिश्रा ने बताया कि जिन मरीजों को पहले से कोई बीमारी है। जैसे शुगर, बीपी या फिर ह्रदय रोग से संबंधित, तो ऐसे मरीजों पर कोरोना का असर सबसे ज्यादा है। ऐसी स्थिति में फेफड़ों का काम करना कम हो जाता है और धमनी रक्त में ऑक्सीजन का दबाव भी कम हो जाता है। इसकी वजह से शरीर के दूसरे हिस्से में जाने वाले रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है और मरीजों की जान भी चली जाती है। ऐसी स्थिति में मरीजों को तत्काल ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। आनन-फानन में परिजन अस्पताल ले जाने की कोशिश करते हैं, लेकिन तब तक केस बिगड़ जाता है।

उन्होंने बताया कि इस समस्या से निपटने के लिए पोर्टेबल ऑक्सीजन सिलेंडर और ऑक्सजीन नापने के लिए पल्स ऑक्सीमीटर सहारा है। यह मशीनें बाजार में उपलब्ध भी हैं। आइसोलेट मरीज इसे जरूर रखें।

90 से कम हो तो तत्काल डॉक्टर के पास ले जाएं

डॉ अश्वनी मिश्रा ने बताया कि उम्रदराज लोगों में ऑक्सीजन की जरूरत ज्यादा होती है। सामान्य तौर पर पल्स ऑक्सीमीटर यदि ऑक्सीजन लेबल 95 से 100 तक दिखाए तो घबराने की जरूरत नहीं है। यह 95 से 80 तक है तो हाइपोक्योसोमिया या ब्लड टिश्यू में ऑक्सीजन की कमी है। ऐसे में ऑक्सीजन देना जरूरी है। कोरोना के मरीजों में 90 से कम होते ही डॉक्टर के पास तत्काल जाएं।

डॉक्टरों एवं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) द्वारा कोरोना मरीजों हेतु सुझाये गए उपरोक्त सभी जरूरी उपकरण और ऑक्सीजन सिलिंडर कम्पलीट सेट के साथ श्री बालाजी ट्रेडर्स, गांधी गली, गोलघर, गोरखपुर में उचित दाम पर उपलब्ध हैं।

बता दें कि श्री बालाजी ट्रेडर्स, पूर्वांचल के सबसे बड़े मेडिकल गैस निर्माता और सप्लायर हैं। जिनकी मेडिकल गैस की फैक्ट्री मयूर गैसेस प्रा0लि0 संतकबीरनगर में स्थित है।

श्री बालाजी ट्रेडर्स गोलघर, गोरखपुर में सभी प्रकार के ऑक्सीजन गैस सिलिंडर, किराए पर या बिक्री हेतु उपलब्ध हैं। यहां से पूर्वांचल के लगभग सभी अस्पतालों एवं एम्बुलेंस हेतु मेडिकल गैस की निरतंर सप्लाई की जाती है। यहाँ पर मरीजों के निजी इस्तेमाल हेतु ऑक्सीजन गैस स्टैण्डर्ड या पोर्टेबल साइज में भी उपलब्ध है।

मालूम हो कि कोरोना महामारी के इस संक्रमण के दौर में भी श्री बालाजी ट्रेडर्स गोरखपुर का मैनेजमेंट एवं स्टाफ कोरोना वारियर्स की तरह अपनी जान की परवाह किये बिना विगत 4 माह से पूर्वांचल के सभी अस्पतालों, एम्बुलेंस व मरीजों को ऑक्सीजन गैस की लगातार आपूर्ति कर रहा है।

श्री बालाजी ट्रेडर्स, गोलघर, गोरखपुर पर आपको कोरोना महामारी से बचाव हेतु निम्न सभी उपकरण उपलब्ध हैं-

1. सभी प्रकार के मेडिकल गैस सिलिंडर, स्टैण्डर्ड व पोर्टेबल साइज में कम्पलीट सेट (FA Valve+Regulator+Spanner+Oxygen Mask (adult+child)

2. ऑक्सीजन कॉन्सन्ट्रेटर (Rent या Sell)

3. पल्स ऑक्सिमीटर

4. टेम्परेचर स्कैनर

5. नैनो मिस्ट स्प्रे

6. आटोमेटिक सेनिटाइजर डिस्पेंसर

7. सभी प्रकार के प्रोटेक्शन मास्क

8. बीपी मॉनिटर

9. शुगर टेस्टिंग किट

10. फेस शील्ड

11. पीपीई किट

12.सेनिटाइजर

ये जरूर पढ़ें- घर पर ऑक्सीजन सिलिंडर कैसे इस्तेमाल करें?

उपरोक्त सभी उपकरण व किट खरीदने हेतु आप निम्न नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं-

9415315830
8736000332
E-mail- sbtgkp@gmail.com
www.shreebalajee.in

गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।

0
गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।

गर्भ संस्कार। दोस्तों! क्या इससे पहले आप लोगों ने कभी गर्भ संस्कार शब्द सुना है या इसके बारे में जानते हैं? अगर हां, फिर तो बहुत अच्छी बात है लेकिन अगर नहीं तो आज आपको गर्भ संस्कार के बारे में सब कुछ इस आर्टिकल के माध्यम से पता चलने वाला  है। गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।

दुनिया में आज भी ऐसे बहुत लोग हैं जिनको गर्भ संस्कार के बारे में पता होना तो दूर यह शब्द भी कभी उन लोगों ने सुना नहीं होगा। लेकिन एक हिंदू होने के नाते हम लोगों को शास्त्र ज्ञान का पूरा Knowledge ना सही, लेकिन थोड़ा बहुत ज्ञान तो होना ही चाहिए।

दोस्तों गर्भ संस्कार शब्द भी हमारे शास्त्रों के साथ ही जुड़ा हुआ है हमें आशा है कि आप भी गर्भ संस्कार के बारे में जानने को इच्छुक हैं और इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ेंगे। आज के इस पोस्ट में हम ना सिर्फ गर्भ संस्कार क्या है, यह बताएंगे बल्कि गर्भ संस्कार का महत्व क्या है एक बच्चे के जीवन में यह भी आप लोगों को सरलता के साथ समझाएंगे। उसी के साथ हम यह भी बताएंगे की गर्भ संस्कार के लिए जरूरी बातें कौन सी है। अब ज्यादा समय ना गवांते हुए चलिए गर्भ संस्कार के बारे में जानते हैं। आर्टिकल शुरू करने से पहले हम आप सभी से यह कहेंगे कि गर्भ संस्कार के बारे में पूरा ज्ञान लाभ करने के लिए आप लोग इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़िए।

गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।

गर्भ संस्कार क्या है :

दोस्तों, हम सभी को पता है कि हर मा- बाप अपने बच्चों को एक अच्छे इंसान बनते देखना चाहते हैं। और एक बच्चा आगे चलकर कैसा इंसान बनेगा यह बात पूरी तरह से निर्भर करता है इस बात पर कि बच्चे को कैसे संस्कार दिए जाए। लेकिन हम सभी को सिर्फ इतना ही पता है कि बच्चे को बचपन से ही संस्कार दिए जाते हैं क्या लेकिन क्या हम इस बात से अवगत है कि बच्चे को माता के गर्भ ने आने से पूर्व से ही संस्कार दिए जाते हैं। जी हां, दोस्तों! सुनने में थोड़ा अजीब लगता है लेकिन यह बात पूरी तरह से सच है कि बच्चे को गर्भ से ही संस्कार दिए जाते हैं और उसी को गर्भ संस्कार कहा जाता है। 

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारे शास्त्रों में भी सोलह संस्कार का वर्णन किया गया है। और उन्हीं में से एक गर्भ संस्कार भी है।एक शिशु आगे चलकर अपने जीवन में कैसा आदमी बनेगा, समाज मे कैसा उदाहरण प्रस्तुत करेगा, इसके लिए काफी हद तक गर्भ संस्कार की भी जिम्मेदारी होती है। हम सभी जानते हैं कि एक बच्चे को संस्कार देने के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार माता होती है।  जब एक बच्चा मा के गर्भ में रहता है तब उसकी मा कैसा आचरण करती है, कैसी विचारधारा अवलंबन करती है, क्या सोचती है, कैसा खान-पान अपनाती है, किस तरह के सोच मन में लाती है यह सभी बातें गर्भ में पल रहे बच्चे की मानसिकता निर्माण के लिए जिम्मेदार होते हैं। 

गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।
गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।

गर्भ संस्कार की शुरुआत कब से करनी चाहिए :

आपको बता दें कि गर्भ संस्कार गर्भधारण के 3 महीने पहले से ही शुरू हो जाती है। जब कोई दंपत्ति संतान प्राप्ति के लिए मन बना रहा हो, तभी से उनको अपने मनोदशा, विचार ,खानपान इत्यादि में सावधानी लानी चाहिए। जब बच्चा गर्भ में आ जाता है तो शुरू के 3 महीने तक माता का खानपान और मनोदशा का विशेष ध्यान रखना चाहिए ताकि बच्चे का विकास पूरी तरह से हो सके। और प्रसव के 6 महीने पहले से माता को ऐसी चीजों में मन लगाना चाहिए जो धार्मिक हो, अच्छा हो, नैतिक हो, सभ्य हो। इस समय माता को कोई गलत विचार मन में नहीं लाना चाहिए क्योंकि जिस तरह से मा सोचती है, करती है बच्चा अपना चरित्र उसी तरह से Build कर लेता है और आगे चलकर उसका असर बच्चे पर देखने को मिलता है। कुल मिलाकर कहे तो गर्भ में आने से 3 महीने पूर्व से लेकर प्रसव तक हम अपने विचार आचरण द्वारा बच्चे को जिस दिशा में ढालते हैं, जो संस्कार उसको देते हैं। उसी को गर्भ संस्कार कहा जाता है।

गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।
What is pregnancy? complete information.

एक गर्भवती मां के लिए ध्यान रखने लायक कुछ खास बातें 

खानपान का रखें ध्यान :

जब कोई औरत गर्भवती होती है तो उसको सबसे ज्यादा ध्यान अपने खान-पान का रखना होता है। क्योंकि खानपान सही तरह से ना होना बच्चे की शारीरिक विकास में रुकावट पैदा कर सकता है। जिससे आगे चलकर बच्चे को आजीवन परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। इसीलिए होने वाली मा को अपने खान-पान का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए।

कोई भी तनाव मन में ना आने दे :

जब कोई औरत गर्भवती हो तो उसको तनाव में भी मुस्कुराने की आदत डाल लेनी चाहिए। और कुछ ना सही फिर भी अपने बच्चे के लिए उसको अपने मन से तनाव को जितना हो सके दूर रहना चाहिए। क्योंकि गर्भवती मा के तनाव का असर बच्चे पर काफी बुरा पड़ता है जिसका अंदाजा उस समय तो नहीं होता लेकिन बच्चे के पैदा होने के बाद बच्चे का स्वास्थ्य अच्छी तरह से एहसास दिला देता है।

बच्चे से बात करते रहे समय समय पर :

क्या आपको पता है कि जब गर्भ में बच्चा 6 महीने का हो जाता है तब वह बाहर की आवाज सुनने और समझने लगता है। इसीलिए मा का फर्ज है कि वह अपने बच्चे से बात करें और उसे अच्छी-अच्छी बातें कहें। इससे उसके दिमाग का विकास तेजी से होगा और जिस तरह की बातें उस time पर मा अपने बच्चे से करेगी, बच्चे की मानसिकता उसी तरह से बनति जाएगी।

पूजा पाठ करें :

इस समय पर गर्भवती औरत के लिए पूजा पाठ करना उसके और उसके बच्चे दोनों के लिए काफी सकारात्मक साबित होगा। क्योंकि हम सभी को पता है कि पूजा पाठ करने से हमारे अंदर आध्यात्मिक भावना की उन्नति होती है और नकारात्मक सोच हम से कोसों दूर चली जाती है। इसीलिए ऐसे  समय पर पूजा पाठ करने से मां और बच्चे दोनों के विचार और शारीरिक स्वास्थ्य पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा ।

ग्रंथो का अध्ययन करें, जीवनी पढ़े :

गर्भधारण के समय नारी को समय निकालकर ग्रंथों को अध्ययन करना चाहिए, महान पुरुषों की जीवनी पढ़नी चाहिए। ऐसा करने से बच्चा ना सिर्फ स्वस्थ और तंदुरुस्त रहेगा बल्कि उसका दिमाग भी अपने आपको इसी तरह से ढालने की कोशिश करेगा। हमने आपको पहले ही बताया कि गर्भ में आने के 3 महीने बाद से ही बच्चा बाहरी आवाज सुनने और समझने लगता है। तो इस तरह से जीवनी और ग्रंथों का पढ़ना बच्चे के दिमाग के विकास में काफी सकारात्मक परिणाम लाएगा।

दोस्तों यह तो हो गई गर्भ संस्कार के लिए एक मा की भूमिका लेकिन जब बच्चा माता-पिता दोनों का है, तो पिता का भी तो कुछ फर्ज बनता है अपने बच्चे के प्रति। तो आइए अब जानते हैं कि गर्भ संस्कार में एक पिता की क्या भूमिका होनी चाहिए।

गर्भ संस्कार में एक पिता की जिम्मेदारी

अपने बच्चे की माता का रखें पूरा ध्यान 

जब एक औरत मा बनने वाली होती है या बनती है तो हजारों परेशानी उसके इर्द-गिर्द घूमती रहती है। उसको काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, एक जीव को इस दुनिया में लाने के लिए। ऐसे में अगर अपने जीवन साथी का साथ मिल जाए, तो यह मुश्किल वक्त भी आसानी से गुजर जाते हैं। और अगर गर्भवती होने के समय औरत खुश रहे तो बच्चा भी healthy पैदा होता है यह हम सभी को पता है। 

ऐसे में एक पति का फर्ज है कि वह अपनी पत्नी का पूरा ध्यान रखें। ध्यान रखने से मतलब सिर्फ उसकी जरूरतों को पूरा कर देना ही नहीं है, उसके मानसिक अवस्था का भी पूरा ध्यान रखने की कोशिश करें। अपने आचरण और व्यवहार से अपनी पत्नी को पूरी तरह से खुश रख, अपनी पत्नी को कहीं घुमाने ले जाए, अच्छी बातें करें, प्यार दें,  उसको हर पल अपने साथ होने का एहसास दिलाये। तभी बच्चा दुनिया में खुशी खुशी आ पाएगा।

बच्चे को अपने होने का भी एहसास दे

 जब बच्चा गर्भ में होता है तो उसके अंदर भी एक छोटा सा प्राण होता है, जो हर बात को समझ सकता है। ऐसे में होने वाले माता के गर्भ पर हाथ रखना, अपने बच्चे से बातें करना, उस बच्चे को अपने पिता के साथ होने का एहसास दिलाता है। इससे बच्चे पे काफी अच्छा असर पड़ता है। समय-समय पर अपने बच्चे से बात करें, उसकी धड़कनों को सुनें और उसको अपने होने का एहसास दिलाये। आपका यह छोटा सा कदम आपके बच्चे के विकास के लिए काफी मददगार साबित होगा।

आज हमने क्या सीखा

उम्मीद करते हैं, इस पोस्ट को पढ़कर आप लोगों को गर्भ संस्कार के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। साथ ही यह आर्टिकल (गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।) एक होने वाली मा को काफी help करेगा यह समझने के लिए की गर्भवती होने के बाद उनको किस तरह की सावधानियां अपनानी चाहिए ताकि बच्चा पूरी तरह से सुरक्षित रह सके।

 अंत में बस यही कहेंगे कि अगर आप लोगों को यह आर्टिकल पसंद आया और वाकई में इस आर्टिकल से आप लोगों को कुछ सीखने को मिला तो इसको लाइक जरूर करें और अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर भी कर दें। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसके बारे में जानकारी मिल सके। अगर फिर भी इस टॉपिक (गर्भ संस्कार क्या है। पूरी जानकारी।) को लेकर आपके मन में कोई सवाल है या कुछ सुझाव आप हमको देना चाहते हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में हमसे जरूर जुड़े।

author : Madhuwati ray

भारत की परंपरा और सोने का महत्व

0

भारत अपनी विभिन्न  रीति रिवाज़ ,सांस्कृतिक परम्पराओ के लिए लोकप्रिय है। भारत अपनी सांस्कृतिक परम्पराओ के लिए पूरे विश्व भर में जाना जाता है। इस देश में लोग विभिन्न प्रकार की  भाषाएं बोलते है और सबकी अपनी विशेष परंपरा है। यह परम्पराएं पीढ़ीओं से चली आ रही है। भारत को पहले सोने की चिड़िया कहा जाता था। भारतीय इतिहास में सोने का गहरा महत्व है जो दुनिया के विभिन्न हिस्सों से लोगो को अपनी ओर आकर्षित करता है। सोने की भारतीय परम्पराओ ,रीति रिवाज़ो में अपनी अलग ही पहचान है। भारत में हज़ारो शादियों से  सोने के आभूषणों का आदान प्रदान होता आ रहा  है। आप  अपने पसंद और समार्थ्य के अनुसार 22 ,24  और 18  कैरट का सोना खरीद सकते है।

भारत की परंपरा और सोने का महत्व
sona sab ko akarshit karta hai.

पिछले कुछ वर्षो में भारत में लोगो के दिलो में सोने की चाहत बढ़ रही है। भारत के खाते में दुनिया भर में सोने की सबसे अधिक खपत है। सांस्कृतिक रूप से सोना एक महत्वपूर्ण धातु है जिसके बैगर भारतीयों की परम्पराएं अधूरी है। सोने जैसे धातु ने भारतीयों के दिलों और घरो में एक महत्वपूर्ण स्थान पाया है। भारतीय आबादी का एक बहुत बड़ा हिस्सा संसाधनों पर जीवित है लेकिन इन सबके बावजूद वो सोना खरीदने के हर संभव तरीके ढूँढ़ते है। सोना इनके ज़िन्दगी और भारतीय परंपरा का अभिन्न अंग है। दिल्ली से चेन्नई और अहमदाबाद से कोलकाता तक सोने की मांग हमेशा दिखती है। देशवासियों में सोने को लेकर दीवानगी हमेशा देखी जाती है। सोने की कीमत ज़्यादा हो या कम इसके खरीदार हमेशा मौजूद है।

सोने को खरीदने और जिसके पास जितना अधिक सोना वह समाज में अंहकार के साथ जीता है। सोने का उनके पास होना जैसे उनके रुतबे का उनके पास होना। भारतीय शादी तो जैसे सोने के बिना अधूरी और फीकी है। शादी में दुल्हन हमेशा सोने के आभूषणों से लदी हुयी पायी जाती है। अक्षय तृतीया और धनतेरस में सोना खरीदना भारतीयों की ख़ास परंपरा है। धनतेरस में सोना खरीदने के लिए लोगो की  लम्बी कतारे देखी जा सकती है।

सांस्कृतिक मान्यताओं के अनुसार सोना समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। सास अपने बहु को गृह प्रवेश के वक़्त सोना उसके नए जीवन की शुरुआत के लिए देती है। सोना परम्पराओ के अनुसार शुभ वस्तु है जो हर रस्मो रिवाज़ो को पावन बना देती है। महिलाओं को सोना से बेहतर कोई उपहार नहीं लगता है। महिलाएं हर महीने थोड़े पैसे बचाती है ताकि वह सोना खरीद सके। सोने की कीमत पीढयों दर चली आ रही है।

सोने की मांग हमेशा से देश में थी और हमेशा रहेगी। भारत में हर धर्म के लोग चाहे हिन्दू , सिख ,ईसाई सभी के लिए सोना प्रमुख सम्पत्ति है। सम्पन्न धनवान  लोग मंदिरो में अपने सुखद जीवन के आगमन की प्राथना के लिए सोने का दान देते है। विभिन्न धार्मिक अवसरों पर लोगो के लिए सोना खरीदना आम बात है। सोना हर भारतीय घर का हिस्सा है जिससे लोग जुड़े रहते है। यह देश के हर घर पर पारिवारिक विरासत के रूप में माना जाता है। पारिवारिक विरासत को जीवित रखने हेतु सोने के आभूषण पढ़ी दर पीढ़ी चले आ रहे है।

ज़्यादातर घरो में शादियों में दुल्हन की माँ दुल्हन को गहने पहनाकर विदा करती है। सोना परम्पराओं का एक अत्यंत भावुक हिस्सा है। सोने को उपहार में देना भारतीय रीति रिवाज़ो के अनुसार शुभ माना जाता है। सोना ना केवल महत्वपूर्ण धन  का स्रोत है बल्कि सोना भारतीयों के लिए भाग्यशाली होता है ऐसी मान्यता है। शादियों के दौरान अक्सर रिश्तेदार उपहार में दुल्हन को सोना देते है। दुल्हन भारी मात्रा में सोना अपने नए घरो में लाती है जिसे परम्पराओ के अनुसार शुभ माना जाता है।

भारत की परंपरा और सोने का महत्व
kya app jante hai …ek dulhan wida hote waqt 1 kg tak sona phene rahte hai.

