Wednesday, May 18, 2022
Homeहिन्दीट्रेंडिंगगुलाब में लिपटी वेलेंटाइन डे के बीच क्या हमें पुलवामा का वह...

गुलाब में लिपटी वेलेंटाइन डे के बीच क्या हमें पुलवामा का वह दिन याद है? जब देश के 40 जवान हुवे थे शहीद।

आज 14 फरवरी Valentine’s Day है। लेकिन सवाल तो यह है कि गुलाब में लिपटी रुमानियत के बीच क्या हमें पुलवामा का वह दर्दनाक और खौफनाक घटना लोगो को याद है भी की नहीं। 

आज पुलवामा हमले की दूसरी बरसी है उस आतंकी हमले में CRPF(Central Reserve Police Force) के 40 जवानों ने शहादत दी थी। श्रीनगर से 30 किलोमीटर दूर अवंतीपोरा इलाके के लाटूमोड़ पर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने CRPF के काफिले पर फिदायीन हमला किया था। पुलवामा के लेथपोरा इलाके में CRPF के उन चालीस शहीद जवानों की याद में पिछले साल ही स्मारक बनाया गया। 

14 फरवरी साल 2019 का दिन जम्मू-कश्मीर से लेकर पुरे देश भर के लोगो को ऐसे घाव दे गया जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। इस दिन पुलवामा में अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ था। न जाने इस हमले ने हाँसते खेलते कितने ही परिवार उजाड़ कर रख दिए थे। यह केवल एक हमला ही नहीं है जो जम्मू-कश्मीर के लोगों को खौफनाक यादों में डूबा कर रखी है बल्कि यह एक देश की बरी हानि है। 

आजकल के युवा पीढ़ी को वेलेंटाइन वीक का आखिरी दिन वैलेंटाइन डे बहुत ही अच्छे से याद रहता है। लेकिन पता नहीं शायद इतने कम है कम ही ऐसे लोग हैं जो जो ठीक से जानते भी हैं कि आज ही के दिन हमारे देश की रक्षा करने वाले कई जवान सा 14 मई आज ही के दिन मार दिए गए थे देश की और वह भी देश के रक्षा करते दौरान लेकिन क्या आप जानते हैं। 

जो देश के जवान दिन-रात देश की हिफाज़त के लिए हर समय बॉर्डर पर तैनात रहते हैं। उन महान वीर जवानों के लिए आज का यह दिन आखिरी दिन बन गया। हम देशवासियों की सेवा करने के लिए उन्होंने हँसते हँसते अपनी जान गवा दी। 

लेकिन शायद आज देश के युवा पीढ़ी को इस बात का एहसास नहीं है। क्योंकि अगर आप ध्यान से सोचें तो आज आपको कुछ लोग ऐसे मिलेंगे जो अपनी लाइफ में इस कदर व्यस्त हो चुके हैं कि उन्हें आज के दिन घटने वाली इतनी दर्दनाक घटना याद भी नहीं होगी। 

अगर आप नोटिस करेंगे तो आपको कुछ लोग ऐसे मिलेंगे जिन्हे 14 फ़रवरी को मनाए जाने वाला वेलेंटाईन डे बहुत अच्छे से याद होगा साथ ही इस दिन तरह तरह के सेलिब्रेशन भी कर रहे होंगे लेकिन उन्हें कुछ समय निकालकर एक मोमबत्ती जलाकर उन वीर जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए समय नहीं मिलेगा। 

लेकिन हम यह नहीं कह रहे हैं कि वे लोग जीना छोड़ दे हम तो बस यह कह रहे हैं कि वे अपनी खुशी के बीच कम से कम 1 मिनट के लिए ही सही उन वीर जवानों को भी याद कर ले जिन्होंने खुशी-खुशी इस देश के लिए अपनी जान गवा दी।

लेकिन आजकल के भाग दौर भरी ज़िन्दगी में शायद ही लोगों को इस सब के लिए समय मिल सकता है कि वे कुछ समय निकालकर उन वीर जवानों को याद कर सके। हम आपसे यही कहेंगे कि आपको अपने ज़िन्दगी के एक दिन में से कम से कम एक पल उन वीर जवानों को भी याद कर ले। 

14 फरवरी की वह दर्दनाक घटना

पुलवामा का वह दुःखद धमाका इतना तगड़ा था कि पल भर में बस के परखच्चे उड़ गए और जम्मू-कश्मीर हाइवे पर 100 मीटर के दायरे में बिखरे क्षत-विक्षत शवों की तस्वीर किरचों की तरह दिलो दिमाग में जाकर बैठ गयी। पुलवामा, जिसकी पहचान कश्मीर में सबसे ज्यादा दूध उत्पादन वाले इलाके की थी, इस आतंकी वारदात ने उसकी पहचान खून से लथपथ कर दी थी। 