सोने का एक उपहार शायद देश में उपहार देने का एक सर्वोच्च रूप है। शहरों में जन्मदिन और बच्चे के जन्म होने पर परिवार अक्सर सोने के उपहार देते है। भारत में सोने से बड़ा कोई स्टेटस सिंबल नहीं है। राजनेता ,व्यवसायी ,अभिनेता ,बड़े अधिकारी सभी को अपना सोना दिखाना बेहद पसंद है। सोना एक प्रतिष्ठित होने का चिह्न है और भारत में युगों से चला आ रहा एक समाजिक स्थिति का प्रतीक है।

सोना के दिन प्रतिदिन बढ़ती हुयी दरों के बावजूद लोग सोना खरीदने की क्षमता रखते है। सोने को भारतीय परंपरा के अनुसार एक सुरक्षित निवेश माना जाता है। ज़्यादातर भारतीय लोग इसी भावना को पीढ़ियों से मानते हुए चले आ रहे है।भारतीय लोग सोने को अपनी सम्पति समझते है जो उनके बुरे वक़्त में काम आता है। सोने का निवेश करना हर एक भारतीय की चाह होती है।

सोना लोगो को दिखाना बेहद अच्छा लगता है। हर बड़े छोटे अवसर पर महिलाएं खासकर  सोने के गहने दिखाए बिना रह नहीं सकती है।  सोने का दक्षिण भारत में अपना महत्व होता है। 2017 को एक रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण भारत में दुल्हन अपने विवाह में जो  गहने पहनती है उनका वजन सामान्यत 320  ग्राम होता है। तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में दुल्हन लगभग 300 ग्राम सोना पहनती है। भारत सोने के लिए दुनिया के सबसे बड़े बाज़ारो में से एक है। भारतीय परम्पराओं के अनुसार नागरिक सोने के सिक्के और सोने के आभूषण खरीदना बेहद पसंद करते है। सोना भारतीय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

भारत में अधिकांश अनुष्ठान को सोने से जोड़कर देखा जाता है। इसमें सबसे प्रमुख है शादी। दुनिया भर की कई संस्कृतियों का मानना है कि सोना सूरज का प्रतिनिधत्व करता है।  सोने को शुभ और पवित्र माना जाता है। सोना शादियों से जुड़े संस्कारों और अनुष्ठानो का एक अभिन्न हिस्सा है। नयी यात्रा की शुरुआत के लिए और सम्पति के रूप में सोने को देखा जाता है। सोने की मान्यता पीढ़ियों से चली आ रही है और भविष्य में भी सोने के दबदबे से कोई इंकार नहीं कर सकता है।

शादी के समय परिवार वाले गहने के दुकानों पर  सोना खरीदने के लिए कतारे लगा देते है। एक अलग ही दृश्य जैसे देखने को मिलता है। लोग अलग अलग तरीके के नक्काशी वाले आभूषण पहनना पसंद करते है। चाहे कोई अमीर हो या मध्यमवर्गीय परिवार सोना खरीदने में किसी को परेशानी नहीं होती है। सोने से जड़ी हुयी दुल्हन को लक्ष्मी के रूप में देखा जाता है। सोना एक लम्बे वक़्त का निवेश बन जाता है जो रिटायरमेंट के बाद और बुरे समय में बेहद काम आता है।

निष्कर्ष

लोग भविष्य में बच्चे की शादी के लिए बहुत पहले से किश्तों में सोने के आभूषणों की खरीदारी कर लेते है। सोने की कीमत दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है।  इसलिए लोग भविष्य के बारे में सोचकर पहले से ही सोने की खरीदारी करना पसंद करते है। सोने की बढ़ती कीमत की वैल्यू बच्चे की शादी के वक़्त आपको मुनाफे में रखेगी। सोने के यूनिवर्सल वैल्यू को हम सब जानते है और उसे झुटलाया नहीं जा सकता है। सोने के दिन प्रतिदिन बढ़ते हुए दरों के बावजूद लोगो के दिलो में इसकी विशेष जगह है।

लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें।

0

Hello दोस्तों! इस blog पर आपका एक बार फिर से बहुत बहुत स्वागत है। आज का हमारा Title थोड़ा सा अलग है. our topic today is लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें। हम जानते हैं  काफी सारे लोग अक्सर इस बात को लेकर confused रहते हैं, जिसका एक perfect और सही जवाब शायद ही किसी को मिल पाया हो। हम सभी जानते हैं और बुजुर्गों के मुंह से हमेशा ही सुनते आए हैं कि औरत और मर्द एक सिक्के के दो पहलू होते हैं, एक वाहन के दो पहिए होते हैं। जब तक यह दोनों पहिए सही तरह से काम ना करें तब तक जिंदगी की गाड़ी ठीक से आगे नहीं बढ़ सकती।

लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें।
लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें।

लेकिन interesting बात तो यह है कि औरत और मर्द दोनों सारा जीवन एक साथ गुजारते हैं, एक के बिना दूसरे का कोई अस्तित्व नहीं है, हर किसी को एक मोड़ पर जाकर अपने जीवन साथी की जरूरत तो पड़ती ही है लेकिन इतना सब कुछ होने के बावजूद भी औरत और मर्द के चरित्र और व्यवहार एक जैसा नहीं है। दोनों के काम करने के अलग-अलग अपने तरीके हैं, अपने हाव-भाव है। और शायद इस विपरीत चरित्र ही वजह है दोनों के बीच आकर्षण का। लेकिन आज का हमारा टॉपिक यह नहीं है। मतलब की हम आज थोड़ा हटकर सोचने वाले हैं। 

आपका confussion ज्यादा ना बढ़ाते हुए आपको बता देते हैं कि आज हम इस टॉपिक पर बात करेंगे कि ऐसी कौन सी 10 आदतें है, जो मर्द और औरत दोनों के बीच similar है या एक जैसा है।लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें। तो है ना यह Interesting टॉपिक। अब बिना समय गवाएं चलिए जानते हैं कि वह 10 आदतें कौन-कौन सी है।

लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें।

मर्द और औरत दोनो में पाई जाने वाली 10 आदतें :

झगड़ा करना

वह दिन गए दोस्तों, जब सिर्फ औरतें ही झगड़ालू कहलाती थी और झगड़ा करने में पीएचडी हासिल की हुई थी। आजकल झगड़ालू होने का तमका सिर्फ औरतों को ही नहीं मर्द को भी दिया जा रहा है। वक्त के साथ औरत और मर्द के बीच का फासला इतना कम हो गया है कि औरतें, मर्द की आदतें अपनाने लगी है और  मर्द औरतों की। आज कल तो जितना जल्दी औरतें क्रोधित नहीं होती उतना जल्दी लड़के हो जाते हैं। और बिना किसी की परवाह किए किसी के साथ भी लड़ पड़ते हैं। अरे यह तो कुछ भी नहीं, अब तो यहां तक देखने को मिल जाता है कि लड़के इस बात पर भी ध्यान नही देते की सामने औरत खड़ी है या मर्द । बस अपना हक मिलना चाहिए और किसी के सामने झुकना नहीं है।

आंसू बहाना

हम सभी को पता है कि रोने के मामले में औरतें काफी मास्टर है और छोटी-छोटी बात पर भी आंसू बहा देना जैसे औरतो की फितरत है। लेकिन वो Diologue पुराना हो चुका है कि “मर्द को दर्द नहीं होता”। दरअसल लड़के पहले भी रोते थे लेकिन पहले छुप छुप कर रोते थे। क्योंकि किसी के सामने रोने से उनके Ego को ठेस पहुंचती थी। क्योंकि पहले औरत और मर्द के बीच काफी फासला था मर्द का रुतबा ही अलग हुआ करता था। और रोना उनके शान के खिलाफ था। लेकिन अब लड़के भी किसी बात को इतना Mind नहीं करते। इसकी वजह शायद यह भी है कि वक्त के साथ लड़के औरतों को अपने बराबर समझने लगे हैं। जो करने की इजाजत उनको पहले का जमाना नहीं देता था। खैर जो भी हो लेकिन बात यह है कि और लड़कियों की तरह लड़के भी छोटी-छोटी बातों को बर्दाश्त नहीं कर पाते और रो पड़ते हैं।

लंबे बाल और कान की बाली 

आप लोगों Notice किया होगा कि आजकल काफी लड़के अपने बालों को लंबा करते हैं। यहां तक कि फिल्मी हीरो लोग भी अपने बालों को थोड़ा लंबा करके पीछे जुड़ा बांध लेते हैं। ठीक इसी तरह कानों में भी काफी लड़के बालियां पहनने लगे हैं। खासकर अपने दाहिने कान में एक बाली पहन लेते हैं। अब उनके ऐसा करने के पीछे logic क्या है यह तो हमें भी नहीं पता। लेकिन जिस तेजी से लड़के बाल बढ़ाना और कान की बालियां पहनने का रिवाज अपना रहे हैं, वह दिन दूर नहीं जब इस काम मे वह औरतों को भी पीछे छोड़ देंगे। वैसे भी आजकल काफी  कम लड़किया ही बालियां पहनना  और लंबे बाल रखना पसंद करती है।

पूजा पाठ करना 

पहले के जमाने में पूजा पाठ करने में सिर्फ औरतें ही आगे रहती थी और मर्द के नाम पर सिर्फ कुछ चुनिंदा ब्राम्हण पंडित ही पूजा-पाठ में मन लगाते थे। लेकिन अब ऐसा समय आ गया एक औरतों के मुकाबले मर्द ही ज्यादा पूजा-पाठ और ध्यान करते हैं। इसका कारण शायद struggling life style और depression भी है। इसी वजह से कोई और रास्ता ना पाकर आजकल लड़कियों के साथ लड़के भी पूजा में बहुत ज्यादा ध्यान लगाने लगे हैं।

खाना पकाना 

लड़कों का खाना पकाने के शौक से तो हम सभी वाकिफ हैं ।आजकल टीवी में भी ऐसे बहुत से shows आते हैं, जहां लड़के काफी उत्सुकता से भाग लेते हैं। और अलग-अलग तरह के dishes बनाकर competition में जी जान लगा देते हैं। सिर्फ competition में ही नहीं, घर पे भी आजकल लड़के खाना बनाने के काफी शौकीन हो गए हैं। इसके पीछे के कारण की बात करें तो हम यही कहेंगे कि आजकल successfull होने की race में हम घर पर कम ही रहते हैं।हमें अपनी जिंदगी का ज्यादातर समय अकेले किसी hostel या rent वाले रूम में रहना पड़ता है। इसी मजबूरी के वजह से लड़के खाना पकाना सीख गए हैं। धीरे-धीरे खाना पकाने की आदत उनका शौक बन गया है।

गाने सुनना

नए पुराने गाने सुनना किसे पसंद नहीं होता। यह भी एक ऐसी आदत है जो लड़के और लड़कियां दोनों में ही मौजूद है। लड़कियां तो शुरु से ही टीवी देखने और गाने सुनने में famous रह चुकी है, लेकिन लड़के भी इस race में कम नहीं है। पूरा दिन earphone लगाकर मोबाइल से गाने सुनना तक तो ठीक है, लेकिन आजकल तो घर पर फ्री टाइम में serials भी देखना शुरू कर दिए हैं। जिस काम पर एक वक्त तक सिर्फ औरतों का ही copyright था।

सुंदर दिखना

सुंदर दिखना कौन नहीं चाहता। खासकर अगर लड़कियों की बात करें तो यह मानने में कोई संकोच नहीं है कि सुंदर दिखने के लिए लड़की कुछ भी कर सकती है। घंटों पार्लर में बैठकर हजारों रुपए खर्च करने से लेकर सुंदर दिखने की शर्त पर काफी लड़किया अपना शारीरिक नुकसान भी कर देती है। लेकिन फिर भी महंगे महंगे chemical वाले cosmetic और oil का इस्तेमाल करना नहीं छोड़ती। उसी तरह लड़के भी बताते और जताते भले ही ना हो लेकिन लेकिन अंदर ही अंदर dashing और handsome दिखने के लिए हर वह चीज करते हैं जो उनके बस में हो। हमने तो यहां तक भी देखा है कि सुंदर और गोरा दिखने के लिए लड़के, लड़कियों के क्रीम भी use करते हैं और तो और वह लोग लड़कियों के oil और body lotion use करने से भी बाज नहीं आते हैं।

खट्टा खाने के शौकीन

जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उसको खट्टा खाने का बड़ा जी करता है। फिर उसका पति उसके लिए बाजार से खटाई लेकर आते हैं। ऐसी story आपने बहुत बार सुनी होगी और यह भी जानते होंगे कि लड़कियां खट्टा खाने की कितनी दीवानी होती है। लेकिन शायद आप लोगों को यह पता ना हो कि लड़के भी खट्टा खाने की उतने ही दीवाने होते हैं । यार लड़कियों की तरह वह भी बहुत ज्यादा खट्टा खाते हैं। अगर आप लोगों को यकीन ना हो तो आप अपने आसपास के किसी Male Friend या Family Member से इस बात की तहकीकात कर सकते हैं। लेकिन यह सौ फीसदी सच है कि लड़के भी खटाई खाने के शौकीन होतें हैं।

 jealous होना

अपने पति या बॉयफ्रेंड के साथ किसी और लड़की को देखने मात्र से ही जल भूनकर राख हो जाना तो औरतों की फितरत में ही है। लेकिन जिस बात के लिए औरतें इतने दिनों से बदनाम है,  क्या आपको पता है कि वह आदत लड़कों में भी है। अपनी गर्लफ्रेंड या पत्नी के साथ किसी और लड़के को बात करते हुए भी देखना लड़के बिल्कुल पसंद नहीं करते। उनको यह बात बिल्कुल भी गवारा नहीं कि उनकी बीवी या गर्लफ्रेंड के साथ कोई हंस कर बात करें या ग जरा पास बैठे हैं या भी मजाक में भी उनका हाथ तक पकड़े। खुद लड़के भले ही बाहर कुछ भी करें लेकिन अपनी बीवी को या गर्लफ्रेंड को हमेशा सब से बचा कर रखना चाहते हैं और जरा सी भी किसी और लड़के के साथ कदेखते ही जल कर काले कोयले हो जाते हैं।

सबकी फिक्र करना

सारी आदतों में यह सबसे sweet आदत है जो लड़कियों की तरह लड़कों में भी होते हैं। बेटी अपने परिवार के हर सदस्य की फिक्र करती है, बहु अपने पूरे परिवार को एक धागे में पिरो कर रखती है, मां पूरे फैमिली का ख्याल खुद से ज्यादा रहती है, यह सब diologue तो हम सब ने सुने हैं ।लेकिन ये किसी ने नहीं सुना की लड़के अपने फैमिली की फिक्र करते हैं। लड़कों का image तो बस घूमना फिरना सैर-सपाटे में ही सिमट कर रह गया है। लेकिन वह भले ही दिखाते नहीं, जताते नहीं फिर भी अपने परिवार के हर सदस्य की छोटी-मोटी जरूरतों का ख्याल रखते हैं। अगर पुरा ना भी कर पाय फिर भी कोशिश जरूर करते हैं, बिना जताए।

दोस्तों तो यह थे लड़को में पाई जानेवाली लड़कियों जैसी 10 आदतें। लड़कों में पाए जाने वाले वो 10 आदतें, जो लड़कियों की तरह है। काफी कम लोगों को इन आदतों के बारे में पता है। वैसे तो यह topic कुछ ज्यादा खास नहीं है लेकिन किसी लड़के को अपने जीवनसाथी या दोस्त के रूप में चुनने से पहले उसको समझना बहुत ज्यादा जरूरी है।और किसी लड़के को समझने के लिए उसके बारे में जानना बहुत जरूरी है। इसी बात पे चलिए हम लड़को के 5 खास बातें भी आपको बताते हैं।

Boys की 5 खास बातें :

1.  Maximum लड़के लड़कियों की तुलना में बहुत ज्यादा  मासूम होते हैं। वो किसी भी माहौल को आसानी से अपना लेते हैं। यू कह लो कि नखरा उनके अंदर नही होता।
2. अगर percentage के हिसाब से देखा जाए तो लड़कियों के मुकाबले लड़के काफी कम शक्की होते हैं। वह आसानी से किसी पर trust कर लेते है।
3. लड़कियों की तुलना में लड़के ज्यादा खर्चीले होते हैं। आप लोगों ने notice किया होगा कि कोई सामान खरीदने पर लड़कियों की तुलना में  लड़के बहुत कम मोलभाव  करते हैं।
4. लड़कियों के मुकाबले लड़के काफी दानवीर type के होते हैं। अगर किसी को कुछ देना पड़े, किसी के लिए कुछ करना पड़े तो हो सकता है कि लड़की एक बार के लिए सोचे। लेकिन लड़के किसी को कुछ देने से पहले बिल्कुल भी नहीं सोचते। हम यह नहीं कह रहे कि सब लड़के ऐसे होते हैं लेकिन maximum लड़के ऐसे ही होते हैं।
5. काफी कम लड़के ही ऐसे होते हैं जो जिद्दी होते हैं। लेकिन ज्यादातर लड़के जिद्दी नहीं होते। जबकि आप लोगों को पता ही होगा कि लड़कियां अपने जिद्दी और नकचढ़ी स्वभाव के लिए ही लड़को को जीतने नही देती घर में ऊंचे औंधे पे रहती है।

हमें उम्मीद है कि यह आर्टिकल आपको काफी मदद करेगा एक लड़के को समझने के लिए उसके प्रति कोई नकारात्मक राय कायम करने से पहले उसकी गहराई को जानने के लिए। अगर आप को यह आर्टिकल अच्छा लगा तो अपनी फैमिली के सभी ladies के साथ और अपनी सभी girls दोस्तों के साथ जरूर से जरूर शेयर करें ताकि उनके दिमाग का ताला भी थोड़ा खुल जाए और लड़कों का और ज्यादा कचूमर ना बने। अगर आपके मन में कोई भी सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर पूछें। धन्यवाद।

Author : Jhumawati ray

लॉकडाउन का बच्चो पर असर

0
लॉकडाउन का बच्चो पर असर

आज हम कवर करने जा रहे हैं, लॉकडाउन का बच्चो पर असर। लॉकडाउन के कारण बच्चे घर पर रह रहे हैं और इसके परिणामस्वरूप टीवी और मोबाइल फोन के साथ बहुत समय व्यतीत हो रहा है। बहुत सारे बच्चे चुपचाप टीवी और मोबाइल फोन के आदी हो रहे हैं। बच्चों के साथ कोई समस्या नहीं है। हम माता-पिता को ध्यान रखना होगा और स्थिति को सुधारने के लिए समाधान तलाशना होगा।

लॉकडाउन का बच्चो पर असर
mobile pe din bhar chalta cartoon

आज की डेट में अगर कोई ब्रेकिंग न्यूज़ है तो वह है कोरोना वायरस। आज हर न्यूज़ चैनल पर बस एक ही न्यूज़ है, हर जुबान पर बस एक ही बात है, हर दिल में बस एक ही खौफ है और वह है कोरोना वायरस का डर। इस डर न लोगों के दिल में इस तरह से जगह बना लिया है कि हमारी रोजमर्रा की जिंदगी से काफी प्रभावित हो रही है इसकी वजह से। सिर्फ इतना ही नहीं दोस्तों, इस वायरस ने काफी जाने भी ले चुकी है और अभी भी ले रही है। लेकिन इस वायरस के लिए कोई न कोई उपाय तो निकालना ही था।


तो यह वायरस लोगों की जिंदगी को ज्यादा नुकसान ना पहुंचा सके, इस बात को ध्यान में रखते हुए लगभग हर एक देश के सरकार ने एक फैसला लिया और वह फैसला है लॉक डाउन का। मार्च महीने से ही हर एक देश में lockdown लागू कर दिया गया है। बात करें भारत की तो भारत में भी मार्च से ही लॉकडाउन जारी कर दिया गया। लेकिन इस lockdown ने कोरोना वायरस के प्रभाव को हालांकि बहुत कम किया लेकिन लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी पर इसके नकारात्मक प्रभाव भी कम नहीं थे। आज के इस लेख में हम लोग उसी प्रभाव के बारे में बात करने वाले है। खासकर बच्चों की जिंदगी को किस तरह से lockdown ने प्रभावित किया उस बारे में हम आज बात करने वाले हैं।


लॉकडाउन का बच्चो पर असर

पढ़ाई पर असर


 Lockdown के प्रभाव में अगर बच्चों की बात करें तो लॉक डाउन का जितना प्रभाव बड़ो पर पड़ा है उतना ही ज्यादा प्रभाव बच्चों पर भी पड़ा है। सबसे ज्यादा बच्चों की पढ़ाई इस lockdown से प्रभावित हुई है। जैसा कि हम सभी को पता है कि lockdown के वजह से सारे स्कूल कॉलेज बंद कर दिए गए थे। इस वजह से बच्चे स्कूल नहीं जा पाए और उनकी पढ़ाई को काफी नुकसान का सामना करना पड़ा। सिर्फ इतना ही नहीं कुछ जगह तो lockdown के वजह से प्राइवेट ट्यूशन टीचर ने भी ट्यूशन लेना बंद कर दी है। क्योंकि उनके दिल में खौफ था की कहीं उनको भी कोरोना न पकड़ ले। कुल मिलाकर बच्चे घर पर ही पढ़ाई करने पर मजबूर हो गए और कुछ बच्चे अगर अपने पढ़ाई को मेंटेन करने में सफल भी रहे फिर भी काफी अनुपात में बच्चों की पढ़ाई को भारी नुकसान उठाना पड़ा।


खेलकूद पर प्रभाव


सिर्फ पढ़ाई ही नहीं इस lockdown ने बच्चों के खेल कूद पर भी काफी असर डाला है। जब यह लागू नहीं हुआ था तब बच्चे खेलकूद के साथ भी काफी जुड़े हुए थे और इन खेलकूद से उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों ही अच्छे रहते थे। लेकिन लॉकडाउन के वजह से वह बाहर जाकर खेल नहीं पा रहे हैं और जिस वजह से घर पर ही टाइम पास करने पर मजबूर है। और टाइम पास करने के लिए उनके पास कंप्यूटर और मोबाइल गेम्स के अलावा दूसरा कोई चारा नहीं है।  और क्योंकि उनके पास पढ़ाई लिखाई भी लॉकडाउन में ज्यादा नहीं है करने को तो इस वजह से ज्यादा बोरियत का अनुभव कर रहे हैं बच्चे। इसके वजह से उनको खेलकूद की कमी भी काफी महसूस हो रही है । तो इसर तरह से लॉकडाउन ने बच्चों की खेलकूद को भी काफी बुरी तरह से प्रभावित किया है।


स्वास्थ्य पर असर

लॉक डाउन का सबसे गहरा असर बच्चों के स्वास्थ्य पर ही पड़ा है। हम सबको पता है कि बड़ों को नहीं लेकिन बच्चों को आए दिन छोटी-मोटी शारीरिक परेशानियां होती रहती है, जिस वजह से आए दिन हमारा डॉक्टर के पास आना जाना हमारा लगा रहता है। लेकिन लॉकडाउन के वजह से हॉस्पिटल और प्राइवेट डॉक्टर के पास जाने के लिए भी काफी सोचना पड़ रहा है। क्योंकि बात बच्चे का है तो उनके लिए बाहर निकलने पर काफी मनाई है। इस वजह से उनकी हेल्थ भी काफी प्रभावित हो रही है। काफी  parents तो घरेलू नुस्खों से इलाज करने पर मजबूर हो गए हैं।


मानसिक अवस्था का बुरा हाल


 जैसा कि हम सभी को पता है कि लोकडाउन के वजह से बाहर जाकर काम करने वाले लोग वही फस जाने पर मजबूर हो गए हैं। जिस वजह से वह घर नहीं आ पाए और और पूरे फैमिली में तनाव का माहौल सा छा गया और इसका असर बच्चों के मानसिक अवस्था पर भी पड़ा। मानसिक रूप से इस बात से बच्चे काफी ज्यादा प्रभावित हुए कि उनके पेरेंट्स बीमारी की वजह से घर नहीं आ पा रहे हैं । और यह डर जितना बड़ो में है कि कहीं बाहर रहकर उनका कोई फैमिली मेंबर कोरोना से संक्रमित ना हो जाए, उतना ही बच्चों को भी यह बात प्रभावित कर रही हैं। जिसके वजह से वह अपने पढ़ाई लिखाई और खेलकूद भी सही तरीके से नहीं कर पा रहे हैं।


 बच्चों के खान-पान पर असर


लगता नहीं है, लेकिन इस लॉकडाउन ने बच्चों के खान-पान को भी काफी प्रभावित किया है। हम सभी को पता है कि लॉकडाउन के वजह से मार्केट बंद हो चुकी है, सारी दुकानें बंद है और इस वजह से उनकी मनपसंद खाने पीने की चीजें भी उपलब्ध होनी बंद हो चुकी है। इस वजह से बच्चे चिड़चिड़े भी हो गए हैं।


आज हमने क्या जाना


 आज के इस लेख में हमने जाना कि लॉकडाउन बच्चों की जिंदगी को किस तरह से प्रभावित किया है। कुछ लोगों को शायद इन बातों के बारे में नहीं पता। लेकिन हमें इन बातों को गहराई से समझना चाहिए क्योंकि हम सभी को पता है कि बच्चे हमारे देश का भविष्य है। और उनके ऊपर इस तरह से लॉकडाउन का असर पड़ना काफी निंदनीय है। तो सरकार के साथ हम सभी को इसके प्रति जागरूक होना चाहिए कि लॉक डाउन का असर बच्चों पर कम से कम पढ़े और अपने बचपन को इस महामारी के संकट पूर्ण समय में भी पूरी तरह से enjoy कर सके।
तो आकर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसको लाइक करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। और lockdown या किसी और टॉपिक को लेकर अगर आपके मन में कोई सवाल है तो कमेंट करके हमसे जरूर पूछें।

also read : shaadi ke liye ladka ladki khoje online.

aur quality content ke liye yaha click kare.

टैक्स कैसे बचाएं – कैसे करें टैक्स सेविंग -tax kaise bachaye

0
tax kaise bachaye

आज प्रस्तुत है एक बहुत महत्वपूर्ण विषय tax ko kaise bachaye. (how to save taxes) लेकिन पहले मुझे पहले टैक्स की व्याख्या करने दें।

Tax क्या है

टैक्स एक अनिवार्य शुल्क या वित्तीय शुल्क है जो सरकार द्वारा किसी व्यक्ति या संस्था पर राजस्व जुटाने के लिए लगाया जाता है। जमा हुए टैक्स की कुल राशि को विभिन्न सार्वजनिक कार्यक्रमों के लिए उपयोग किया जाता है। कानून के मुताबिक, खुद से या गलती से टैक्स भुगतान ना करने पर जुर्माना या सज़ा मिलने सकती है।

Tax is one of the most common financial terms. Taxes are one of the primary sources of income for the government through which it fulfills various projects and initiatives.

No matter where you live in the world, the one thing that you can always count on is that you will be paying taxes to the local government. Taxes come in various forms such as state taxes, central government taxes, direct taxes, indirect taxes and so on.

tax ko kaise bachaye
tax savings is very important tool

Tax के प्रकार

व्यक्ति/ संगठन को विभिन्न तरीकों से टैक्स का भुगतान करना पड़ता है। टैक्स अधिकारियों द्वारा टैक्स भुगतान के तरीके के आधार पर, टैक्स को डायरेक्ट टैक्स और इन-डायरेक्ट टैक्स में बाटा जाता है।

An entity has to pay taxes in various forms. Depending on the manner in which they are paid to the taxation authorities, these taxes are classified into direct and indirect taxes.

चाहे आप दुनिया में कहीं भी रहते हों, पर आपको स्थानीय सरकार को टैक्स का भुगतान करना होता है । टैक्स कई प्रकार के होते हैं जैसे स्टेट टैक्स (राज्य कर), सेण्टर गवर्नमेंट टैक्स (केंद्र सरकार कर), डायरेक्ट टैक्स (प्रत्यक्ष कर), इन-डायरेक्ट टैक्स (अप्रत्यक्ष कर) इत्यादि।

Tax भरने के लाभ

मूलत: टैक्स वह राशि है जिस पर सरकार चलती है और अपने नागरिक को सार्वजनिक सेवाएं प्रदान करती है। टैक्स का भुगतान करने के लाभ निम्नलिखित हैं।

  • आपका टैक्स भुगतान सुनिश्चित करता है कि सभी नागरिकों के लिए सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं बिना किसी बाधा के चलती रहेंगी।
  • आप लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए अपने इनकम टैक्स रिटर्न दस्तावेजों का उपयोग कर सकते हैं।
  • इस टैक्स की राशि से सरकार अपने नागरिक के लिए बेहतर सुविधाओं और उपयोगिताओं को निधि दे सकती है जो बदले में लोगों के जीवन स्तर में सुधार करने में मदद करती है।
  • सरकार को बहुत सारे कार्य करने होते हैं और जिसके लिए धन की आवश्यकता होती है। आपके धन का उपयोग सेनाओं, बुनियादी ढांचे के विकास, नागरिकों की सुरक्षा, प्रशासनिक सेवाओं आदि के लिए भी किया जाता है।

इनकम Tax

यह सबसे साधारण टैक्स है जो एक नागरिक सरकार को व्यक्तिगत रूप से चुकाता है। यह बहुत ही सरल है – आपकी इनकम का एक हिस्सा हर साल सरकार को टैक्स के रूप में देना होता है और इस धन का उपयोग सरकार द्वारा देश भर में विकास कार्यों के लिए किया जाता है।

इनकम Tax असेसी

कोई भी व्यक्ति जो इनकम होने के कारण से टैक्स जमा करने के लिए उत्तरदायी है, एक इनकम टैक्स असेसी है। हालांकि, कुछ व्यक्ति जो इनकम होने के बावजूद भी टैक्स देने के लिए बाध्य नहीं होते हैं जैसे किसान आदि। इसके अतिरिक्त, एक असेसी कुछ स्थितियों में किसी अन्य व्यक्ति की ओर से टैक्स रिटर्न जमा करने के लिए बाध्य हो सकता है।

What makes taxsaving exercise an important financial planning tool. It is important to plan one’s finances properly. By proper tax planning, one not only reduces the tax liability but also end up saving towards the various goals one has set at different life stages.

now lets get on to tax ko kaise bachaye.

tax kaise bachaye

How to Save Income Tax in India

  • Use up your Rs 1.5 lakh limit under Section 80C.
  • 2) Contribute to the National Pension System.
  • 3) Pay Health Insurance Premiums.
  • 4) Get a deduction on your rent.
  • 5) Get a deduction on the interest on your home loan.
  • 6) Keep some money in your savings account.
  • 7) Contribute to charity.

यदि आप वित्त वर्ष की शुरुआत से ही प्लानिंग करते हैं तो यह बेहतर रणनीति होगी। दरअसल, टैक्स सेविंग की सही रणनीति केवल कर का भार घटाने से जुड़ी हुई नहीं होती है। बल्कि इसकी प्लानिंग में अधिकतम रिटर्न हासिल करने के साथ-साथ जोखिम को एक सीमा के भीतर रखने पर भी ध्यान देना होता है। यही वजह है कि कोई भी व्यक्ति अपने वित्तीय लक्ष्य को ही ध्यान में रखकर टैक्स सेविंग की अपनी योजना बनाता है। यह टैक्स पेयर की उम्र, उसकी जरूरत और जोखिम लेने की उनकी क्षमता पर निर्भर होता है। 

करदाताओं के लिए टैक्स बचाने के कई विकल्‍प उपलब्ध हैं। अपनी टैक्स बचत को बढ़ावा देने के लिए सभी विकल्पों को देखना और तुलना करना आपके लिए फायदेमंद है। 

tax ko kaise bachaye
80 c an important tool in tax saving

पहला और सबसे महत्वपूर्ण विकल्प आयकर अधिनियम के अध्याय 6-ए का अनुच्छेद 80सी है। आप पीपीएफ, एनएससी, पांच साल के सावधि जमा, जीवन बीमा के प्रीमियम के भुगतान, टैक्स बचाने वाले म्युचुअल फंडों में निवेश कर सकते हैं और एक साल में 1.5 लाख रुपये तक की कटौती का लाभ पा सकते हैं। इन निवेशों के साथ, आप अनुच्छेद 80सी के तहत बच्चों के शिक्षण शुल्क, होम लोन के पुनर्भुगतान जैसे विभिन्न खर्चों का भी दावा कर सकते हैं। 

इसी तरह, आप स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम के भुगतान के लिए एक वित्त वर्ष में 25,000 रुपये तक की कटौती का दावा कर सकते हैं। अनुच्छेद 80सी के 1.5 लाख रुपये के अलावा, आप राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) में निवेश कर सकते हैं और अनुच्छेद 80सीसीडी के तहत 50,000 रुपये तक की कटौती का दावा कर सकते हैं। निर्दिष्ट फंड या धर्मार्थ ट्रस्टों को किए गए किसी भी दान का दावा पूरी तरह से या आंशिक रूप से अनुच्छेद 80जी के तहत किया जा सकता है। कई अन्य रास्ते हैं जैसे कि अनुच्छेद 80ईई के तहत शिक्षा ऋण पर दिए गए ब्याज की कटौती, अनुच्छेद 80टीटीए के तहत बचत खाते पर अर्जित ब्याज में कटौती आदि।  

आप एक स्व-अधिकृत संपत्ति के लिए हो लोन पर एक वित्‍त वर्ष के दौरान अधिकतम 2 लाख रुपये तक के ब्याज का दावा भी कर सकते हैं। वर्ष की शुरुआत में सभी उपर्युक्त तरीकों को जानने और समझने से आप अपने टैक्स में बड़े भुगतान की बचत कर सकते हैं। 


कैसे एक कर बचत योजना बनाने के लिए कदम बढ़ाएँ।

चरण 1: आयकर अधिनियम, 1961 की विभिन्न धाराओं के तहत उपलब्ध सभी तरीकों को पहचानें और तुलना करें। 

चरण 2: टैक्स बचाने के अपने लक्ष्यों को अपने विशिष्ट दीर्घकालिक लक्ष्यों जैसे शादी, बच्चों की शिक्षा के साथ अलाइन करें। 

चरण 3: अपनी जोखिम की क्षमता के आधार पर तरीके चुनें और निवेश करें। उदाहरण के लिए, अपने करियर के प्रारंभिक चरण में या उच्च आय संरचना वाला एक व्यक्ति ज्यादा जोखिम लेने के लिए तैयार होता है। वह अपने निवेश का 80% से अधिक टैक्स बचाने वाले म्युचुअल फंड, यूलिप या एनपीएस जैसे बाज़ार से जुड़े विकल्पों में लगा सकता है।

 चरण 4: एकमुश्त निवेश से बचें और व्यवस्थित निवेश योजना की ओर बढ़ें। यह आपको वर्ष के मध्य में नकदी संकट से बचाएगा।

for more information you can visit the income tax portal of government of india.

tax ko kaise bachaye
tax kaise bachaye

नियमित और व्यवस्थित निवेश टैक्स की असमान कटौती को कम करेगा

अपने टैक्स की योजना बनाने का मुख्य उद्देश्य वित्त वर्ष के अंत में टैक्स की एकमुश्त राशि देने से बचना है। इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप उस वर्ष के लिए अपनी कर देयता की गणना करें और फिर अपनी मेहनत से कमाए गए धन को मासिक रूप से निवेश करें। इससे मासिक आधार पर स्रोत पर आपकी कर कटौती कम होगी और आपकी कुल आय बढ़ाने में मदद मिलेगी। यदि आप अंतिम मिनट की प्रतीक्षा करते हैं और वर्ष के अंत में एकमुश्त निवेश करते हैं, तो अंत में स्रोत पर कर की एक बड़ी राशि काट ली जाएगी। इससे आप वित्तीय संकट में भी पड़ सकते हैं। एक नियमित और व्यवस्थित निवेश आपको अंत में भारी टैक्स का भुगतान करने से बचाएगा।  

some important tax saving intruments, discussed in detail.

Kisan Vikas Patra

India Post introduced the Kisan Vikas Patra as a small saving certificate scheme in 1988. Its primary objective is to encourage long-term financial discipline in people. As per the latest update, the tenure for the scheme is now 124 months (10 years & 4 months). The minimum investment is Rs. 1000 and there is no upper limit. And if you invest a lumpsum today, you can get double the amount at the end of the 124th month. Initially, it was meant for farmers to enable them to save for long-term, and hence the name. Now it is available for all. To prevent the possibilities of money laundering, the 2014 government made PAN Card proof compulsory for investments above Rs. 50,000. To deposit Rs. 10 lakhs and above, you must submit income proofs (salary slips, bank statement, ITR document etc.). It is a low-risk savings platform, where you can safely park your money for a certain period. Further, it is also mandatory to submit AADHAAR number as proof of identity of account holder.

invest in PPF Account

Public provident fund is a popular investment scheme among investors courtesy its multiple investor-friendly features and associated benefits. It is a long-term investment scheme popular among individuals who want to earn high but stable returns. Proper safekeeping of the principal amount is the prime target of individuals opening a PPF account.

A minimum of Rs. 500 and a maximum of Rs. 1.5 Lakh can be invested in a provident fund scheme annually. This investment can be undertaken in a lumpsum or installment basis. However, an individual is eligible for only 12 yearly instalment payments into a PPF account. Investment in a PPF account has to be made every year to ensure that the account remains active.

Public provident funds provide the benefit of availing loans against the investment amount. However, the loan will only be granted if it is taken at any time from the beginning of 3rd year till the end of the 6th year from the date of activation of account.

The maximum tenure of such loans against PPF is 36 months. Only 25% or less of the total amount available in the account can be claimed for this purpose.

More information will be updated to this article soon.

till then happy reading – milte hai.

read more of articles here.

यह लेख तथ्यों और आंकड़ों पर आधारित है, अगर आपको यह लेख पसंद आया तो कृपया कमेंट और शेयर जरूर करें।

Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

0
Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।
Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

क्या आप शादी के लिए लड़का या लड़की ढूंढ रहे हैं तो आप सही जगह पर आ गए हैं। कनेक्टिविटी के कारण, पूरी दुनिया बहुत छोटी हो गई है और ऑनलाइन एक परिपूर्ण मैच मिल सकता है। लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें। Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online.

kya ap ko shaadi ke liye ladka ladki chahiye (शादी के लिए लड़का लड़की चाहिए) to ab ye bahut aasan ho gaya hai. pahle to kafi sare loogo se baat karni padhti thi. pata karna padta tha par ab aisa nai hai, ab to app shadi ke liye ladka ladki khoje wo bhi online.

 “There’s a big difference between falling in love with someone and falling in love with someone and getting married. Usually, after you get married, you fall in love with the person even more.”

Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online
Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

अब शादी के लिए लड़का या लड़की ढूंढ़ना बहुत ही आसान हे। इस पोस्ट में आप जानेगे शादी के लिए लड़का या लड़की कैसे तलाश करे। हर उम्र हर जाती की लड़की और लड़को से संपर्क करने का तरीका में आपको बताऊंगा। इस पोस्ट को पूरा पड़े इस में आपको शादी के लिए लड़की या लड़का ढूंढ़ना आसान हो जायगा।

शादी करने के लिए नीचे कुछ तरीके हैं जिन्हें अपनाया जा सकता है। in Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

  • आपकी अपनी ही कास्‍ट में कई बिचौलिए या शादी करवाने वाली एजेंसीस
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म रिश्‍ते जोड़ने में आजकल फेसबुक भी अहम भूमिका निभा रहा है। आप अपनी सोशल लाइफ पर ज़रा ज्‍यादा ध्‍यान दें। हो सकता है कि आपको आपका जीवनसाथी फेसबुक या अन्‍य किसी सोशल साइट पर मिल ही जाए।
  • अखबारों या मैगज़ीन में मैट्रिमोनियल विज्ञापन आपने अखबारों या मैगज़ीन में मैट्रिमोनियल विज्ञापन तो देखे ही होंगें। अगर आप अपने जीवनसाथी की तलाश कर के थक चुके हैं तो बस ऐसी जगहों पर विज्ञापन दे दें। इसके बाद खुद आपके पास ऑफर्स आने लगेंगें।
  • ब्‍लाइंड डेट्स अगर आपको शादी के लिए कोई परफैक्‍ट पार्टनर नहीं मिल रहा है तो आप ब्‍लाइंड डेट भी ट्राई कर सकते हैं। इसका एक फायदा आपको ये भी होगा कि अगर आपको अपनी ब्‍लाइंड डेट का पार्टनर पसंद नहीं आया तो उनसे पीछा छुड़ाना आपके लिए ज्‍यादा मुश्किल काम नहीं होगा।

  • या मैट्रिमोनियल साइट्स
Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online
Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

About मैट्रिमोनियल साइट्स in Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

ऑनलाइन लड़का या लड़की या दुल्हन और दूल्हे को खोजने के लिए कुछ वेबसाइटें हैं, जिनमें से कुछ बहुत लोकप्रिय हैं। वैवाहिक वेब साइटों में से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं।

एक पुस्तक के अनुसार, जो दक्षिण एशिया में विवाहों पर केंद्रित है, भारत में 1500 से अधिक वैवाहिक वेब साइटें हैं। एक अलग सर्वेक्षण में बताया गया है कि भारत में 2600 से अधिक वैवाहिक वेब साइटें हैं जिनमें से 700 से अधिक समुदाय निकायों के विस्तार हैं जिन्होंने विशिष्ट समुदायों के बीच व्यवस्थित विवाह में एक प्रमुख भूमिका निभाई है। अगर आप अरेंज मैरिज करना चाह रहे हैं। जब भारत में हजारों ऑनलाइन वैवाहिक साइटों से चुनने की बात आती है, तो आपको बहुत समस्या होती है।

शीर्ष रेटेड भारतीय वैवाहिक वेब साइटों में से कुछ हैं:

  1. Shaadi
  2. Bharat Matrimony
  3. Jeevansaathi
  4. Findiit

ये भारत में अब तक के सबसे अच्छे मैचमेकिंग साइट हैं जिनमें सबसे अधिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं।

तलाक और दूसरी शादी के लिए वैवाहिक वेब साइट।

  1. Divorce Matrimony (Part of Bharat Matrimony)
  2. Second Shaadi (Not affiliated to Shaadi.com)

ये भारत में दूसरी शादी के बाजार को लक्षित करने वाली वैवाहिक साइटें हैं।


NRI के लिए वैवाहिक साइटें

6. NRI Shaadi (Affiliated to Shaadi.com)
7. NRI Matrimony (Affiliated to Bharat Matrimony)
8. NRI Marriage Bureau (NRIMB.com)

यदि आप विदेश में शादी करने का सपना देखते हैं या इसके विपरीत अगर कोई एनआरआई भारत में शादी करना चाहता है तो ऑनलाइन देखना सबसे उपयुक्त तरीका है लेकिन कृपया सावधानी से आगे बढ़ें।

क्षेत्रीय अन्य जातियों के लिए वैवाहिक वेब साइटें विशेष मामले और अधिक वैवाहिक वेब साइटें

9. Chavara Matrimony
10. M4Marry
11. Kalyan Matrimony 12. Eenadupellipandiri
13. Kaakateeya.com 14. Sai Sankara Matrimonials
15. Kammavar Kalyanamalai
16. KM Matrimony 17. Mangalashtak
18. Pavitravivah 19. Muslim Matrimony (Affiliated to Bharat Matrimony)
20. Shaadi.com’s Muslim Matrimony site
21. Nikah.com 22. Christian Matrimony (Affiliated to Bharat Matrimony)
23. Jeevansathi’s Christian Matrimony
24. Shaadi.com’s Christian Matrimony
25. Holy Matrimony
26. Angel Matrimony 27. Medico Life Partner
28. Medical Matrimony 29. Love Vivaah
30. FreeSathi
31. Positive Saathi
32. Idontwantdowry
33. iBlueBottle
34. Life Partner
35. Matrimonials India
36. Bandhan
37. Vivaah
38. Betterhalf.ai

Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online
Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

अब मुख्य भाग आता है कि कैसे इस सभी वैवाहिक वेब साइटों का उपयोग किया जाए। in Shadi ke Liye Ladka Ladki Khoje Online. लड़के या लड़की की शादी के लिए ऑनलाइन खोज करें।

इसके लिए सबसे पहले इसके विभिन्न वेबसाइटों में से एक पर पंजीकरण करना आवश्यक है। प्रारंभिक पंजीकरण अधिकतम वेबसाइटों पर मुफ़्त है। पंजीकरण के बाद वर या वधू का प्रोफाइल बनाना होगा। इसमें सही विवरण और उचित तस्वीरें प्रदान करना सुनिश्चित करें क्योंकि बाद में इसे सत्यापित किया जाएगा।

उपरोक्त चरणों का पालन करने के बाद। एक वेबसाइट पर मौजूद विभिन्न प्रोफाइलों को ब्राउज़ कर सकता है लेकिन अब अगर आप किसी से संपर्क करना चाहते हैं या प्रीमियम प्रोफाइल देखना चाहते हैं तो आपको एक पेड प्लान लेना होगा। बुनियादी पंजीकरण विभिन्न वेब साइटों पर नि: शुल्क है लेकिन आवश्यक सेवाओं की संख्या बढ़ने पर विभिन्न कीमतें कार्रवाई में आ जाती हैं। यह संपर्क की जा रही प्रोफ़ाइल की संख्या पर निर्भर करता है। अन्य सदस्यों को भेजे जा रहे संदेशों की संख्या। और इसी तरह यह बदलता रहता है।

ये है जीवनसाथी ढूँढने के तरीके – तो इन ऑप्‍शंस को ट्राई कर आपको अपनी पंसद का जीवनसाथी जरूर मिल जाएगा। य‍कीन मानिएगा ये ऑप्‍शंस आपकी मुश्किल को जरूर खत्‍म करेंगें।

Visit Venture9.in Web Developers, Tech Blog & A Blog of Blogs, A multi Niche Digital Creative Agency.

Visit & Shop Now With MayZone.In shopping with savings Deals, Coupons, Discounts, Compare & Shop With Attractive Cash Back’s.

Looking for government job ? Sarkari Naukari ?? Look No Further, For Latest Job Updates & Career Updates, Visit BharatJobGuru.com

Why Online Presence is Important for Your Business

0
Why Online Presence is Important for Your Business
So What that great about being online.

here are the 9 reasons for why having an online Presence is Important for Your Business.

In the Digital Age, it is Absolutely Essential for your Business to have an Online Presence. Whether it’s a Website, an E-Commerce Platform, an App, social media page or a Combination of All Four. Getting your Company online will reap major benefits. Even if your Company does not sell its products or services, or do business online. Customers and potential customers are expecting to see you online. If they don’t see you there, you could be losing out on the opportunity to increase your customer base and get the word out about your business.

there are a lot of advantages of having a digital presence, some major one of them we will cover here.

online links are always open

a website or app is open 24 hours without any human support so no need of manual labor to run the store front. orders form night or previous day can easily be catered next day itself. Your physical store may be open 8-12 hours per day. This leaves another 12-16 hours where you could be selling products or providing information to potential customers. A digital presence means that they see your business and your products 24 hours a day, 7 days a week, 365 days per year. This can double your profits and grow your business even while you are sleeping. This will also give a boost to your marketing efforts, which for many SME’s just starting out, are lackluster at best.

Accessibility, its easier to find through online presence

It is essential for both small and large businesses to maximize on the benefits of having a strong web presence. Aspects such as dynamic search algorithms and social networks are influential in the process of making it easier for customers to locate different businesses online. A business that does not have an online PRESENCE is regarded as non-existent in the modern and competitive business environment.

According to Google, 97% CONSUMERS use the web to search for local businesses 

Effective Marketing of products & services

Online presence makes it easier for you to market your business and sell your products. A properly designed and informative website with well written content enables customers to make informed purchasing choices. The web provides a marketing platform that gives you a cost effective way to reach a wider audience than conventional marketing techniques.

scope of reaching a large audience

if the product or service is delivarable, you can reach a huge amount of audiences or get leads and can get sucessful in converting any of them.

Why Online Presence is Important for Your Business
the mantra for success ” online presence “

very easy to create queries and respond in detail and person in digital world

with all the online this that, a progress well made, results in a stronger brand ultimelty.

Friends in the mean while i would like to discuss something very important with you all then we will continue with the advantages of online presence.

About venture9.in

the publishers of this very article, run more than 19 websites & blogs. Under the Brand Name of Venture9.in. We are involved mostly with, in house development with limited client work. we are a global brand dealing mainly in web development, graphics designing, content development, social media promotions and much more.

But this all dosen’t mean that we are too busy at all, we are always open for quility projects and believe us we dont have any intentions to make a buck out of it rather we are here for the learning part of it.

if you have any project, or leads, or questions, we are always here to guide you on the correct path, all needed is to just ask.

reasons why hire a professional development company like us.

  1. Our Company Brings With It Rich Experience.
  2. We Know How to Leverage New Technologies.
  3. Can Take Care of Everything from Development to Support.
  4. We Have Infrastructure as well as Talents.
  5. Last But Not the Least, It’s Very Convenient.

we are also very well working in online shopping category with our portal mayzone.in and sococho.in. click here to Read Here Our Detail Article on Online Shopping .

Why Online Presence is Important for Your Business
One of the funny truth of today’s online world, everybody is a part of it.

Well lets continue on the remaining part of discussing advantages of having a online presence.

why there is a need for a website

All businesses, no matter how small, should have a website. It can be extremely basic, but it should contain the fundamental information customers – both existing and potential – need.

importance of social media

Social media is an important part of your online presence that improves your chances of generating additional revenue and building customer loyalty. It allows customers, potential customers and other interested parties to engage easily via a channel that plays an important role in their everyday lives.

advantage of Review & Ratings in the online world

Offline its always not available but in the online world, people look for it. it’s a must & believe me how much or however you try to fake it. the truth will always come out there.

Having best-in-class consumer-generated ratings and reviews is more important than ever. It’s become an expected and influential part of the purchase journey. Ratings and reviews rank high among the top factors impacting purchasing decisions, coming in at second, just behind price. The reason: Consumers trust them.

Online Shopping is Here and it’s Going to Stay

0
Online Shopping is Here and it's Going to Stay

friends, today we are going to discuss a very interesting topic “Online shopping, is here and it’s going to stay

Let me first start by explaining the term online shopping, In this goods are brought online using a virtual link. There is no need to personally visit the store, look for one, etc, just search online and within few minutes it will be ordered. believe me, it saves a lot of time and effort. Also there a benefit of review and ratings, which is impossible in offline world and many times we have to suffer a lot due to lack of all this. Purchases and services transactions which are done online involve little or no cash at all all you need is a valid pan, Aadhar, bank account, personal mobile no, and your done. it is very easy to keep records of income and expenditure using this method.

let me ensure you that, it does not mean all online portals are based abroad and all money we spend online goes abroad, it is a misconception, today even local businesses are doing quite well online. This misconception that it should be disapproved, is completely beyond understanding.

like, if we take in recent circumstances, local businesses supported us a lot and those who were having a digital presence or were using some sort of technology were way ahead and made a quite few bucks like online kirana stores , apps and portals selling medicine dairy bakery farm products and many more others. in the time of dire needs it was technology which saved us a lot, quick movement of information was possible due to this factor.

folks, we Team Venture9.in, who are also the publishers of this very interesting information & news portal globalreport.in, also run a multi brand online shopping site, Mayzone.in where one can compare and buy, find deals, coupons & discounts and save some money through cash backs. yes you heard us right cash back on various products and services. on mayzone.in we get certain fees for any transaction (if any happens) made through our portal, so you can say the good news is that even the online portals from which you buy through us like amazon, flip-kart which are run by a abroad based brand or company then also still some part of the money spend is saved in our very own country due to us.

it is the high time to go ” vocal for local ” for this we need to support MAKE IN INDIA, MADE FOR INDIA, MADE IN INDIA. if we dream to be a 10 trillion dollar economy then we have to focus in the right direction.

there is a long list of made in india “STARTUP’S ” Almost all of them have to prove their worth, its a hard catch, nevertheless, our efforts are high and we only urge you to support us (our economy) in all this.

trying to buy maximum goods and services “made in india and also ensuring that the owner company also belongs to our country will itself will be a great service and contribution to the nation.

mayzone.in mentioned earlier in this article, goes with the tag line “ App ka Apna shopping partner.

It is A multibrand and multiple shopping platforms combined together, in one big online shopping superstore, dealing in A TO Z CATEGORIES OF PRODUCTS & SERVICES, to offer best deals, coupons, discounts, cash back and much more. Big savings on multiple shopping sites.

Multiple shopping options @ one place.
Compare and shop.

Get products, deals, offers, discounts, cash back, etc from :
Amazon flikpart siteground lime road 1mg so choco Sri Sri tattava mayntra siteground tatacliq ajio firstcry make my trip shopclues
Pepperfry and many more.

Products from various categories LIKE :

Health wellness apparels electronics gadgets quickry products travel recharge home essentials mobiles and mobile accessories
Gardening medicine gifts furniture hotel tour packages children beauty decor fashion and many many more.

Online Shopping is Here and it's Going to Stay

Mayzone.in is India’s Best Online Shopping Community website where you can find Best Deals, Top Deals online, coupons & discounts for wide range of products. Compare & Shop with attractive cashback. Avail the hottest deals from here at lowest possible price.

Mayzone.in is a completely free site that offers discounts through coupons and offers from leading national and international online stores. Every time you make a purchase over the internet, we help you save money. As well? We deal with the best e-commerce companies and search the internet to find and offer exclusive coupons and special discounts at your favorite online stores.

althoug online shopping is going through hard phase with deliverie’s hampered from march 25th this year, have not recoverd till now as it it is 25th may already but we are staying still, optimistic and have very good hope for the upcoming future.

till then, happy reading

STAY HOME, STAY SAFE. (promote and do online shopping.)

avoid unnecessary movement like going outside, travelling without a reason maintain social distancing flatten the curve) wear a mask and gloves when ever outside also avoid personal contact with others.

Mayzone … India’s finest shopping blog, get informative content to make the right shopping decisions. also covered latest deals offers discounts topped with Exclusive cash Backs & Gifts. Get Shopping Offers, Cashback, Deals, Coupons from your favourite online shopping store.

ARE YOU LOOKING FOR A GOVERNMENT JOB ? … LOOK NO FURTHER VISIT … BHARAT JOB GURU Govt Jobs, Sarkari Naukri, Results, Admit Cards, Corporate Jobs, Govt Job Updates.

Buy unique, handmade, handicraft products, eco-friendly jute products, pooja items, gifting & decor items. Visit … Sochoco

सख्त जनसंख्या नियंत्रण कानून है समय की मांग

0

आज जब मैं यह आर्टिकल लिख रहा हूँ तब तक हमारे देश की जनसंख्या लगभग 1,378,085,550 हो चुकी होगी, जो कि प्रति सेकंड तेजी से बढ़ रही है और अनुमान है कि इस वर्ष के मध्य तक यह 1,380,004,385 होगी।

पूरे विश्व की कुल जनसंख्या का 17.7% जनसंख्या हमारे देश की हो चुकी है जो कि एक गम्भीर चिंता का विषय है। यदि हमारे देश की जनसंख्या इसी तीव्र गति से बढ़ती रही तो एक दिन हमारा देश चीन को पीछे छोड़ते हुए विश्व का सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश बन जायेगा। जिसके परिणामस्वरूप सिर्फ गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी ही हमारी पहचान होगी।

भयावह जनसंख्या विस्फोट को देखते हुए अब देश में एक कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग जोरों से उठने लगी है। सांसद सदस्य प्रो राकेश सिन्हा द्वारा 2019 में संसद के सत्र में भी इसी तरह की चिंताओं को उठाया गया था जब उन्होंने राज्य सभा में एक निजी सदस्य विधेयक, जनसंख्या नियमन विधेयक, 2019 पेश किया था। जिसके बाद देश के एक बड़े वर्ग द्वारा इस तरह के जनसंख्या नियंत्रण कानून को लागू करने की मांग जोर पकड़ने लगी।

जनसंख्या वृद्धि और संसाधनों की उपलब्धता पर जारी संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत वर्ष 2027 तक दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के रूप में चीन से आगे निकलने की ओर अग्रसर है।

रिपोर्ट में आगे कहा गया कि, “भारत में 2019 और 2050 के बीच लगभग 273 मिलियन लोगों के और जुड़ने की उम्मीद है और यह वर्तमान सदी के अंत तक दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश रहेगा, लगभग 1.5 बिलियन निवासियों के साथ चीन में 1.1 बिलियन लोग हैं।”

रिपोर्ट का निष्कर्ष है कि भारत की जनसंख्या वृद्धि दर के साथ आबादी का प्रक्षेपण दुनिया में आकार के अनुसार अपनी रैंकिंग को फिर से आदेश देगा जो कि खतरनाक है और सरकार और नागरिक समाज को शामिल करने वाले किसी भी विचार-विमर्श के केंद्र में होना चाहिए। भारत की जनसंख्या के आकार, संरचना और वितरण में इन महत्वपूर्ण परिवर्तनों का भारतीय अर्थव्यवस्था और पर्यावरण की स्थिरता पर गंभीर परिणाम होंगे।

जनसंख्या स्थायी विकास से संबंधित किसी भी कार्य के मूल में है, इस प्रकार जनसंख्या-विकास और शहरीकरण के जनसांख्यिकीय मेगाट्रेड्स स्थिरता के लिए गंभीर चुनौतियां हैं। इसलिए, अनियंत्रित जनसंख्या वृद्धि का परिणामी प्रभाव, सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को प्राप्त करने के लिए नीचे की ओर गति करेगा, जो पर्यावरण की रक्षा करते हुए आर्थिक समृद्धि और सामाजिक कल्याण में सुधार के लिए सार्वभौमिक रूप से सहमत उद्देश्य हैं। इस प्रकार, भारत सरकार की ओर से समय पर हस्तक्षेप न केवल भविष्य की जरूरतों की आशा करने में बल्कि एक कुशल तरीके से जनता की बदलती जरूरतों को पूरा करने के लिए नीतियों के विकास और योजना के लिए एक लंबा रास्ता तय करेगा।

जनसांख्यिकीय लाभांश के आख्यानों के आसपास के मिथक का पर्दाफाश किया गया है क्योंकि बेरोजगारी और असमानता के स्तर में वृद्धि हो रही है, जिसे ज्यादातर factors डिजिटल-व्यवधान ’और मशीनीकरण के साथ भूमंडलीकरण के कारकों के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। यह आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय क्षेत्रों के लिए एक राष्ट्रीय कार्रवाई नीति ढांचे की आवश्यकता को जनता के जीवन और आजीविका की सुरक्षा के लिए आवश्यक करता है।

रहने योग्य स्थान के लिए लगातार बढ़ती प्रतिस्पर्धा के साथ, महत्वपूर्ण संसाधन जैसे पानी, भूमि, आदि, और आर्थिक विकास और आजीविका की संभावनाएं 21 वीं सदी में सबसे बड़ी चुनौती बन गई हैं। इन परिणामी जनसांख्यिकीय परिवर्तनों ने आज भारत के लगभग सभी राज्यों में विभिन्न हितधारकों के संसाधनों और अवसरों के वितरण में असमानताओं को और बढ़ा दिया है।

तथ्य यह है कि अनियंत्रित जनसंख्या वृद्धि और संबद्ध खपत पैटर्न ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के हमारे प्रयासों को गंभीर रूप से खतरे में डाल रहे हैं। जैसा कि भारत के कई क्षेत्रों में natures संसाधनों के ऐसे अनियंत्रित और निरंतर उपयोग के परिणामों का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही के मामले में तमिलनाडु में चेन्नई के लोगों द्वारा पानी की गंभीर कमी का सामना किया जा रहा है।

भारत में दुनिया की आबादी का लगभग 18 प्रतिशत है और इसके निपटान में दुनिया के केवल 4 प्रतिशत जल संसाधन हैं, जो स्थिति को बहुत चिंताजनक बनाता है। सबसे बुरी बात यह है कि इस पानी का 70 फीसदी हिस्सा दूषित है और इसका इस्तेमाल अनियमित है।

NITI Aayog द्वारा प्रकाशित कम्पोजिट वाटर मैनेजमेंट इंडेक्स रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 खत्म होने तक, भारत के 21 प्रमुख शहरों का भूजल तालिका 100 मिलियन से अधिक प्रभावित होने जा रहा है, जो अपने आप में प्रकृति की वहन क्षमता को लेकर चिंता का विषय है। यह स्पष्ट रूप से दिखाता है कि सीमित और दुर्लभ वातावरण में खिलाने के लिए बहुत सारे मुंह हैं तो सेवा वितरण कितना कम और कम हो जाएगा।

कृषि मंत्रालय द्वारा किए गए एक अध्ययन से प्राप्त आंकड़ों से पता चलता है कि जनसंख्या वृद्धि की वर्तमान दरों के साथ, भारत में 2050 तक फ़ीड करने के लिए अतिरिक्त 430 मिलियन मुंह होंगे, और जनसंख्या के साथ तालमेल रखने के लिए, अनाज उत्पाद आयन को प्रति वर्ष कम से कम 4.2% की दर से बढ़ना चाहिए, वर्तमान दर से दोगुना से अधिक जो एक मानवीय कार्य होने जा रहा है, इस तथ्य को देखते हुए कि भारत में विश्व भूमि का केवल 2.4 प्रतिशत हिस्सा है। इसलिए, हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि भारत 2018 के वैश्विक भूख सूचकांक में 119 देशों के बीच 103 वें स्थान पर क्यों है।

अनियंत्रित होने पर जनसंख्या वृद्धि से गरीबी बढ़ती है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) और ऑक्सफोर्ड गरीबी और मानव विकास पहल की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, 2006-2016 की अवधि के दौरान भारत 271 मिलियन लोगों को बहुआयामी गरीबी से बाहर निकालने में सक्षम रहा है। लेकिन गंभीर चिंता की बात यह है कि भारत में अभी भी 373 मिलियन लोग हैं जो तीव्र अभाव का अनुभव करते हैं।

भारत में वर्तमान में गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों की सबसे बड़ी संख्या है। अनियंत्रित जनसंख्या वृद्धि का राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य पर भारी प्रभाव पड़ता है। भारत की अर्थव्यवस्था वर्तमान में दुनिया में 6 वें स्थान पर है (अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, 2017-18) और निकट भविष्य में $ 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था होने की ओर अग्रसर है। लेकिन इस वृद्धि ग्राफ से जो चिंता होती है वह है प्रति व्यक्ति आय का स्तर जो दुनिया में सबसे कम है। भारत सिर्फ 1,983 PCI (अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, 2017-17) के साथ प्रति व्यक्ति आय (पीसीआई) जीडीपी में 187 देशों में 139 वें स्थान पर है।

इस प्रकार, ‘जनसंख्या नियमन विधेयक’ जैसे सक्रिय उपाय समय की आवश्यकता हैं। प्रस्तावित विधेयक दंड देने के बजाय प्रोत्साहन के सिद्धांत पर काम करता है। यह सुझाव देता है कि दो से अधिक संतानों वाले लोगों को सभी स्तरों पर चुनाव लड़ने से रोक दिया जाएगा। इसके अलावा, यह सभी सरकारी नौकरियों में एकल बच्चे को वरीयता के लिए प्रोत्साहन (वेतन, ऋण, मुफ्त स्वास्थ्य और शिक्षा) की एक सूची देता है) जिसे सरकार अपने कर्मचारियों को दो बाल नीति का पालन करने के लिए दे सकती है।

जैसा कि आप सब देख रहे हैं कि अनियंत्रित जनसंख्या के कारण ही आज कोरोना महामारी के इस दौर में हमारा देश अनगिनत समस्याओं से जूझ रहा है तथा सरकार द्वारा दी गयी सभी सुविधाएं अपर्याप्त साबित हो रही हैं। अतः एक कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून भारत देश में समय की मांग है।

जनसंख्या पर प्रस्तावित कानून निकट भविष्य में एक वास्तविकता हो सकता है, क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी ने जनसंख्या विस्फोट को वास्तविक चुनौती और भारत की समृद्धि और विकास के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया है।

-संजय राजपूत

महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध जानिए कौन थे इस युद्ध के 15 सबसे बड़े योद्धा 

0
महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध जानिए कौन थे इस युद्ध के 15 सबसे बड़े योद्धा 
महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध जानिए कौन थे इस युद्ध के 15 सबसे बड़े योद्धा 

भारत के मुख्य युद्धो में से एक महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध था और अब यह एक ऐतिहासिक गाता है।महाभारत नाम की ऐतिहासिक लड़ाई बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है और इस युद्ध में राजनीतिक, नैतिक और धर्म के तत्व शामिल है। इस लड़ाई में स्वयं भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण जी ने बिना अस्त्र-शस्त्र के भाग लिया था। दरअसल महाभारत के दौरान श्री कृष्ण जी ने अर्जुन से कहा है कि इस धरती पर जब-जब धर्म की हानि होगी तब तब वह अवतार लेंगे और इस धरती को अधर्मी लोगो से बचाएंगे।

महाभारत की लड़ाई में कौरवो की पूरी वंश खत्म हो गई थी इस युद्ध में इतने लोग मरे थे और इतना रक्त बहा था कि वहां की भूमि रंग आज भी लाल है। इस युद्ध में सबसे शक्तिशाली योद्धाओ ने भी भाग लिया और जो अपराज्य माने जाते थे यही नहीं महाभारत के इस लड़ाई में सबसे शक्तिशाली हथियारो का इस्तेमाल किया गया था। लेकिन कुछ लोग यह जानना चाहते होंगे कि इतने महान योद्धाओ में से सबसे शक्तिशाली कौन था। तो आइए जानते हैं महाभारत के महान योद्धाओ में से कौन कौन थे सबसे महान शक्तिशाली योद्धा।

दुर्योधन 

दुर्योधन कौड़व सेना केे भाईयो में सबसे बड़े भाई थे और एक बहुत बड़े योद्धा भी थे जिनको गदा चलाने की कला में महारत हासिल थी। असल में उस जमाने में गधा चलाने वालो में दुर्योधन सर्वश्रेष्ठ थे इनके पास गजब की शारीरिक शक्ति थी और छोटी मोटी चोटो का उन पर कोई असर नहीं होता था। कहा जाता है कि दुर्योधन में अकेले हजार आदमियो की शक्ति निहित थी। दुर्योधन अपनी युद्ध कला  गुरु कृपाचार्य और द्रोणाचार्य से सीखी थी जिसके बाद उन्होंने बलराम से गधा चलाने की कला सीखी। वह पूरे भारतवर्ष के सबसे क्रूर शासक थे और महाभारत जैसा विशाल युद्ध शुरू करने के पीछे सबसे बड़ा कारण वही थेे।

भीम

महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध जानिए कौन थे इस युद्ध के 15 सबसे बड़े योद्धा 

भीम पांचो पांडव भाइयो में से दूसरे बड़े भाई थे जो कुंती और वायु देव के पुत्र थे इनका नाम भीम था। भीम अपने पिता की तरह ही काफी शक्तिशाली थे उन्हें इंद्रदेव और वायु देव के जितना ही बलवान माना जाता था। पांचो पांडवो में ये सबसे ज्यादा बलवान माने जाते थे यही नहीं पूरे महाभारत के युद्ध में कोई भी इनके जैसा बलवान नहीं था। कहा जाता है भीम में एक लाख हाथियो का बल था भीम ने गदा और तलवार चलाने की कला बलराम से सीखी थी। एक बार बचपन में भीम अपनी मां की गोद से पहार के नीचे गिर गए थे लेकिन एक बड़ी चोटी से गिरने के बाद भी भीम को एक खरोच तक नहीं आई थी और जिस चट्टान पर वह गिरे थे वह चट्टान चूर-चूर हो गई थी। इस घटना से आप भीम की शक्ति का अंदाजा लगा सकते हैं और यह भी समझ चुके होंगे कि भीम कैसे प्रतिष्ठित पहलवान रह थे।

अभिमन्यु

अभिमन्यु महान योद्धा अर्जुन के पुत्र थे अभिमन्यु ने अपना बचपन द्वारका में श्री कृष्ण जी के आचरण में निकाला। उन्होंने युद्ध की कला अपने पिता अर्जुन और श्री कृष्ण जी के पुत्र प्रद्युमन से सीखा था। अभिमन्यु में सीखने की काफी ज्यादा क्षमता थी इसलिए उनकी शिक्षा उनके मां के गर्भ में रहने के समय से ही शुरू हो गई थी। जब अभिमन्यु अपने माता के गर्भ में थे इस दौरान अर्जुन अभिमन्यु की माता को युद्ध नीतियो के बारे में बताते थे, तब अभिमन्यु ने गर्भ में रहकर ही उन नीतियो को सीख लिया था। जब अर्जुन चक्रव्यूह बनाने और तोड़ने का ज्ञान दे रहे थे, उस समय उनकी माता आधे शिक्षा में ही सो गई थी और ऐसा होने के कारण अभिमन्यु ने चक्रव्यूह में घुसना तो सीख लिया लेकिन उसे भेद कर बाहर आना नहीं सीख पाए। जिस कारण महाभारत के युद्ध में अभिमन्यु चक्रव्यूह में घुस गए लेकिन बाहर नहीं आ सके और उनका वध हो गया अभिमन्यु 16 साल के कम उम्र में ही महाभारत के युद्ध का हिस्सा बने थे।

घटोत्कच

महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध जानिए कौन थे इस युद्ध के 15 सबसे बड़े योद्धा 

घटोत्कच भीम और राक्षसी हिडिंबा के पुत्र थे, क्योंकि वह आधे क्षत्रिय और आधा राक्षस थे तो उनमें दोनो की दिव्य शक्तिया मौजूद थी। हिडिंबा के पुत्र होने के कारण थे घटोत्कच में राक्षसो की सारी शक्तिया थी और वह एक क्षत्रिय के पुत्र भी दे तो इसीलिए उनमें क्षत्रियो का ज्ञान और बल भी मौजूद था। घटोत्कच के पास कई दिव्य शक्तिया भी थी जिस कारण वह अपनी मर्जी से आकार बदल लेते थे। इसीलिए महाभारत के अच्छे-अच्छे योद्धा उनके सामने हार मान लेते थे घटोत्कच ने एक ही रात में पूरी की पूरी कौड़व सेना को खत्म कर दिया था।

अश्वथामा

अश्वत्थामा गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र थे अश्वत्थमा का जन्म शिव जी के आशीर्वाद के साथ हुआ था। दरअसल द्रोणाचार्य जो अश्वथामा के पिता थे उन्होने काफी सालो तक शिव जी की तपस्या करके उनको प्रसन्न किया था और उनसे यह वरदान मांगा था कि उनका पुत्र शिव जी की तरह ही शक्तिमान हो। इसीलिए अश्वत्थामा के जन्म के समय उनके सर पर एक मणि थी और इस मणि के कारण अश्वथामा को ना तो भूख लगती थी और ना ही प्यास लगती थी। यही नहीं इस मणि के सहारे अश्वत्थमा हर प्रकार के जीव जंतुओ को अपने वश में कर सकते थे। अश्वत्थामा एक चरंजीवी थे और उन्हें अस्त्र-शस्त्र चलाने में महारत हासिल थी। अश्वत्थामा के पास बहुमूल्य ब्रह्मास्त्र भी था अश्वत्थामा के बारे में भीम ने कहा था कि अश्वत्थामा से क्रोधित रूप में लड़ना नामुमकिन था क्योंकि वह शिव जी के जैसे ही भयानक रूप ले लेता है। 

द्रोणाचार्य

कौड़व और पांडव के गुरु द्रोणाचार्य ने दोनो तरफ के योद्धाओ को ज्ञान दिया था। द्रोणाचार्य के पास हर प्रकार का शस्त्र चलाने का ज्ञान था जिसमें प्रशुपतास्त्र, नारायणाअस्त्र, ब्रह्मास्त्र भी शामिल है। द्रोणाचार्य को कभी सीधे पराजित नहीं किया जा सकता था तब श्री कृष्ण ने भीम से कहकर अश्वथामा नाम के एक हाथी को मरवा दिया और हर तरफ खबर फैला दी कि अश्वत्थामा मारा गया। यह सुनकर द्रोणाचार्य ने अपने हथियार डाल दिए और ऐसे में छल से द्रोणाचार्य का वध किया गया। द्रोणाचार्य परशुराम के शिष्य थे और अपने वचन के कारण उन्होंने कौड़वो के तरफ से महाभारत का युद्ध लड़ा था कौड़वो की तरफ से महाभारत की अच्छी और बड़ी रणनीतिया द्रोणाचार्य ने ही बनाई थी।

भीष्म

महामहिम भीष्म को हराना असंभव था क्योंकि उन्हें यह वरदान मिला था कि उनकी जान उनकी इच्छा के बगैर नहीं ली जा सकती। युद्ध के 10 दिन बीत जाने के बाद पांडव समझ चुके थे कि भीष्म को हराना असंभव है। भीष्म ने महर्षि परशुराम को भी हराया था जो कि विष्णु के अवतार थे। तब शिखंडी को आगे करके अर्जुन ने भीष्म पर अनेको बाण चलाए और फिर भीष्म अर्जुन द्वारा चलाए गए बाण के बिच में फस गए लेकिन उन्होंने अपना प्राण अपनी मर्जी से ही त्याग किया था।

अर्जुन

अर्जुनकुंती और इंद्र देव के पुत्र थे अर्जुन के पास कई अस्त्रो का ज्ञान था। महाभारत युद्ध की शुरुआत से पहले श्री कृष्ण जी ने स्वयं अर्जुन को चुनाव का मौका दिया कि वह या तो कृष्ण की नारायणी सेना को चुने या फिर स्वयं श्रीकृष्ण को चुने तब अर्जुन ने बिना अस्त्र-शस्त्र धारी श्री कृष्ण को चुना। अर्जुन का यह फैसला महाभारत के युद्ध में अधर्म पर धर्म की विजय होने में अमृत के समान रखी । भगवान श्रीकृष्ण तो पहले से ही जानते थे कि क्या होने वाला है ऐसे में उन्होंने अर्जुन के आगे यह प्रस्ताव रखा कि अगर तुम्हें सही लगे तो तुम मुझे सारथी के रूप में चुन सकते हो लेकिन मैं इस लड़ाई में अस्त्र शास्त्र का उपयोग नहीं करूंगा।

महाभारत प्राचीन काल का सबसे बड़ा युद्ध जानिए कौन थे इस युद्ध के 15 सबसे बड़े योद्धा 

ठीक उसी प्रकार भगवान श्री कृष्ण ने युद्ध में केवल रणनीतिया ही बनाई और पांडव पक्ष का मार्गदर्शन किया। महाभारत के युद्ध में अर्जुन के सबसे बड़ी भूमिका थी भगवान श्रीकृष्ण पर उनका विश्वास जिस कारण उन्होंने सेना के बदले श्री कृष्ण का चुनाव किया। महाभारत के युद्ध में सारथी रूप में मौजूद कृष्ण के मार्गदर्शन से ही अर्जुन ने कौड़वो की आधी से ज्यादा सेना को मारा और जिसमें भीष्म पितामह और कर्ण भी शामिल थे।

दानवीर कर्ण

दानवीर कर्ण को अंगराज कर्ण भी कहा जाता है अंगराज कर्ण सूर्यपुत्र थे जिन्होंने कुंती माता से जन्म दिया था। लेकिन इनका पालन-पोषण छोटे जात के लोगो ने किया था जिस कारण महान योद्धा, शक्तिशाली और दानवीर होने के बावजूद भी जीवन भर इनके साथ भेदभाव होता रहा दानवीर कर्ण अर्जुन से भी महान धनुर्धर थे। दानवीर कर्ण को उनके कवच और उनके कुंडल के साथ कभी भी हराया नहीं जा सकता था। पहले तो कर्ण से उनके कवच और कुंडल निकलवाया गया लेकिन उसके बाद भी कर्ण से युद्ध जीतना असंभव था तब अर्जुन ने कर्ण का वध किया।

कर्ण ने युद्ध में नकुल, सहदेव, युधिस्टर और भीम को भी हराया था लेकिन उन्हें मारा नहीं। क्योंकि कर्ण ने यह प्रतिज्ञा ली थी कि वह अपने भाइयो को नहीं मारेगा और आखिरी में कर्ण को भी भगवान श्री कृष्ण ने छलके सहारे ही वध करवाया था। परशुराम के श्राप के कारण आखिरी समय में इनकी विद्या भी खो गई थी और इनके रथ के पहिए को मिट्टी में अंदर समा दिए जिसे निकालने के लिए जब कर्ण रथ से उतरे तो उनका वध किया गया था।

भगवान श्री कृष्ण

महाभारत के सबसे शक्तिशाली योद्धा भगवान श्री कृष्ण थे जो विष्णु के अवतार थे। भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत में कोई भी हथियार का प्रयोग नहीं किया था केवल रणनीति बनाकर ही इतने महान योद्धाओ को मात दे पाए थे। इसके विपरीत अगर श्री कृष्ण जी हथियार उठा लेते तो केवल अपने सुदर्शन चक्र से ही पूरे कौड़वो सेना को खत्म कर देते और ऐसे में महाभारत की लड़ाई की तो कोई आवश्यकता ही नहीं होती।

लेकिन तब इसे महाभारत की लड़ाई नहीं कही जाती और ना ही अधर्म पर धर्म की जीत कही जाती। इसीलिए भगवान श्री कृष्ण ने रणनीति बनाकर पांडवो के हाथो से कौड़वो का वध करवाया था। महाभारत के समय ही भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को अपना विराट रूप दिखाया था कृष्ण ने धर्म के सभी बातें महाभारत में कही थी। 

ऐसे में महाभारत देखने और पढ़नेे से आज के समय में भी लोग धर्म अधर्म सेेेे जुड़े ज्ञानो से अवगत हो सकते हैं, उन्हें सही मार्ग मिल सकता है और फैसला करने की शक्ति मिल सकती हैं।

कौन हैं छठी मईया, कैसे हुई थी छठ महापर्व की शुरूआत और क्या है इस पर्व का महत्त्व

0
कौन हैं छठी मईया, कैसे हुई थी छठ महापर्व की शुरूआत और क्या है इस पर्व का महत्त्व
कौन हैं छठी मईया, कैसे हुई थी छठ महापर्व की शुरूआत और क्या है इस पर्व का महत्त्व

छठ महापर्व एक ऐसा पर्व है, जिसमें देवी देवता के साथ प्रकृति की पूजा होती है। जिनमें गंगा मैया, धरती मा में उत्पन्न होने वाले सभी प्रकार के साग सब्जीया, फल, मेवे और छठ का महाप्रसाद ठेकुआ बनता है। इस प्राकृतिक पूजा में सूर्य देव, गंगा मईया, धरती मईया के साथ बांस के बने डाला और कलशुप होते हैं और इन सबका महत्त्व भोजपुरी समाज में छठ करने वाले लोग ही भली भांति जानते हैं।

बिहार के लोगो बिहारी समाज में छठ महापर्व केवल एक बार भी नहीं हो रहे यह बिहारी लोगो का इमोशन होता है। इन लोगो से इस महापर्व की भावनाए इस कदर जुड़ी रहती है कि वह पूरे साल इंतजार करते हैं बिहारी परिवार में शादी करके पहली बार आती है। तब पहली बार छठ करने की बात करती है तो उस नई बहू का अदा काफी ज्यादा ऊपर उठ जाता है घर के सभी लोग उसके सर पर बैठा लेते हैं, क्योंकि वह छठ महापर्व जैसे कठिन पर्व को करना चाहते हैं।

दुनिया उठते हुए सूरज को सलाम करती है कोई सेल्यूट द राइजिंग सन अंग्रेज भी कहां करते थे ब्रिटिश राज्य में सूरज कभी अंत नहीं होता, एक कव्वाली भी है जिसमें गाया जाता है कि चढ़ता सूरज धीरे-धीरे ढलता है ढल जाएगा। ऐसे में ऐसा लगता है जैसे कि सूरज का ढलना कोई बूरा प्रतीक हो, कोई गलत बात हो, कोई खराब बात हो हालाकि ये सब यूरोप और अरब के देशो में मानते होंगे।

लेकिन हम भारतवासी ऐसा नहीं मानते, हम डूबते हुए सूरज को भी पूजते हैं हमारे लिए और हमारे लिए पश्चिम में अस्त होता सूर्य उतना ही स्रधेय है, जितना कि पूरब में उदय होता हुआ सूर्य और डूबते सूर्य के प्रति उनका भाव नहीं बदलता। क्योंकि सूर्य भगवान देवता है और दिशा बदल देने से भगवान के प्रति हमारा भाव और श्रद्धा नहीं बदल जाता। बड़ी बात है सूर्य भगवान का सूर्य होना, तेजो राशे जगत्पते होना, सृष्टि और जीवन का आधार होना। 

कौन हैं छठी मईया, कैसे हुई थी छठ महापर्व की शुरूआत और क्या है इस पर्व का महत्त्व

हर साल दीपावली के छठवें दिन छठ महापर्व की शुरुआत हो जाती है। यानी कार्तिक शुक्ल पक्ष की छठवीं तिथि को छठ महापर्व का प्रथम अर्ग दिया जाता है और इस दिन करोड़ो भारतवासी सूर्य देवता के अस्त रूप के आगे नतमस्तक होकर उन्हें अर्ग प्रदान करते हैं। अगले ही दिन उगते हुए सूर्य के आगे हमेशा इस पृथ्वी को उजागर बनाए रखने की कामना से अर्ग देकर पूजा का समापन करते हैं।

छठ महापर्व के गीतो के आगे बड़े से बड़े संगीतकारों के द्वारा बनाया गया संगीत फीका पड़ जाता है जब छठ पूजा के गीत गूंजते हैं तब सभी लोगों का मन और तन दोनों पूरी तरह पवित्र हो जाता है और पूजा की भावनाओ से जुड़ जाता है।

कौन हैं छठी मैया

छठी मैया कौन है इसे लेकर कई धारणाए हैं पुराणो में नवरात्रि के छठवें दिन पूजी जाने वाली मां कात्यायनी को छठी मैया बताया गया है। सनातन धर्म में उन्हें ब्रह्मा देव की मानस पुत्री माना गया है मानस पुत्री का मतलब होता है जिसके जन्म में शरीर की कोई भूमिका न हो सिर्फ मन के मिलन से उत्पन्न हुई कन्या को मानस कन्या कहा जाता है।

छठ महापर्व को पहली बार किसने किया था और यह पर्व कब शुरू हुई थी इस बात को ठीक ठीक कहा तो नहीं जा सकता, लेकिन एक बात जरूर कही जाती है कि इस पर्व को सबसे पहले महाभारत के समय में द्रोपती ने किया। 

बिहार का एक जिला है भागलपुर महाभारत के काल में इस जिला को अंग जिला के नाम से जाना जाता था और इस देश के जिला के राजा थे सूर्यपुत्र अंगराज कर्ण। अंगराज कर्ण भी छठ महापर्व किया करते थे और सूर्य भगवान को अर्घ देते थे। कर्ण तो सूर्य के ही पुत्र थे इसीलिए उनकी सूर्य उपासना और पिता उपासना और महाभारत के युद्ध के अंत समय में जब अर्जुन के तीर से वेद कर्मा अंगराज कर्ण वीरगति को प्राप्त हुए तब उस दिन आकाश में सूर्य भी रो पड़े थे अपने पुत्र को की मृत्यु को वह सहन नहीं कर पाए।

कौन हैं छठी मईया, कैसे हुई थी छठ महापर्व की शुरूआत और क्या है इस पर्व का महत्त्व

जिस प्रकार अंगराज कर्ण सूर्य देवता के साथ अपने पिता की उपासना करते थे ठीक उसी प्रकार छठ पूजा में और देने वाले सभी भक्त सूर्य देव के साथ अपने पिता को अर्ध देते हैं। इसीलिए छठ पूजा केवल एक पर्व नहीं है या हजारो वर्ष पूर्व में मौन हुए संबंध की पूजा है जो आज भी सभी भक्त निभाते आ रहे हैं। छठ महापर्व के समय दिल्ली, मुंबई जैसे शहरो में रहने वाले सभी उत्तर भारतीय सभी लोग अपने घर की और रुख करते हैं। ऐसा इसीलिए क्योंकि छठ महापर्व साल का एक ऐसा पर्व है जब मिट्टी और सभी के परिवार वाले एक साथ मिलकर उन्हें घर बुलाते हैं। 

इस समय की खुशबू उन्हें अपनेपन का एहसास याद दिलाती है, जब वह अपनो के साथ रहते हैं और छठ महापर्व को मनाते हैं। और एक बार घर पहुंचने के बाद इस चार दिवसीय छठ महापर्व के कार्यक्रम में सभी झूम उठते हैं उन्हें दिवाली के जाने का तो कोई एहसास ही नहीं होता। क्योंकि 4 दिनो के महापर्व के गमगमाहट में उन्हें अपनो के साथ जुड़ी भावनाए और इस महापर्व से जुड़ी भावनाए एक साथ गूंज उठती है।

नहाए खाए

छठ महापर्व का पहला दिन जिसे नहाए खाए कहा जाता है, इस दिन घर में अलग से खुशबू का अहसास होता है। चारों ओर किए गए साफ-सफाई के साथ इस दिन से घर में एक रौनक सी छा जाती हैं और सब के दिलो में पूजा को लेकर पवित्रता आ जाति है। इस दिन से सबका मन पवित्र हो जाता है घर आंगन के साथ इस समय घर के सभी सदस्य का ध्यान सिर्फ साफ-सफाई और पवित्रता पर ही होती हैै।

नहाए खाए के दिन चने के दाल और लौकी का बहुत महत्व होता है इस दिन साफ सफाई के साथ पूजा के बर्तन में नहाए खाए का भोजन बनता है। नहाए खाए के भोजन में लोगलौकी की सब्जी और चने की दाल बना बनाते हैं और घर के सभी लोगो से पहलेव्रत करने वाली को नहा धोकर पवित्र होकर भोजन करना पड़ता हैं।

छठ पूजा के दूसरे दिन को खरना कहां जाता है इस दिन व्रतधारी एक बूंद पानी भी ग्रहण नहीं करती है। शाम को पूजा के लिए गेंहू के आटे से रोटिया बनाई जाती है उन रोटियों में शुद्ध गाए का घी लपेटा जाता है और गाए के दुध में खीर बनाई जाती है। कहा जाता है कि इसी दिन घर में सबसे पहले छठी मैया को पूजा जाता है और उन्हें पूजा के लिए आमंत्रण दिया जाता है। 

कौन हैं छठी मईया, कैसे हुई थी छठ महापर्व की शुरूआत और क्या है इस पर्व का महत्त्व

इस दिन पूजा करते हुए सब व्रती महिलाए छठी मैया से गुहार लगाती है कि पूजा के दौरान उनसे जो भी भूल चूक हो उन्हें छठी मैया माफ करें। भोलेपन और बेहद आस्था से उन्होंने व्रत रखा है इसीलिए छठी मैया उनके व्रत को पार लगाए और इसी समय से छठी मैया व्रति और उनके परिवार पर सहाय हो जाती हैं। इस समय से सभी काम अपने आप भरपुर ऊर्जा के साथ होने लगते हैं। 

इस समय सभी लोगो में एक अलग ही जोश और जुनून आ जाता है, क्योंकि इस व्रत में श्रद्धा रखने वालो के लिए और कुछ भी महत्त्व नहीं रखता। सच्चे भक्ति भाव के आलावा इस पर्व में ना ही किसी पुरोहित को बूलाना होता है, ना कोई यज्ञ कराना होता है, ना ही कोई मंत्र जाप करना पड़ता है और ना ही दान दक्षिणा देना होता है। छठ महापर्व में बनने वाले ठेकुआ प्रसाद की तुलना दुनिया का कोई भी व्यंजन नहीं कर सकता।

छठ पूजा के दिनो में इन गीतो को सुनने मात्र से मन भक्तिमय हो जाता है और इन गानो के साथ भावनाए भी जुड़ जाती है। इन भक्ति गीतो को एक बार सुनने के बाद सभी लोग छठ पूजा के महिमा को समझने लगते हैं। भोजपुरी, मैथिली, मगही, अंगिका आदि लोक भाषा में प्रचलित छठ पूजा के गीत ही इस पूजा के महामंत्र होते हैं, छठ पूजा के दिन इन गीतो की शक्ति किसी भी वैदिक मंत्र से कम नहीं होती। छठ के ऐसे भक्ति गीत जो नास्तिक को भी आस्तिक बनादे तो चलिए जानते हैं कुछ ऐसे पारम्परिक गीतो के बारे में। 

छठ महापर्व के कुछ पारंपरिक गीत

छठ पूजा के पारंपरिक गीत “उग हो सूरज देव” अनुराधा पौडवाल, देवी, कल्पना जैसे कई सिंगरो द्वारा गाया गया है यह गीत सुनने मात्र से मन भक्तिमयी हो जाता है। पूजा की शुरुआत होने के एक महीना पहले से ही यह गीत पूजा करने वालो के घरो में गूंजने लगता है।

“कांचे ही बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाए” यह गाना भी अनुराधा पौडवाल, देवी और कल्पना के द्वारा मधुर स्वर में गाए गए हैं। इसके अलावा “जोड़े जोड़े नारियल”, “सवा लाख के सारी भींजे”, ” कोपि कोपी बोलेली छठ मां”, “आव हो आदित देव” ये सभी छठ पूजा के पारंपरिक गीत हैं।

“केलवा के पात पर उगेलन सूरजमल झाके झुके” यह गीत सूर्य भगवान को प्रसन्न करने के लिए गाया जाता है। जिसका मतलब यह है कि केले के पेड़ के पत्ते के पीछे सूर्यदेव उगते हैं कभी दीखते हैं और कभी छूप जाते हैं, ये पारंपरिक गीत पूजा के समय व्रती द्वारा गाया जाता है।

भोजपूरी जगत के महान गायक पवन सिंह के भक्ति गीतो को सुनने के बाद आप इन गीतो को बार बार सुनने से रोक ही नहीं सकते। सूर्य देव और छठी मईया के लिए इन्होने कई भक्तिमुग्ध गीत गाए हैं जिनमें “केलवा के पतवा पे न्योता पेठवनी”, “पेन्हले महादेव पियारिया” जैसे भक्ति गीत प्रसिद्ध है।

पवन सिंह के छठ गीतो में “जल्दी उगी आज आदित गोसाईं”, ” रउवा से इहे हंथजोरिया नू हो”, “भूखल पियासल घटिया आइल बानी हो” “गोदिया में होइहें बालकवा”, “दिहीं दर्शन सूरज को गोसैया” ” बदरी चीर के बहरी आईं देव” आदि सभी भक्ति गीत पूजा के दिनों में सुनने में बहुत सुहावने लगते हैं।

इन सभी भक्तिमयी गीतो को गाकर छठ महापर्व में सूर्य देव और छठी मैया को प्रसन्न किया जाता है। यह गाने इतने पवित्र और मधुर होते हैं कि भक्ति भाव के कारण आंखो में आंसू आ जाते हैं। जिन लोगो को यह भाषाए समझ में नहीं भी आती है वह लोग भी इन गीतो की भक्ति भाव को समझ जाते हैं और सुनने के लिए आग्रही हो जाते हैं।

इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं

0
इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं
इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धनतेरस, चतुर्दशी तिथि को नरक चतुर्दशी और अमावस्या तिथि को पर दीपावली मनाई जाती है। धनतेरस को धनत्रयोदशी भी कहा जाता है। शास्त्रो के अनुसार समुद्र मंथन के दिन भगवान कुबेर, माता लक्ष्मी और भगवान भगवान धन्वंतरि प्रकट हुए थे। इसलिए इस दिन इन तीनो देवी देवताओ की पूजा होती है इस दिन खरीदारी करना भी बेहद शुभ फलदाई माना जाता है। अगर कुछ खरीदने जैसे परिस्थिति ना हो तो भी इस दिन पैसे जोड़कर छोटे से छोटा कोई भी चीज जरूर खरीदना चाहिए। खासकर इस दिन झाड़ू तो अवश्य ही खरीदना चाहिए इस दिन झाड़ू खरीदने का बहुत महत्व होता है क्योंकि झाड़ू माता लक्ष्मी का ही प्रतीक होता है। 

इस साल धनतेरस का पर्व 23 अक्टूबर को मनाया जाएगा। जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि इस साल धनतेरस तिथि पर शुभ संयोग के साथ शनिदेव मार्गी हो रहे हैं। सभी को यह पता है कि धनतेरस के शुभ तिथि में माता लक्ष्मी जी की पूजा करने के साथ ही खरीदारी करने का कितना ज्यादा महत्व होता है, तो चलिए जानते हैं धनतेरस के शुभ मुहूर्त, पूजा की तिथि से जुड़ी जानकारी।

इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं

धनतेरस 2022 शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि 22 अक्टूबर शाम 6:03 से शुरू होकर 23 अक्टूबर 6:04 तक रहेगी। ऐसे में धनतेरस 23 अक्टूबर को ही मनाया जाएगा और यमदीप 22 अक्टूबर को जलाना शुभ होगा। जो लोग धनतेरस के दिन व्रत रखते हैं वह 23 अक्टूबर ही को ही व्रत रखें, क्योंकि 23 तारीख को शाम तक प्रदोष काल रहेगा। धनतेरस पर पूजा करने की शुभ मुहूर्त होगी 23 अक्टूबर शाम 5:44 से 6:05 तक, प्रदोष काल शाम 6:44 से रात 8:16 तक और वृषभ काल होगा 6:58 से रात 8:54 तक।

धनतेरस पर जरुर करें ये काम

भगवान धन्वंतरि के जन्म के समय वे अमृत कलश लिए हुए थे, इसीलिए धनतेरस के दिन बर्तन खरीदने के परंपरा की शुरुआत हुई। इस दिन बर्तन के अलावा कई प्रकार के धातु जैसे सोना, चांदी, पितल आदि खरीदना शुभ होता है। यह धन्वंतरी भगवान विष्णु के ही अवतार माने जाते हैं विष्णु जी ने ही धनवंतरि का अवतार भी लिए थे। धनवंतरी देवताओ के वैद्य है इसीलिए आरोग्य सुख और स्वस्थ्य जीवन पाने के लिए इस दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा तो अवश्य ही करनी चाहिए।

उल्लू की तस्वीर खरीदे

इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं

धनतेरस के दिन उल्लू की तस्वीर खरीदना भी शुभ होता है क्योंकि उल्लू माता लक्ष्मी का वाहन होता है। इस दिन उल्लू की तस्वीर खरीद कर इस तस्वीर को अपने धन रखने वाले जगह के पास या अलमारी में रखें इससे आपको लाभ होगा।

पूजा में सुपारी का प्रयोग करें

हिंदू धर्म में हर एक शुभ काम में सुपारी बहुत ज्यादा महत्व रखता है। दरअसल यह छोटी सी सुपारी ब्रह्म देव, इंद्र देव और यम देव जैसे कई देवताओ को समर्पित होता है और इस सुपारी को देवताओ का रूप ही माना जाता है। इसीलिए लक्ष्मी माता की पूजा में सुपारी रखें और इस सुपारी को पूजा के बाद अपने धन रखने वाले जगह पर रख दें।

दीपदान जरूर करें

कर्ज से मुक्ति पाने और घर में धन-संपत्ति की बढ़ोतरी पाने के लिए दीपावली के दिन दीप दान करना अति शुभ माना गया है। इस दिन आप कुछ दीप खरीद कर किसी गरीब या आसपास के घरो में बांटे, इससे आपके घर में उजाला होता है और ऐसा करना बेहद शुभ माना जाता है।

बताशा चढ़ाए

इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं

पूजा में बताशे का प्रयोग तो आप लोग करते ही होंगे, शास्त्रो के अनुसार पूजा में बताशे का प्रयोग करना अति आवश्यक बताया गया है और लक्ष्मी पूजा में तो खास करके बताशे का प्रयोग करना चाहिए। क्योंकि माता लक्ष्मी को बताशा अति प्रिय है इसीलिए माता लक्ष्मी को बताशा जरूर अर्पित करें इससे आपके जीवन में मधुरता आती है।

कहा जाता है कि धनतेरस से ही दीपावली की शुरुआत हो जाती है ऐसे में पौराणिक मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि धनतेरस के दिन अगर कुछ जगहो पर दिए जलाए जाएं, तो कई नकारात्मक बाधाएं दूर होती है और निर्धनता दूर होती हैं आर्थिक स्थिति भी मजबूत होता है।

* अगर आप आर्थिक समस्या से परेशान हैं तो धनतेरस के दिन रात के समय बेल के पेड़ के नीचे दीपक अवश्य ही जलाना चाहिए। शुद्ध घी से बेल के पेड़ के नीचे दीप जलाने से आपके जीवन की सभी परेशानिया कम होती है और आपकी आर्थिक परिस्थितियो में भी सुधार होता है।

* धनतेरस के दिन रात को श्मशान घाट पर भी दीपक अवश्य ही जलाना चाहिए। मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और उनके प्रयास से जीवन में कभी भी धन-धान्य की कमी नहीं होती।

* कहा जाता है कि पीपल के पेड़ के नीचे मां लक्ष्मी का वास होता है इसीलिए धनतेरस के शुभ अवसर पर पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाना अति शुभ होता है, ऐसा करने से जीवन में कभी भी धन-धान्य की कमी नहीं होती है।

* धनतेरस त्यौहार धन संपत्ति प्रदान करने वाला होता है कहा जाता है कि धनतेरस के दिन रात को पूजा घर में अखंड दीपक जलाकर रखना चाहिए। मान्यता के अनुसार ऐसा करने से घर के वास्तु दोष कम हो जाते हैं और घर में आर्थिक समृद्धि आती हैं।

* धनतेरस के दिन घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाना शुभ होता है और ऐसा करते समय दिए में बत्ती के लिए रुई की जगह लाल रंग के धागे का प्रयोग करना चाहिए। साथ ही इस दीपक में थोड़ा सा केसर भी डालें और दीप को सीधा धरती पर ना रखके थोड़े से चावल पर रखें।

धनतेरस जैसे शुभ अवसर पर खरीदारी का बहुत महत्व होता है। कहा जाता है कि इस दिन खरीदारी करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है इसीलिए इस दिन की खरीदारी करने से पहले यह जरूर जान लेना चाहिए कि इस दिन कौन सी चीजे हमें नहीं खरीदना चाहिए। अगर इस दिन भूलकर भी आप यह चीजे खरीद लेते हैं तो घर में सुख शांति के बजाय दरिद्रता आ सकती है, तो चलिए जानते हैं उन चीजो के बारे में जो आपको खरीदने से बचना चाहिए। क्योंकि धनतेरस के शुभ तिथि पर खरीदारी का इतना ज्यादा महत्व होता है की इस स्थिति में खरीदे गए चीजो के साथ हम सकारात्मक परिणाम, शूभ फल और सिद्धि घर में लाते हैं। तो वहीं अगर हम इस दिन कुछ ऐसी चीजे खरीद लेते हैं जो इस दिन नहीं खरीदनी चाहिए तो उन चीजो के साथ हमारे घर में नकारात्मकता आ जाती है।

इस धनतेरस अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने के लिए इन जगहो पर दिए जरूर जलाएं

* ज्यादातर लोग इस बारे में जानते ही होंगे कि धनतेरस के अवसर पर नूखीली चीजे नहीं खरीदनी चाहिए। जैसे कि सुई, कैंची, चाकू आदि जैसी चीजे खरीदने से घर में विवाद आता है घर में अशुभता आति हैं, इसीलिए इस दिन इन चीजो को भूल कर भी ना खरीदें।

* धनतेरस के पावन अवसर पर भूलकर भी कांच के या मिट्टी के बर्तन नहीं खरीदनी चाहिए। धनतेरस पर लोग बर्तन खरीदते हैं ऐसे में कभी कभार वह भुलके कांच के बर्तन या चीनी मिट्टी से बने बर्तन खरीद लेते हैं जो बिल्कुल नहीं खरीदना चाहिए। क्योंकि कांच का बर्तन का संबंध राहु से होता है इस दिन की शुभ तिथि पर राहु से जुड़ी चीजें घर में लाने से घर में तनाव की स्थिति बनती है।

* कहा जाता है कि धनतेरस के शुभ अवसर पर लोहे से बनी चीजें नहीं खरीदनी चाहिए। लोहे का संबंध शनिदेव से माना जाता है धनतेरस जैसे शुभ तिथि पर लोहे का सामान खरीदने से घर में दिक्कत बढ़ सकती है और इससे आपके घर में आर्थिक हानि भी हो सकती है।

* ध्यान रखें कि धनतेरस पर बर्तन खरीदते समय एल्युमीनियम के चीजें तो भूलकर भी नहीं खरीदनी चाहिए। क्योंकि एल्युमीनियम का संबंध राहु से माना जाता है और राहु से जुड़ी चीजें अगर धनतेरस के शुभ अवसर पर घर में लाई जाती है तो यह दरिद्रता लेकर आती है इसलिए इस तिथि पर एल्युमीनियम खरीदने से बचें।

* धनतेरस पर प्लास्टिक से बनी चीजें खरीदना भी अशुभ माना गया है। क्योंकि कहा जाता है कि प्लास्टिक का सामान घर में बरकत नहीं आने देती धनतेरस पर प्लास्टिक का कोई भी सामान खरीदना अशुभ होता है इसीलिए इस दिन खरीदारी करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए। 

* धनतेरस के दिन अगर आप कपड़े खरीदते हैं तो आपको कभी भी काला कपड़ा नहीं खरीदना चाहिए। केवल कपड़ा ही नहीं धनतेरस पर कोई भी चीज खरीदते समय ध्यान रखें कि वह काले रंग का ना हो। क्योंकि काला रंग शनिदेव का प्रतीक होता है ऐसे में काले रंग की खरीदारी भविष्य में अंधकार को दर्शाती है।

* धनतेरस जैसे शुभ और पावन अवसर पर जूते चप्पल की खरीदारी भी अशुभ माना जाता है। धनतेरस पर जूते चप्पल खरीदने से घर में नकारात्मक शक्ति का प्रवेश होता है और आर्थिक स्थिति भी कमजोर होती हैं।

गरुड़ पुराण के अनुसार जानिए मृत्यु के बाद कितने दिनो तक मृतक की आत्मा रहती है उसी घर में 

0
गरुड़ पुराण के अनुसार जानिए मृत्यु के बाद कितने दिनो तक मृतक की आत्मा रहती है उसी घर में 
गरुड़ पुराण के अनुसार जानिए मृत्यु के बाद कितने दिनो तक मृतक की आत्मा रहती है उसी घर में 

गरुड़ पुराण में हमें ऐसे कई रहस्यो के बारे में पढ़ने को मिलता है जिन्हें जानकर कोई भी व्यक्ति अपने जीवन की गति को सुधार सकता है। गरुड़ पुराण के अनुसार आज हम जानेंगे कि मृत्यु के बाद जीवात्मा कितने दिनो तक घर में रहती है। आज के इस पोस्ट में हम इस बारे में जानेंगेे कि हमारे धर्म शास्त्र क्या कहते हैं और हमारे शास्त्रो में क्या क्या वर्णित है। गरुड़ पुराण वैष्णव संप्रदाय से संबंधित है और इस पुराण के अधिष्ठाता देव सृष्टि के पालन कर्ता भगवान विष्णु है।

गरुड़ पुराण के अनुसार कहा जाता है कि मृत्यु के बाद जब यमदूत व्यक्ति की आत्मा को ले जाते हैं। तब 24 घंटे तक उस व्यक्ति को उसके जीवन में किए गए सभी पुण्य कर्म और पाप कर्म को दिखाए जाते हैं और फिर 24 घंटे बाद उस व्यक्ति के आत्मा को फिर से उसी घर में रख दिया जाता है जहां उसकी मृत्यु हुई थी। 13 दिन तक वह आत्मा वहीं अपने परिवार के बीच रहती है। मोह व वासना से भरी वह जीवात्मा बार-बार अपने देह में प्रवेश करने का प्रयास तो बहुत करती है, लेकिन यम के द्वारा बंधे होने के कारण वह आत्मा कुछ भी करने में असमर्थ हो जाती है। 

गरुड़ पुराण के अनुसार जानिए मृत्यु के बाद कितने दिनो तक मृतक की आत्मा रहती है उसी घर में 

वह आत्मा अपने परिवार रिश्तेदार व मित्रो को उसकी मृत्यु का शोक मनाते देखती है। और आत्मा उन्हें चुप कराने का प्रयास भी करती है लेकिन उस आत्मा की उपस्थिति का ज्ञान किसी को नहीं होता। फिर वह अपने सामने स्वयं के मृत शरीर को देखती है और भूख प्यास से जोर-जोर से विलाप करते हुए रोने लगती है। इसके साथ-साथ गरुड़ पुराण में यह भी बताया गया है कि मनुष्य पुण्य कर्म तो करता है लेकिन उनके पुण्यो की संख्या उसके द्वारा किए गए पापो से कम होती है अर्थात मनुष्य पुण्य की अपेक्षा पाप अधिक करता है।

इसके समाधान स्वरूप मृत्यु के पश्चात पिंड दान करना आवश्यक बताया गया है। 10 दिनो तक जीवात्मा के उद्देश्य से मृतको के द्वारा पिंड दान दिए जाते हैं। अगर मृतक को पिंडदान नहीं किया गया तो जीवात्मा अनंत काल तक भटकती रहती है और हजारो सालो तक कष्ट भोगने के बाद अगला जन्म लेती है। प्रतिदिन दिए जाने वाले पिंड के चार भाग हो जाते हैं उसके 2 भाग से मृतक का शरीर बनता है। तीसरे भाग को यमदूत ले जाते हैं और चौथा भाग मृतक को खाने के लिए दिया जाता है। 9 दिन बाद प्रेत आत्मा पुनः शरीर में युक्त हो जाता है और शरीर बन जाने पर आत्मा को अत्यधिक भूख लगती है

गरुड़ पुराण के अनुसार जानिए मृत्यु के बाद कितने दिनो तक मृतक की आत्मा रहती है उसी घर में 

गरुड़ पुराण के अनुसार 10 दिन तक दिए जाने वाले पिंड दान में विधि मंत्र, आवाहन और आशीर्वाद का प्रयोग नहीं होता। केवल नाम तथा गोत्र से पिंड दान दिया जाता है मृतक का दाह संस्कार हो जाने के पश्चात पुनः शरीर उत्पन्न होता है। व्यक्ति के जल जाने पर पिंडदान द्वारा उसे एक हाथ लंबा शरीर प्राप्त होता है। जिसके द्वारा वह प्राणी यमलोक के मार्ग में अपने शुभ अशुभ कर्मो को भोगता है।

पहले दिन जो पिंड दान दिया जाता है उससे मूर्धा दूसरे दिन के पिंड दान से ग्रीवा और स्कंध बनते हैं। तीसरे दिन के पिंडदान से हृदय चौथे दिन के पिंड दान से पृष्ठ भाग उत्पन्न होता है। पांचवे दिन के पिंडदान से आप उत्पन्न होता है छठे दिन के पिंड दान से कटी प्रदेश सातवें दिन की पिंडदान से पूरे भाग आठवें दिन के पिंडदान से नौवें दिन के पिंड दान से ताल्लुक अबे और दसवें दिन के पिंड दान से सुधा की उत्पत्ति होती है।

जीवात्मा शरीर प्राप्त करने के पश्चात भूख से पीड़ित होकर घर के द्वार पर रहता है। दसवें दिन जो पिंडदान होता है उसमें मृतक का प्रिय भोजन बना कर देना चाहिए क्योंकि शरीर निर्माण हो जाने पर मृतक को अत्यधिक भूख लगती है। प्रिय भोज्य पदार्थ के अतिरिक्त अन्य किसी भोजन का पिंड दान देने से उस आत्मा की भूख दूर नहीं होती। 11वें और 12वें दिन प्रेत भोजन करता है मरे हुए स्त्री पुरुष दोनों के लिए प्रेत शब्द का उच्चारण करना चाहिए। उन दिनो अन्न या वस्त्र जो कुछ भी दिया जाता है उसको प्रेत शब्द के द्वारा देना चाहिए, क्योंकि वह मृतक के लिए आनंददायक होता है।

13 दिन शरीर धारण करके भूख प्यास से पीड़ित प्रेत को वहां पर लाया जाता है और यहां से उसके यमलोक की यात्रा आरंभ होती है। मनुष्य अपने अच्छे या बुरे कर्मो के कारण ही मृत्यु के पश्चात होने वाली घटनाओ को भोगता है। जो व्यक्ति जितना पापी होगा उसका अंतिम मार्ग उतना ही कठिन होता है और वह जितना पुण्य कारी, निष्पत्ति और भगवत प्रेमी होगा उसकी स्वर्ग की यात्रा उतनी ही सरल व सुखदायक होगी। इसलिए हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि कर्मो का फल जीते जी ही नहीं अपितु मृत्यु के पश्चात भी भोगना होगा। 

गरुड़ पुराण के अनुसार जानिए मृत्यु के बाद कितने दिनो तक मृतक की आत्मा रहती है उसी घर में 

गोदान और वैतरणी नदी का संबंध

हमारे मृत्यु के बाद जब यमदूत हमें वैतरणी नदी पार करने के लिए ले जाती है तब वहां पर कई सारे मल्लाह आते हैं और कहते हैं कि कई प्रकार की मछलियो और मगरमच्छो से परिपूर्ण इस नदी को हम आराम से पार करवाएंगे। लेकिन अगर तुम्हारे द्वारा उस मृत्युलोक में गोदान कराया गया होगा तभी तुम इस नाव से पार जा सकोगे। मनुष्य का अंत समय आने पर वैतरणी नदी गोदान की हितकारी होती है। अगर महा वैतरणी नदी को पार करना है तो विद्वान पंडित या धर्मी ब्राह्मण को गौ दान करना चाहिए। 

गोदान पापी के समस्त पापो को कम करके उसे सुख पूर्वक विष्णु लोक ले जाता है। वहीं जो लोग गोदान नहीं किए हैं तो वह लोग उसी वैतरणी में जाकर डूबते और बचते रहते हैं। इसी बीच उन पर कई जानलेवा खतरनाक जानवरो व मछलियो द्वारा डराया और कष्ट पहुंचाया जाता है। जो आत्मा जितना ज्यादा पापी होता है वह उस वैतरणी में उतना ही ज्यादा कष्ट भोगता है और अपने किए गए पाप के अनुसार आत्मा को उसी कष्टदाई वैतरणी नदी में रहना पड़ता है।

इस पोस्ट के माध्यम से गरुड़ पुराण के इन बातो को बताने का उद्देश्य यही है कि व्यक्ति उनके ज्ञान में वृद्धि करे व धर्म के प्रति अपनी जिज्ञासा को बढ़ाए।

पति पत्नी के रिश्ते को अगर चाहते हैं अटूट और दिलचस्प बनाना तो ज़रूर जान लें इन बातो को

0
पति पत्नी के रिश्ते को अगर चाहते हैं अटूट और दिलचस्प बनाना तो ज़रूर जान लें इन बातो को
पति पत्नी के रिश्ते को अगर चाहते हैं अटूट और दिलचस्प बनाना तो ज़रूर जान लें इन बातो को

इस दुनिया में जिस गति से रिश्ते बनते हैं उसी गति से टूट भी जाते हैं। पहले जहां लड़के और लड़की की शादी परिवार के द्वारा कराई जाती थी तो यह कहा जाता था कि पति पत्नी में बनाव नहीं है तो लोग मान लेते थे। लेकिन आज जब दो लोग एक दूसरे को पसंद करके प्यार में पढकर शादी करते हैं फिर भी वह रिश्ता कुछ सालो बाद टूटने के कगार पर आ जाता है। हालांकि यह जरूरी नहीं है कि अरेंज मैरिज हो या लव मैरिज हर रिश्ते में झगड़ा और मनमुटाव होता है। लेकिन अगर दो पार्टनर्स के बीच समझदारी होती है तो रिश्ते टूटने से बच जाते हैं नहीं तो वह टूटने में ज्यादा समय नहीं लगता। पति पत्नी के रिश्ते में बहुत कुछ जरूरी होता है जिसके बारे में आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे, इन्हें जानने के बाद आप जरूर अपने पति पत्नी के रिश्ते को और ज्यादा मजबूत और अटूट बना सकते हैं।

प्यार करने के साथ जताना भी है जरुरी

दो लोगो को पार्टनर बनने के लिए प्यार के साथ साथ कई चीजो की जरूरत होती है। क्योंकि सिर्फ प्यार करने से नहीं होता है कभी-कभी प्यार को जताना भी जरूरी हो जाता है। कुछ रिश्तो में अक्सर ऐसा होता है कि दो लोगो में प्यार तो बहुत रहता है लेकिन सिर्फ जताने की कमी के कारण दोनो में दूरिया हो जाती है। अगर आप अपने पति पत्नी के रिश्ते को खुशहाल बनाना चाहते हैं तो अपने पार्टनर के प्यार करने के तरीके को समझे। एक दूसरे को समझने के बाद ही आप यह जान पाएंगे कि आपका पार्टनर आपसे प्यार तो करता है लेकिन जताना जरूरी नहीं समझता। वहीं अगर आपका पार्टनर आपसे बार-बार प्यार जताता है तो आप अपने आपको खुश किस्मत मानिए, क्योंकि ऐसे कम पार्टनर्स ही होते हैं जो प्यार करना और जताना दोनो ही अच्छे से करते हो।

पति पत्नी के रिश्ते को अगर चाहते हैं अटूट और दिलचस्प बनाना तो ज़रूर जान लें इन बातो को

अपने पार्टनर को बदलने की कोशिश

ज्यादातर लोग एक दूसरे से जुड़ने के बाद अपने पार्टनर को अपने हिसाब से बदलने की कोशिश करते हैं। वह चाहते हैं कि उनका पार्टनर उनके मुताबिक रहे, उनके मुताबिक कपड़े पहने, सब कुछ अपने ही जैसा बनाना चाहते हैं लेकिन ये बिल्कुल ही गलत है। यह उनकी आजादी छीनने जैसी बात है और ऐसा होने पर दोनो में लड़ाई झगड़े और तनाव की स्थिति बन जाती है। अगर आप भी ऐसे स्वभाव के हैं तो उसे जल्दी से बदल दीजिए और संभल जाइए, क्योंकि आपका यह स्वभाव आपके रिश्ते को खत्म कर देगी। शादी के बाद लोगो में कुछ बदलाव जरूरी होते हैं लेकिन जब वह बतलाव अपने आप से हो तो वह ठीक चलता है। लेकिन अगर आप अपने पार्टनर को बदलने के लिए मजबूर कर देते हैं तो इसका असर आपके रिश्ते पर पड़ता है।

किसी भी बात पर ओवररिएक्ट ना करें

किसी भी रिश्ते में आपसी समझ होना बहुत ही जरूरी होता है अगर आप अपने पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताना चाहते हैं। लेकिन किसी कारण से आप अपने पार्टनर के साथ टाइम नहीं बिता पा रहे हैं। तो ऐसे में आपको अपने पार्टनर से झगड़ा नहीं बल्कि उन्हें समझने की कोशिश करनी चाहिए और अपनी फीलिंग को एग्रेसिव या ओवररिएक्ट करने से बचना चाहिए। क्योंकि रिश्तो में दूरी लाने के कारणो में यह भी एक बड़ा कारण है और ज्यादातर रिश्तो में दूरिया आने का कारण इसी को देखा गया है।

पति पत्नी के रिश्ते को अगर चाहते हैं अटूट और दिलचस्प बनाना तो ज़रूर जान लें इन बातो को

एक दूसरे का ख्याल रखें

शादी के बाद एक दूसरे के प्रति विश्वास, सम्मान के अलावा एक दूसरे का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है। अगर आप अपने पार्टनर के साथ एक हेल्दी और हैप्पी लाइफ जीना चाहते हैं और अपने पार्टनर के साथ हमेशा खुश रहना चाहते हैं तो सबसे पहले एक दूसरे का ख्याल रखना सीख लीजिए। आप भले ही एक दूसरे से कितना भी प्यार क्यों ना करते हो जब तक आप एक दूसरे का ख्याल नहीं रखते और एक दूसरे को इस बात का एहसास नहीं कराते कि आपको उनके स्वास्थ्य का कितना ख्याल है, तब तक रिश्ते में वह अपनापन कभी नहीं आता जो एक सच्चे रिश्ते में होना चाहिए।

कभी भी अपने पार्टनर पर चिल्लाए नहीं

आज कल के ज्यादातर रिश्ते छोटी मोटी बातो पर होने वाली बड़ी बहस के कारण टूट जाती है। कुछ लोग बिना वजह छोटी-छोटी बातो में चिल्ला पढ़ते हैं और किसी दूसरे बात का गुस्सा अपने पार्टनर निकाल देते हैं लेकिन ऐसा करना बिल्कुल गलत है। अगर आपको भी बहुत ज्यादा गुस्सा आता है और आप भी छोटी छोटी बातो में भी चिल्ला पढ़ते हैं तो इसे सुधार लीजिए। शादी के बाद जीवन में सुखी रहने के लिए अपनी बुरी आदतो को सुधारना सभी की जिम्मेदारी होती है। अपने पार्टनर पर गुस्सा करना, चिल्लाना जैसी आदतो को छोड़कर किसी भी बात को शांति और समझदारी से करना चाहिए।

तलाक और अलग होने की बात कभी ना करें

कुछ लोगो में बहुत ज्यादा प्यार होता है और वैवाहिक जीवन में होने वाली छोटी मोटी तकरार के बीच जब वह तलाक और अलग होने की बात कह देते हैं, तो रिश्ते पूरी तरह बिगड़ने लगते हैं। हो सकता है आप अपने पार्टनर से बेहद ज्यादा प्यार करते हो लेकिन चाहे अपने पार्टनर से कितना भी ज्यादा प्यार करते हो कभी भी बड़ी से बड़ी परेशानी है या झगड़ा होने पर आप अपने पार्टनर से तलाक शब्द का प्रयोग ना करें और ना ही कभी अलग होने के बाद करें। कभी भी आपसी लड़ाई में पार्टनर के अतीत की बाते उनकी फैमिली से जुड़ी बात या तलाक जैसे क्रूरता भरे शब्दो का उपयोग करने से बचे और अपने रिश्ते को अटूट बनाए रखे।

पति पत्नी के रिश्ते को अगर चाहते हैं अटूट और दिलचस्प बनाना तो ज़रूर जान लें इन बातो को

माफी मांग लें और माफ कर दें

किसी भी रिश्ते में होने वाले झगड़े को खत्म करने का सबसे अच्छा तरीका होता है माफी मांगना और माफ करना। क्योंकि यह माफी शब्द ही है जिससे बड़े से बड़ा झगड़ा खत्म हो जाता है। हर रिश्ते में लड़ाई झगड़े और मनमुटाव आम बात होती है, लेकिन जब पति पत्नी के बीच झगड़ा होता है तो वह कितना भी छोटा क्यों ना हो वह बड़ा रूप ले लेता है। अगर आप अपने पार्टनर के साथ रिश्ते को अच्छा बनाए रखना चाहते हैं और अपने रिश्ते को अहमियत देते हैं तो गुस्से को भूल जाएं और गलती किसी की भी हो अपने पार्टनर से तुरंत माफी मांग लें। चाहे गलती कितनी भी बड़ी क्यों ना हो माफ करना और माफी मांगना बहुत अच्छी बात होती है। जब आप रिश्ते में माफी मांगना सीख लेते हैं तो इसका मतलब यह होता है कि आपने अपने गुस्से को किनारे रखकर पार्टनर से बात की।

किसी के साथ तुलना ना करें

अपने पार्टनर को कभी भी किसी के साथ तुलना ना करें। आमतौर पर लोग किसी दूसरे को देखते हैं तो किसी दूसरे से तुलना कर बैठते हैं। सिर्फ वैवाहिक रिश्ते ही नहीं यह बात जान लीजिए कि किसी भी रिश्ते में अगर आप किसी को किसी के साथ तुलना करते हैं तो इसका मतलब यह है कि आप उस व्यक्ति से दूर जा रहे हैं। अगर आप में भी ऐसी आदत है तो ये आपके वैवाहिक जीवन को तबाह कर देगी। इसीलिए इस आदत को जल्दी बदल लें क्योंकी ऐसा करने से आपके पार्टनर के सामने आपकी नकारात्मक छवि बनती है और वह आपसे दूरी बनाने लगते हैं। चाहे आपके मन में कुछ हो या ना हो जब आप एक बार किसी के साथ किसी की तुलना कर देते हैं तो वह इंसान अपने आप में खुद को नीचा समझने लगता है।

एक दूसरे को सम्मान और अधिकार दें

पति पत्नी के रिश्ते में एक दूसरे को सम्मान के साथ साथ अधिकार देना बहुत जरूरी है। शादीशुदा जीवन में प्यार के अलावा अपने सेक्सुअल संबंध को अच्छा बनाने के लिए पहले एक दूसरे को सम्मान देना सीखे। जब दो लोग एक दूसरे को सम्मान, पूरा अधिकार और रिस्पेक्ट देते हैं तो वे दोनो लोग अपने आप ही एक दूसरे के करीब आ जाते हैं। अगर आप अपने शादीशुदा जीवन को खुशहाल बनाना चाहते हैं तो एक दूसरे को सम्मान दें इससे आपकी आपसी समझ, विश्वास और एक दूसरे के प्रति प्यार बढ़ेगा। 

एक दूसरे के करीब आएं

अगर आप अपने पार्टनर से अक्सर दूरी बनाकर रखते हैं तो रिश्ते में तनाव और उदासी हमेशा जगह बनाए रहती है। लेकिन अगर आप अपने रिश्ते में अपनापन या नयापन चाहते हैं तो आप अपने पार्टनर के साथ पहले फ्री होकर एक दूसरे को समझिए और एक दूसरे के करीब आइए। अगर दो लोगो के बीच का प्यार बहुत गहरा है और छोटी मोटी बातो को लेकर दोनो के बीच दूरी आ गई है तो ऐसे में एक दुसरे के क़रीब आना अच्छा होता है। ऐसा होने पर आप दोनो का रिश्ता और भी मजबूत बनता है। जब आप अपने पार्टनर के करीब आते हैं तब आपका पार्टनर पिघल जाता है और आप दोनो अपने मन की सभी कड़वाहट भूलकर एक दूसरे के करीब आ जाते हैं और इस तरह दोनो का रिश्ता और भी दिलचस्प बनता है।

हिंदू धर्म में पान के पत्ते का महत्त्व और इसे खाने के फायदे

0
हिंदू धर्म में पान के पत्ते का महत्त्व और इसे खाने के फायदे
हिंदू धर्म में पान के पत्ते का महत्त्व और इसे खाने के फायदे

हमारे देश भारत में पान खाने की परंपरा बहुत पुरानी है। पान को स्वादानुसार खाने के लिए उसमें दो चीज़े सबसे अहम होती हैं, एक पान का पत्ता और दूसरी सुपारी। हिन्दू धर्म में मंदिर में पूजा करने से लेकर भगवान को पान का बीड़ा चढ़ाना या शादी जैसे किसी भी शुभ काम में पान के पत्ते का प्रयोग महत्त्वपूर्ण होता है। बहुत कम लोगो को ही यह पता होगा कि पान केवल पूजा पाठ जैसे शुभ कामो के लिए ही महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि पान में ऐसी कई खूबिया होती है जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद साबित है। 

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि पान के पत्तो में भरपुर औषधीय गुण मौजूद होते हैं। शरीर की कई परेशानियो से छुटकारा पाने के लिए पान के पत्ते का प्रयोग किया जाता है। आज के इस पोस्ट में हम आपको पान में मौजूद ऐसी खूबियो के बारे में बताएंगे जिन्हें जानने के बाद आप भी पान खाना चाहेंगे। तो आईए जानते हैं पान में ऐसी कौन कौन सी विशेषताए पाई जाती है।

पान खाने के फायदे

पान के पत्ते एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-माइक्रोबियल के गुणो से भरपूर होता है। पान के पत्ते के ये गुण खांसी से निजात दिलाने और खांसी की संक्रमण दूर करता है। खांसी के दौरान गले में होने वाले खराश से छुटकारा दिलाने और गले को साफ करने का काम करता है। पान का सेवन खांसी की समस्या दूर करती है और गले को भी साफ करती है।

हिंदू धर्म में पान के पत्ते का महत्त्व और इसे खाने के फायदे

मुंह की दुर्गंध को दूर करता है

पान के पत्ते को चबाकर खाना मुंह की दुर्गंध को दूर करता है। इसके पत्ते को चबाने से मुंह में छिपे बैक्टीरिया खत्म हो जाती हैं और आपके मुंह से स्मैल आने की समस्या नहीं होती। पान के पत्ते में मौजूद स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स नामक बैक्टीरिया मुंह में होने वाले संक्रमण को ठीक करने के लिए एक नेचुरल एजेंट के रूप में काम करता है।

मसूढ़ो के लिए भी है फायदेमंद

मसूढ़ो में होने वाले दर्द या सूजन को ठीक करने के लिए भी पान का पत्ता लाभकारी होता है। पान के पत्ते में ऐसे कई गुण पाए जाते हैं, जो मसूड़ो में होने वाले सूजन को कम करने का काम करता है। पान के पत्ते दांतो को मजबूत बनाने और ओरल संक्रमण को दूर करने का भी काम करता है। यह बात एक शोध के अनुसार साबित हुआ है की बैक्टीरिया के कारण दांतो में होने वाले नुकसान को ठीक करने के लिए पान के पत्ते एक कारगर दवा के रूप में काम करते हैं। साथ ही बैक्टीरिया के कारण होने वाले मुंह के संक्रमण से भी राहत दिलाने में मदद करती है।

पान में मौजूद होते हैं औषधीय गुण 

पान में इतने ज्यादा औषधीय गुण मौजूद होते हैं जो हमारे शरीर में होने वाले विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालने के रूप में काम करता है। इसके अलावा, यह डायबिटीज और कैंसर जैसी समस्याओ से बचाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पान में मौजूद औषधीय गुण घाव को जल्द भरने में मदत करता है।यह हाइड्रॉक्सीप्रोलाइन और सुपरऑक्साइड डिसम्यूटेज को बढ़ाने में भी बहुत फायेदमंद होता है, जो घावो को जल्द भरने में मदद करता है। 

हिंदू धर्म में पान के पत्ते का महत्त्व और इसे खाने के फायदे

आयुर्वेद में होता है पान का उपयोग

पान के पत्ते में मौजूद औषधीय गुण के कारण ही आयुर्वेद में पान के पत्ते का प्रयोग किया जाता है। पान में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीडायबिटिक, एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी-कैंसर और एंटी-अल्सर जैसे गुण पाए जाते हैं।

कील, मुंहासे और दाग, धब्बो को कम करता है

उम्र के साथ लड़को और लड़कियो के चेहरे पर होने वाले मुंहासे जैसे दाग, धब्बो को कम करने के लिए भी पान के पत्ते फायदेमंद होते हैं। चेहरे पर होने वाले कील मुहांसो को कम करने के लिए पान के पत्ते लाभकारी है। पान के पत्तो में एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को दूर कर मुंहासो को बढ़ने से रोकने में मदत करता है।

इम्यून सिस्टम व हृदय के लिए भी है फैयदेमंद

इसके अलावा, पान के पत्ते को इम्यून सिस्टम व हृदय के लिए भी बेहतर माना गया है। पान के पत्तो में एंटी हाइपरग्लाइसेमिक के गुण मौजूद होते हैं, जो रक्त में मौजूद ग्लूकोज को नियंत्रित करके रखने में अहम भूमिका निभाता है इसीलिए टाइप 2 डायबिटीज में पान का सेवन किया जा सकता है। 

कैंसर जैसी गंभीर समस्या से भी बचाता है

हिंदू धर्म में पान के पत्ते का महत्त्व और इसे खाने के फायदे

कैंसर जैसी गंभीर समस्या से भी बचाव करने के लिए पान के पत्ते सहायक होते हैं। जैसा कि हमने बताया कि पान के पत्तो के अर्क में एंटी कैंसर गुण पाए जाते हैं, जो कैंसर को पनपने से रोकने में मदद करता हैं। पान के पत्ते ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में भी बहुत उपयोगी है साथ ही यह कैंसर की रोकथाम में भी मदद कर सकता है।

गैस की समस्या से राहत दिलाता है

गैस की समस्या से निजात पाने के लिए भी पान खाना फायदेमंद होता है। एक रिसर्च के अनुसार, पान के पत्तो से निकलने वाले अर्क में गैस्ट्रो प्रोटेक्टिव गुण पाया जाता है, जो गैस की समस्या से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है। इसके अलावा, पान में पेट के अल्सर को भी ठीक करने के गुण मौजूद होते हैं।

कब्ज और सूजन को कम करता है

पान के पत्ते एंटी इंफ्लेमेटरी के गुण से समृद्ध होता है जो सूजन से लड़ने में मदद करता है। यही कारण है कि सूजन से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या से निजात पाने के लिए पान का उपयोग लाभकारी होता है। पान के पत्ते पाचन को भी ठीक कर कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है। पान खाने से पाचन प्रक्रिया ठीक हो जाती है और व्यक्ति को खाना पचाने में किसी प्रकार की समस्या नहीं होती। 

माइग्रेन की समस्या नही होती

पान के पत्ते का प्रयोग सर दर्द को ठीक करने के लिए भी किया जाता है। एक शोध में इस बात का जिक्र मिलता है कि पान के पत्ते का उपयोग सर दर्द से राहत पाने के लिए किया जा सकता है जो लोग पान खाते हैं उनमें माइग्रेन की समस्या नही होती। लेकिन अभी तक इस जानकारी की पुरी तरह पुष्टि नही हुई है कि पान का पत्ता किस गुण के कारण सिर दर्द से राहत दिलाता है।

हिंदू धर्म में पान का है विषेश महत्व

हिंदू धर्म में हर त्योहार से संबंधित कोई न कोई परंपरा चली आ रही है इन परंपराओ के बीच अक्सर विभिन्न कामो के लिए पान के पत्ते का प्रयोग किया जाता है।हिंदू धर्म में पूजा-पाठ और शुभ कार्यो के दौरान पान का उपयोग जरुरी होता है इसलिए नवरात्रि में मां दुर्गा को भी पान-सुपारी अर्पित कि जाती है। मान्यता के अनुसार किसी किसी विषेश दिन पर देवी देवताओ को पान चढ़ाने से भक्तो की सभी परेशानिया दूर हो जाती है जैसे कि दशहरा। पौराणिक परंपरा के अनुसार दशहरे के दिन पान खाने का विशेष महत्व होता है इसीलिए दशहरे के दिन कई हिस्सो में पान खाने की सदियो पुरानी परंपरा है।  

कहा जाता है कि दशहरे के दिन अगर हनुमान जी को पान का बीड़ा चढ़ाया जाए तो हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और भक्तो की मनोकामना पूर्ण होती है। धार्मिक ग्रंथो के अनुसार पान खाना संपन्नता की निशानी होती है। दरअसल दशहरे के दिन लोग पान खाकर अर्धम पर धर्म की जीत की खुशी मनाते है। यही नहीं इस दिन सच्चाई पर विश्वास और भगवान से प्रेम दर्शाने के लिए लोग एक-दूसरे को पान खिलाते हैं। ऐसा  इसलिए किया जाता है क्योंकी इस समय मौसम में बदलाव होते हैं और संक्रामक बीमारियो का खतरा बढ़ने लगता है। ऐसे में पान खाना सेहत के लिए अच्छा होता है, आयुर्वेद में पान और तुलसी के चमत्कारी गुणो को देखते हुए इन्हें एक समान माना गया है।

बॉलिवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अभिनेत्री जो जाना चाहती थी भारतीय सेना में 

0
बॉलिवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अभिनेत्री जो जाना चाहती थी भारतीय सेना में 
बॉलिवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अभिनेत्री जो जाना चाहती थी भारतीय सेना में 

कुछ लोगो का बचपन से ही यह सपना होता है कि वह भारतीय सेना में जाएं और देश की सेवा करें। भारतीय सेना में जाने के लिए जुनून, जज्बा, हिम्मत और मेहनत के साथ साथ किस्मत की भी बहुत जरूरत होती है। जब तक आप पूरे शरीर से पूरी तरह फिट नहीं होते और दिल दिमाग स्वास्थ्य से पूरी तरह मजबूत व तैयार नहीं होते आप भारतीय सेना मैं कभी नहीं जा सकते। आज बॉलीवुड के ऐसे बड़े बड़े सितारे हैं जो भारतीय सेना में फौजी बनने की चाह रखते थे लेकिन किसी न किसी कारण से वह यह सपना पूरा नहीं कर पाए। हालांकि आज वह पूरी दुनिया में छा चुके हैं लेकिन फिर भी उनके मन में कहीं न कहीं इस बात का अफसोस है कि वह फौजी नहीं बन सके और इस बात का जिक्र उन्होंने खुद अपने इंटरव्यू के दौरान किया है।

अभिनेता शाहरुख खान

अभिनेता शाहरुख खान अपने कई टीवी इंटरव्यू में इस बात का खुलासा कर चुके हैं कि वह भारतीय सेना में जाना चाहते थे। शाहरुख खान अपने शुरुआती अभिनय के करियर में मशहूर टीवी सीरियल फौजी में भी एक आर्मी मैन का रोल प्ले कर चुके हैं।इस दौरान उनके अभिनय में जो जोश देखने को मिला था उससे दर्शक बहुत खुश हुए थे।

बॉलिवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अभिनेत्री जो जाना चाहती थी भारतीय सेना में 

इस शो में उन्हें एक आर्मिमेन का किरदार निभाने के बाद शाहरुख ने बड़े पर्दे पर धमाल मचाया। शाहरुख खान इंटरव्यू में बताए थे कि वह भारतीय सेना में लड़ने के लिए नहीं बल्कि देश की रक्षा करने के लिए जाना चाहते थे।उन्होंने कहा कि देश के युवाओ के दिलो में भारतीय सेना में जाने की चाह जरूर होनी चाहिए। मैं फौज में नहीं जा सका, लेकिन मेरा यही सौभाग्य है कि मुझे बड़े पर्दे पर फौजी की भूमिका निभाने का मौका मिला है।

अक्षय कुमार

अक्षय कुमार को तो आप लोग देशभक्ति की फिल्मो में देखे ही होंगे। अक्षय कुमार ने कहा है कि “देश भक्ति मेरे खून में है”। बड़े पर्दे पर अक्षय कुमार कई बार फौजी की भूमिका निभा चुके हैं। अपने पिता के कदमो पर चलते हुए अक्षय कुमार इंडियन आर्मी में ही जाना चाहते थे। अक्षय कुमार ने यह भी कहा था कि मैं भारतीय सेना में जाने की तैयारी कर रहा था लेकिन यह अलग बात है कि मैं फिल्मी दुनिया में आ गया। अक्षय कुमार के अनुसार फिल्मो में आने के बारे में तो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था लेकिन कई बार ऐसा होता है कि आप जो कहना चाहते हैं वह नहीं होता, क्योंकि भगवान के पास आपके लिए कोई और ही योजना पहले से बनी होती है।

अक्षय कुमार अपनी फिटनेस को लेकर बॉलीवुड ही नहीं पूरे देश भर में फेमस है। अक्षय कुमार के पिता इंडियन आर्मी में थे और ऐसे में अभिनेता अक्षय कुमार भारतीय सेना में जाना चाहते थे। अक्षय कुमार ने ऑनलाइन भारत के वीर नाम से एक पहल भी शुरू की थी इस पहल के तहत उन्होंने शहीद हुए देश के जवानो के परिवारो को आर्थिक मदद मुहैया कराया था ।

अभिनेतासोनू सूद 

साउथ इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता बॉलीवुड में भी अपने पैर जमाने में सक्षम हो चुके हैं। हम बात कर रहे हैं सोनू सूद के बारे में इन्हें तो आप लोग जानते ही होंगे। सोनू सूद भी भारतीय सेना में जाना चाहते थे और देश की सेवा करना चाहते थे लेकिन उनका यह सपना पूरा नहीं हुआ। लेकिन वे जेपी दत्ता की फिल्म “पलटन” में एक सैनिक का किरदार पूरा किए हैं। हिंदुस्तान टाइम्स को दिए गए एक इंटरव्यू के दौरान सोनू सूद ने बताया था कि वह इंडियन आर्मी में जाना चाहते थे, लेकिन उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान फिल्मों की तरफ रुख किया और उनकी किस्मत चमक गई।

बॉलिवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अभिनेत्री जो जाना चाहती थी भारतीय सेना में 

अभिनेता सोनू सूद ने अपने देश भक्ति के जुनून लॉकडउन के दौरान प्रवासी मजदूरो की मदद करके दिखाई थी, जिस कारण वह बहुत सुर्खियो में आए थे। उन्होंने बताया कि मुझे भारतीय सेना में जाने की इच्छा तो थी लेकिन मैं जा नहीं सका। लेकिन बड़े पर्दे पर भी सैनिक की भूमिका निभाने की मेरी बड़ी इच्छा थी और मेरी यह इच्छा पूरी हुई। मुझे बड़े पर्दे पर फौजी बनने का मौका भी मिला, मुझे लगता है कि बड़े पर्दे पर भी इस भूमिका को निभाने का मौका मिलना अपने आप में बड़ी बात है।

अभिनेता रणविजय सिंह

मशहूर अभिनेता रणविजय सिंह जो कि रियलिटी शो एमटीवी रोडीज फिल्म के अभिनेता है उन्हें तो आप लोग जानते ही होंगे, रणविजय सिंह भी फौजी बनना चाहते थे लेकिन एमटीवी रोडीज में सिलेक्शन होने के बाद उनका मन बदल गया। एक इंटरव्यू के दौरान रणविजय ने बताया कि मेरे परिवार की पिछली 5 पीढ़िया इंडियन आर्मी में अपनी सेवा दे रही है और मैं छठी पीढ़ी का था लेकिन मैं आर्मी में सेवा नहीं कर पाया। रणविजय सिंह ने तो भारतीय सेना का हिस्सा बनने की पूरी तैयारी भी कर ली थी रणविजय सिंह ने बताया कि अगर में भारतीय सेना में गया होता तो मैं अपने परिवार से देश की सेवा में जाने वाला छठा व्यक्ति होता।

बॉलिवुड इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता और अभिनेत्री जो जाना चाहती थी भारतीय सेना में 

अभिनेत्री निमृत कौर

इस लिस्ट में अभिनेत्री निमृत कौर भी शामिल है।निमृत को फिल्म एअरलिफ्ट से बॉलीवुड में पहचान मिला निमृत एक आर्मी फैमिली से बिलॉन्ग करती है इसीलिए वह भी भारतीय सेना में जाना चाहती थी। अभिनेत्री निमृत कौर जब भारतीय सेना में जाना चाहती थी उस समय उनका मानना था कि वह इसके काबिल नहीं है, इसीलिए उन्होंने अपनी जिंदगी का उद्देश्य बदल दिया। दरअसल निमृत कौर ने बताया कि वह बचपन से ही आर्मी में जाने की इच्छा रखी थी लेकिन जैसे-जैसे बड़ी होती गई तब उन्हें इस बात का एहसास हुआ कि इंडियन आर्मी में जाना कितना कठिन है। 

निमृत कौर के पिता भी आर्मी में रह चुके हैं निमृत कौर ने बताया कि जब वह अपने पिता को वर्दी पहने देखती थी तो उन्हें बहुत गर्व महसूस होता था। लेकिन समय के साथ उन्हें पता चला कि भारतीय सेना में जाना उतना आसान नहीं है जितना कि वह सोचती है।इसीलिए उन्होंने दूसरे ऑप्शन तलाशने शुरू कर दिए और एक समय टीवी की दुनिया में जाने के बाद उन्होंने वेब सीरीज “द टेस्ट केस” में एक आर्मी ऑफिसर की भूमिका निभाई।

सुप्रीम कोर्ट के नए फैसले के अनुसार अब अविवाहित महिलाओ को भी होगा अनचाहे गर्भ को गिराने का अधिकार 

0
सुप्रीम कोर्ट के नए फैसले के अनुसार अब अविवाहित महिलाओ को भी होगा अनचाहे गर्भ को गिराने का अधिकार 
सुप्रीम कोर्ट के नए फैसले के अनुसार अब अविवाहित महिलाओ को भी होगा अनचाहे गर्भ को गिराने का अधिकार 

सुप्रीम कोर्ट ने विवाहित और अविवाहित सभी महिलाओ को गर्भपात का अधिकार दे दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि किसी भी महिला की वैवाहिक स्थिति को उसे अनचाहे गर्भ गिराने के अधिकार से वंचित नहीं कर सकती। सुप्रीम कोर्ट ने 25 साल की एक सिंगल युवती की अर्जी पर सुनवाई करते हुए यह फैसला लिया है। जिसके तहत अब अविवाहित महिलाओ को भी गर्भावस्था के 24 सप्ताह में कानून के तहत गर्भपात कराने का अधिकार होगा। चाहे महिला विवाहित हो या अविवाहित सभी वर्ग की महिला जो अनचाहे गर्भ को रखना नहीं चाहती वो अपना गर्भपात करवाने का अधिकार रखती है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि किसी भी महिला की वैवाहिक स्थिति को देखते हुए अनचाहे गर्भ को गिराने के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता। इस फैसले में कोर्ट ने कहा कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी एमटीपी एक्ट के तहत 24 सप्ताह में गर्भपात का अधिकार सभी को होगा इस अधिकार में महिला के विवाहित या अविवाहित होने से कोई फर्क नहीं पड़ता।

साल 2021 के संशोधन में पति की जगह पार्टनर शब्द का उपयोग किया था। अदालत ने अभी नोट किया कि साल 2021 में मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी एक्ट में किए गए संशोधन में अविवाहित महिला को भी शामिल करने के लिए पति के बजाय पार्टनर शब्द का उपयोग किया गया था।अदालत ने कहा कि संसदीय की मंशा वैवाहिक संबंधो से उत्पन्न होने वाले स्थितियो के लाभ को सीमित करना नहीं है। दरअसल यह एक विधवा या तलाकशुदा महिला को 20 से 24 सप्ताह की गर्भावस्था को समाप्त करने की अनुमति है।

यह ऐतिहासिक फैसला करते हुए कोर्ट ने कहा कि उक्त कानून के नियम 3B के दायरे में एकल महिलाओ को शामिल करना अनुचित है। यह संविधान के अनुच्छेद 14 के तहत सभी के समानता के मूल अधिकार का उल्लंघन है विवाहित और एकल महिलाओं को गर्भपात से रोकना और से केवल विवाहित महिलाओं को ही अनुमति देना संविधान में दिए गए नागरिकों के मूलभूत अधिकारो का हनन है।

सुप्रीम कोर्ट के नए फैसले के अनुसार अब अविवाहित महिलाओ को भी होगा अनचाहे गर्भ को गिराने का अधिकार 

क्यों किया कोर्ट ने यह फैसला 

सुप्रीम कोर्ट ने महिला अधिकारो की दिशा में इस फैसले को 25 वर्षीय एक अविवाहित युवती की याचिका पर सुनाया है। दरअसल इस युवती ने कोर्ट से 24 सप्ताह के गर्भ को गिराने की इजाजत मांगी थी लेकिन उस समय दिल्ली हाईकोर्ट ने उसे इसकी इजाजत नहीं दी थी। लेकिन बाद में कोर्ट ने युवती की याचिका को फिर से सुनवाई करने का फैसला लिया। फैसले के अनुसार यह तय किया गया कि विवाह एक महिलाएं भी अपने अनचाहे गर्भ को गिरा सकती है। लेकिन पहले मेडिकल बोर्ड को यह प्रमाणित करना होगा कि गर्भपात करने से महिला के जीवन को कोई खतरा नहीं है।

कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता महिला गर्भधारण के कारण परेशानियो का सामना कर रही है जो कि कानून के खिलाफ है। दरअसल यह युवती सहमति से किए गए सेक्स के बाद गर्भवती हो गई थी उसने शीर्ष कोर्ट से गर्भपात की इजाजत देने की गुहार लगाते हुए कहा था कि वह पांच भाई-बहनो में सबसे बड़ी है। उसके माता-पिता की किसान है उसके पास अपनी आजीविका चलाने का कोई इंतजाम नहीं है इसीलिए वह बच्चे का पालन पोषण करने में असमर्थ होगी। लेकिन उस समय दिल्ली हाईकोर्ट ने आदेश में युवती को उसके गर्भ को समाप्त करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था।

कोर्ट ने उस समय यह फैसला इसीलिए सुनाया क्योंकि उस महिला का गर्भ धारण सहमति से बनाए गए संबंध की कारण से था। इस महिला ने अपने असफल रिश्ते का हवाला देते हुए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, महिला ने बताया कि उसके साथी ने उसे अंतिम समय में छोड़ दिया। उसके वकील ने यह तर्क दिया कि मानसिक व सामाजिक कई बाधाओ जैसे सामाजिक कलंक ने महिला के गर्भावस्था को समाप्त करने के उद्देश्य से अदालत का दरवाजा खटखटाने के लिए मजबूर किया। 

इस फैसले को लेकर कोर्ट ने कहा कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी अधिनियम साल 1971 के तहत कानून महिलाओ के प्रजनन अधिकार और शारीरिक अखंडता को मान्यता देता है। और महिलाओ को अवांछित गर्भावस्था से पीड़ित होने की अनुमति देना संसद की मनसा का उल्लंघन होगा। कानून ने यह फैसला इसलिए लिया क्योंकि विवाहित और अविवाहित महिला के बीच के अंतर का कानून में दिए गए स्पष्टीकरण से कोई संबंध नहीं है। संसद का इरादा केवल वैवाहिक संबंधो तक अधिनियम के लाभो को सीमित करना नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट के नए फैसले के अनुसार अब अविवाहित महिलाओ को भी होगा अनचाहे गर्भ को गिराने का अधिकार 

कोर्ट ने साफ तौर पर कहा कि चाहे महिला विवाहित हो या अविवाहित किसी भी महिला से उसके गर्भ को रखने या खतम करने के छेत्र में उस महिला को फैसला लेने के अधिकार से वंचित रखना उसकी गरिमा को कुचलने जैसा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी साल 2021 में जो बदलाव किया गया है, उसके तहत एक्ट में महिला और उसके पार्टनर शब्द का उपयोग हुआ है। वहां पार्टनर शब्द का उपयोग है ना कि पति शब्द का ऐसे में वह महिलाए जो अपने पार्टनर के साथ होने वाले असफल संबंध या किसी धोखे का शिकार होने के कारण गर्भपात करवाना चाहती है वह महिलाए भी इस दायरे में आती हैं और उन्हे गर्भपात करवाने का पुरा अधिकार है।

गर्भपात को लेकर विवाहित महिला के लिए कोर्ट का फैसला 

सर्वोच्च अदालत ने गर्भपात को लेकर कहा कि अविवाहित और विवाहित महिलाओ के बीच भेदभाद नहीं हो सकता। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि महिला चाहे विवाहित हो या अविवाहित सभी को सुरक्षित गर्भपात कराने का पुरा अधिकार होना चाहिए और इस क्षेत्र में वह फैसला लेने का पूरा अधिकार रखती है। चलिए जानते किन परिस्थितियो में गर्भधारण होने के बाद महिलाए 24 सप्ताह तक गर्भपात कराने का अधिकार रखती है।

* बलात्कार या यौन अनाचार के कारण गर्भावस्था

* नाबालिग अवस्था में ही गर्भावस्था होना

* विधवा और तलाकशुदा महिला का गर्भावस्था होना

* शारीरिक रूप से दिव्यांग महिलाए

* मानसिक रूप से बीमार महिलाए

* बच्चे के पैदा होने के बाद किसी भी प्रकार से शारीरिक या मानसिक रूप से दिव्यांग होने की संभावना होना। 

* भूल या आपातकालीन स्थितियों में गर्भाधारण करने वाली महिलाएं

* गर्भावस्था के दौरान महिला पर खतरा वाली स्थिति में

तो वहीं विवाहित महिलाओ के क्षेत्र में गर्भपात को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनाए गए फैसले में कहा गया कि पति द्वारा किए जाने वाले दुष्कर्म, ‘मैरिटल रेप’ यानी ‘वैवाहिक बलात्कार’ के क्षेत्र में भी 24 सप्ताह की तय सीमा में पत्नी गर्भपात करा सकती हैं। यह अधिकार उन महिलाओ को बहुत राहत देगा जो अनचाहे गर्भ को रखने के लिए विवश है। MTP अधिनियम की व्याख्या करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उक्त कानून में वैवाहिक बलात्कार मैरिटल रेप को भी शामिल माना जाना चाहिए। अदालत ने अपने फैसले में MTP अधिनियम की व्याख्या करते हुए यह व्यवस्था दी है। 

सुप्रीम कोर्ट के नए फैसले के अनुसार अब अविवाहित महिलाओ को भी होगा अनचाहे गर्भ को गिराने का अधिकार 

कोर्ट ने कहा कि वैवाहिक जीवन में पति के ज़बरन शारीरिक संबंध बनाने के कारण से हुई गर्भावस्था भी एमटीपी एक्ट यानी मेडिकल टर्मिनेशन प्रेग्नेंसी क़ानून के दायरे में आती है। भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के दायरे में वैवाहिक बलात्कार अभी नहीं है और सुप्रीम कोर्ट के दुसरे टेबल पर यह मामला अभी लंबित है। लेकिन कोर्ट के इस फैसले से भविष्य में मैरिटल रेप को लेकर को जो भी फैसला होगा उसे अभी से मजबूती मिल रही है। कई दशको से गर्भपात देश-विदेश में महिलाओ के लिए संघर्ष का मुद्दा रहा है। 

विकसित देश हो या विकासशील, अबॉर्शन को लेकर हर जगह वाद-विवाद की एक जैसी ही मानसिकता होती है। हाल ही में, अमेरिका में गर्भपात को लेकर हुए फ़ैसले को रूढ़िवादी और महिलाओ के अधिकार के ख़िलाफ़ माना गया। वहीं अब भारत की सर्वोच्च अदालत ने सभी महिलाओ को सुरक्षित और क़ानूनी गर्भपात को हर एक महिला का अधिकार बताते हुए इसका दायरा बढ़ाया है। जिसके अनुसार अब गर्भपात के नियम के दायरे से अविवाहित महिलाओ को बाहर रखना असंवैधानिक है। इसलिए अविवाहित महिलाए भी 24 हफ़्ते तक की गर्भावस्था को ख़त्म करवाने का पूर्ण रूप से अधिकार रखती है।

अबॉर्शन करवाना एक महिला का मूलभूत अधिकार है जो हर नारीवादी आंदोलन की एक प्रमुख मांग रही है। अनचाहा असुरक्षित अबॉर्शन व गर्भधारण ये दोनो ही महिलाओ के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता आया है। पितृसत्तात्मक समाज में जहां महिलाओ का अपने शरीर और प्रजनन पर कोई अधिकार नहीं है ऐसे में अनचाहा गर्भ महिलाओ के लिए शोषण का एक ज़रिया बन चुका है। समाजिक राजनीतिक जैसे किसी भी प्रक्रिया में प्रभावी रूप से भाग लेने में पूरी तरह से सक्षम होने के लिए महिलाओ के पास अपने शरीर पर पूर्ण नियंत्रण होना अनिवार्य है फिर चाहे कोई महिला विवाहित हो या अविवाहित।

कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट

0
कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट
कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट

कार्तिक का महिना कई त्योहारो से भरा होता है धनतेरस और दिवाली के साथ कई महत्वपूर्ण व्रत और त्योहार इसी महीने में मनाए जाते हैं। कार्तिक माह में ही सुहागिनो का सबसे बड़ा पावन वा पवित्र त्योहार मानाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत रखा जाता है। ज्यादातर यह त्योहार उत्तर भारत के राज्यो जैसे पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बहुत ही उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है। 

इस साल 2022 करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर  को मनाया जाएगा। जो महिलाए करवा चौथ का व्रत करती है और उद्यापन करना चाहती हैं वे महिलाए उसी दिन इस व्रत का उद्यापन कर सकती हैं। तो आईए जानते हैं करवा चौथ व्रत विधि, शुभ मुहूर्त के साथ इस व्रत के उद्यापन से जुड़ी सभी जानकारी।

हिंदू धर्म में करवा चौथ साल की सबसे बड़ी चतुर्थी और महत्वपूर्ण तिथि होती है इस साल करवा चौथ पर बेहद शुभ संयोग बन रहा है। क्योंकि इस साल करवा चौथ पर रोहिणी और कृतिका नक्षत्र के साथ सिद्धि योग बन रहे हैं। इस दिन चंद्रमा अपनी उच्च राशि वृषभ में रहेंगे इस शुभ संयोग में सुहागिनो के लिए पूजा और उद्यापन का महत्व बेहद ख़ास बताया जा रहा है।

करवा चौथ का व्रत वैसे एक बार शुरू करने के बाद पति के जीवित रहने तक किया जाता है लेकिन अगर किसी कारणवश आप यह व्रत नही कर पाते हैं तो इसका उद्यापन कर देना चाहिए। करवा चौथ का उद्यापन करवा चौथ वाले दिन ही किया जाता है। इस दिन भगवान शिव, माता पार्वती, गणेश जी और कार्तिकेय के साथ माता करवा की पूजा की जाती है। 

कड़वा चौथ पूजन सामग्री

नारियल, रोली, अक्षत, थाली, सिक्का, पान, सुपारी फल, पकवान, सुहाग का सामान – कुमकुम, सिंदूर, मेहंदी, बिछिया, वस्त्र, महावर, चूड़ी, हल्दी, बिंदी, कंधा, काजल, शीशा आदि।

कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट

करवाचौथ उद्यापन विधि

करवा चौथ पर उद्यापन करने के लिए 13 सुहागि औरतो को एक एक सुपारी देकर भोजन के लिए आमंत्रित करें। ध्यान रखें कि यह 13 स्त्रिया वही हो जो करवा चौथ का व्रत करती है। करवा चौथ वाले दिन सुबह जल्दी उठकर साफ सफाई होकर नई साड़ी पहनें। सरगी का सेवन करके व्रत करने का संकल्प लें और दिनभर निर्जला व्रत रखें। 

करवा चौथ के दिन उद्यापन में हलवा और पूड़ी का भोजन जरूर बनाए। इसके अलावा आप अपने सामर्थ्य के अनुसार कुछ पकवान बना सकते हैं, लेकिन इस बात का खास ध्यान रखें कि इस दिन के खाने में लहसून-प्याज बिल्कुल भी ना डाले।

संध्या काल के समय शुभ मुहूर्त में व्रती और सभी 13 सुहागिन महिलाए एक साथ पूजा करें, कथा सुनें और चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद पानी पीकर अपने व्रत का पारण करें। अब एक थाली में 13 जगह 4 पूड़ी पर हलवा  रखें थाली पर रोली से टीका करें, अक्षत रखे और गणेश जी को चढ़ाएं।

कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट

भोजन से पहले 13 महिलाओ को इस हलवा पूड़ी का प्रसाद खिलाएं, अब सबसे पहले भोजन की थाली सास को परोसे, इसके साथ उन्हें सुहाग का सामान भेंट करें। अगर सास सुहागिन नहीं है तो घर की दूसरी वृद्ध महिला को यह थाली दें और सामान भेंट करके उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।

आमंत्रित सभी 13 महिलाओ को भोजन कराएं और उन्हें टीका करके एक थाली या प्लेट में सुहाग की सामग्री और कुछ रुपये रखकर भेंट करें। साथ ही देवर या जेठ के एक लड़के को साक्षी बनाकर उसे भी भोजन करवाएं और नारियल व कुछ रुपये भेंट स्वरूप दें। 

करवा चौथ शुभ तिथि और पूजा मुहूर्त

हिंदू पंचांग के अनुसार, करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाई जाती है। इस बार करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर, गुरुवार रात 1 बजकर 59 मिनट पर शुरू होगी और 14 अक्टूबर रात 3 बजकर 8 मिनट पर समाप्त होगी। क्योंकि उदयातिथि 13 अक्टूबर को पड़ रही है इसलिए करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर को ही रखा जाना चाहिए।

करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त होगा 13 अक्टूबर शाम 6 बजकर 17 मिनट से 7 बजकर 31 मिनट तक। यानि 1 घण्टा 13 मिनट के अवधि के दौरान आपको पूजा कर लेनी है।करवा चौथ व्रत रखने का समय – सुबह 6 बजकर 32 मिनट से रात 8 बजकर 48 मिनट तक और इस दिन चन्द्रोदय का समय है – 8:48 pm 

करवा चौथ का व्रत का महत्त्व

करवा चौथ के व्रत का सुहागिन महिलाओ के जीवन के लिए बहुत शुभ होता है, क्योंकि इस दिन सभी सुहागिन महिलाएं अपने सुहाग की रक्षा के लिए व्रत रखती है। इस दिन व्रत रखकर महिलाए भगवान से अपने पति की लंबी आयु और सुखमयी जीवन के लिए प्रार्थना करती है। केवल सुहागिन महिलाए ही नहीं करवा चौथ के दिन कई कन्याए भी यह व्रत रखती है। 

दरअसल कन्याए सुयोग्य वर पाने की कामना लेकर करवा चौथ का व्रत करती है। इस व्रत में महिलाएं दिन-भर निर्जला व्रत रखती हैं, और रात में चंद्रोदय के बाद चांद की पूजा करके अपना व्रत खोलती है। ज्यादातर यह व्रत सुहागिन महिलाओ द्वारा उत्तर भारत में की जाती है। 

कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट

करवा चौथ पर अपने रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए जरूर करें इन उपायो को

  • करवा चौथ के दिन महिलाओ को गणेश जी को गुड़ चढ़ाने का शुभ फल प्राप्त होता है। ऐसा करने से पति-पत्नी के बीच प्रेम संबंध बेहतर होती है और दाम्पत्य जीवन में मिठास घुलती है। 
  • घर में सुख-शांति लाने के लिए करवाचौथ के समय देवी दुर्गा को पीले व लाल वस्त्र पहनाएं और “ओम उमामहेश्वराभ्याम नम:” मंत्र का जाप करें। इस मंत्रोचारण के साथ देवी मां को चढ़ाएं गए वस्त्र में गांठ लगा दें। करवाचौथ के अगले दिन वो चढ़ाएं गए वस्त्र को कहीं सुरक्षित स्थान पर रख दें ऐसा करने से परिवार में खुशहाली आएगी।
  • अगर आप चाहते हैं कि आपके पति को नौकरी व बिजनेस में सफलता मिले तो करवाचौथ के दिन साबुत हल्दी की पांच गांठ लगाए और उन सब में “ओम श्री गणधिपतये नम:” मंत्र का जाप करते हुए  घर के मंदिर में रखें, इससे आपकी मनोकामनाए पूरी होगी। 
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर पति-पत्नी के बीच हमेशा लड़ाई होती रहती है दोनो के बीच का रिश्ता ठीक नहीं है। तो ऐसे में करवा चौथ के दिन बरगद के पेड़ का पत्ता लेकर उस पर लाल रंग से वह चीजे लिख दें, जो आप अपने पति में देखना चाहते हैं। इसके बाद उस पत्ते को मोड़ कर अपने सिर से 7 बार घुमाले और शाम को किसी बहती नदी या जल में प्रवाहित कर दें।
  • सौभाग्य प्राप्ति के लिए करवाचौथ पर पान के पत्ते में सिंदूर रखकर गणेश जी को अर्पित करे। इस दौरान “ओम ऋधि सिद्धि विनायकाय नम:” मंत्र का जाप करें। चढ़ाए गए सिंदूर को अपने पास सुरक्षित रख लें और रोजाना नहाने के बाद अपनी मांग में इसी सिंदूर को भरे। 
  • पति और पत्नी के रिश्ते में जब अविश्वास आ जाता है तब पति-पत्नी का रिश्ता ठीक से नहीं चल पाता। विश्वास की मजबूती के लिए करवा चौथ के दिन लाल रंग के रेशमी कपड़े में दो गोमती चक्र और 50 ग्राम पीली सरसो बांधकर, एक कागज पर अपने पति का नाम लिखे और बांधकर किसी ऐसी जगह पर रखें जहां एक साल तक कोई इसे देख ना सके और अगले साल करवा चौथ के दिन इसे खोलें। ऐसा करने से पति-पत्नी के बीच का संबंध मजबूत होता है।
  • पति-पत्नी के संबंधो में प्रेम होना बहुत जरूरी है। जब पति-पत्नी के प्रेम संबंधो में मधुरता नहीं होती तो ऐसे में करवा चौथ के दिन पांच बेसन के लड्डू, पांच पेड़े और पांच केले अपने हांथो से किसी गाय को खिलाए और गाय की पीठ सहलाते हुए अपनी समस्या दूर करने की प्रार्थना करें।
  • अगर आप भी अपने पति के साथ प्रेम संबंध अच्छा बनाए रखना चाहते हैं तो इसके लिए आप करवा चौथ के दिन सोलह श्रृंगार करते समय अपनी मांग में अपने पति के हाथ से सिंदुर भरवाए। लेकिन ध्यान रखें कि ऐसा करते समय वहां पति-पत्नी के सिवाय कोई दूसरा ना हो। कहा जाता है कि ऐसा करने से पति की उम्र बढ़ती है और पति-पत्नी के बीच का प्यार कभी कम नहीं होता।
कड़वा चौथ पूजन, उद्घापन विधि और इस दिन किए जाने वाले कुछ खास नियम जो बनाएंगे आपके रिश्ते को अटूट

करवा चौथ के दिन भुलके भी ना करें ये काम

  • करवा चौथ के दिन व्रती को उजला कपड़ा नहीं पहनना चाहिए। इस दिन लाल और पीले रंग का वस्त्र पहनना अच्छा होता है।
  • इस दिन पूजा के समय भगवान श्री गणेश जी के सामने घी का दीपक जलाना चाहिए कहा जाता है कि ऐसा करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही इस दिन गणेश जी को पीले रंग के वस्त्र और हल्दी की गांठ अर्पित करें।
  • महिलाएं सुहाग सामग्री जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर आदि जैसी सुहाग की चीजो को दान करना बेहद शुभ होता है। ध्यान रखें कि इस दिन भूलकर भी सुहाग व श्रृंगार की चीजो को कचड़े में न फेकें।
  • हिंदू धर्म में किसी भी व्रत के दौरान शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए और करवा चौथ के दिन तो और भी नहीं। केवल शास्त्र ही नहीं वैज्ञानिक तौर पर भी इस बात की पुष्टि की गई है। 
  • दरअसल व्रत के दौरान शरीर में बिल्कुल भी ताकत नहीं बचती और शारीरिक संबंध बनाने के लिए ताकत की जरूरत होती है। ऐसे में किसी भी व्रत के दौरान शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए।

Our Social Media Stats

25,678FansLike
18,643FollowersFollow
11,088FollowersFollow
14,563FollowersFollow
12,452SubscribersSubscribe
error: Content is protected !!