गुलाब में लिपटी वेलेंटाइन डे के बीच क्या हमें पुलवामा का वह दिन याद है? जब देश के 40 जवान हुवे थे शहीद।

यही वजह है कि पिछले दो सालों में जम्मू-कश्मीर हाइवे पर आतंकी चाहकर भी बड़े हमले को अंजाम नहीं दे पाए हैं।’ पुलवामा हमले के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने संसद में पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा था कि कश्मीर में खून और पानी एक साथ नहीं बह सकता। 

CRPF की इंटर्नल जांच 

पुलवामा के शहीदों का बदला ठीक उनकी तेरहवीं के दिन लिया गया। 26 फरवरी साल 2019 को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को सर्जिकल स्ट्राइक में तहस नहस कर दिया गया।  

पुलवामा हमले के बाद CRPF की इंटर्नल जांच में यह पता चला था कि काफिले पर आईईडी हमले का अलर्ट तो था, लेकिन कार के जरिए फिदायीन हमले की कोई चेतावनी नहीं थी। पुलवामा की दूसरी बरसी पर CRPF की ओर कहा गया है कि -‘इन दो सालों में काफी कुछ बदला है। पुलवामा हमले के बाद जम्मू-कश्मीर हाइवे को ड्रोन, CCTV और कई अत्याधुनिक तकनीकों से पूरी तरह सुरक्षित किया गया है। काफ़िले चलते समय खास तरह के SOP का इस्तेमाल किया जा रहा है। नए बुलेटप्रूफ वाहन, नए हथियार, अत्याधुनिक गोलाबारूद तो है ही आर ओपी के लिए बड़ी संख्या में जवान तैनाती की गई है।  

पुलवामा हमले के बाद जम्मू-कश्मीर में अतंकियों की सफाई के लिए सुरक्षाबलो ने ज्वांइंट ऑपरेशन शुरू किया। CRPF का दावा है कि इस अभियान में पिछले दो सालों में पौने चार सौ आतंकी ढेर किया जा चुके हैं। घाटी में आतंकवाद की कमर पूरी तरह टूट चुकी है।

क्या कहता है हमारा कर्तव्य और ज़मीर वैलेंटाइंस डे पर आप अपनी जीएफ और पार्टनर के लिए फूल तो जरूर खरीदते ही होंगे और फूल देकर अपनी जिंदगी में रंग भरते हैं। वेलेंटाइन वीक में आप लोगों ने अपने पार्टनर और परिवार के लिए कुछ ना कुछ खास जरूर किया होगा और कर भी रहे हैं। तो क्या हमारा यह कर्तव्य नहीं बनता की हम एक पल का समय निकालकर उन वीर शहीद जवानों को याद करें जो आज जिंदा तक नहीं है।

आप सब एक बार यह सोच कर देखिए कि उनके परिवार पर क्या बीती होगी जब उनको यह खबर मिली होगी। ऐसे में हम सब देशवासियों को उनके सम्मान में मोमबत्ती जलाकर उन्हें श्रद्धा ज्ञापन करना चाहिए। साथ ही अपने परिवार, दोस्तों को भी इस बात के लिए आग्रह करना चाहिए ।

क्योंकि हम अगर देश प्रेमी है तो हमें उन देश प्रेमियों के बलिदान का इज्जत करना चाहिए। ना कि अपने आप में ही इतना व्यस्त हो जाना चाहिए कि हम उनके बलिदान के लिए अपनी जिंदगी के एक पल भी ना दे सके। तब शायद ऐसा होने पर हमें अपने आपको स्वार्थी और देश द्रोही ही कहना पड़ेगा। इसीलिए दोस्तों अगर आप सच्चे देश प्रेमी है तो पुलवामा हमले को याद करके एक पल के लिए जरूर उन वीरों को याद करें और उन्हें श्रद्धांजलि दें।

हम आपको कहेंगे कि आपको अपनी जिंदगी में इतना भी एहसान फरामोश नहीं होना चाहिए, कि अपनी रक्षा करने वाले देशभक्तों की शहीद के दिन पर उनको एक पल के लिए याद ना करें। इसीलिए हमें उनका सम्मान करते हुए वैलेंटाइंस डे के दिन इस बात को भी याद रखना चाहिए कि आज अगर हम अपने घर में सुरक्षित है और वैलेंटाइंस डे मना रहे हैं, तो उन वीर जवानों के बलिदान के वजह से। उनके खून बहने और जान गवाने के कारण ही आज हमारी जान सुरक्षित है।

हम उम्मीद करते हैं कि आप लोग इस बात पर अमल करेंगे और यह पोस्ट पढ़कर आप लोग को दूसरे लोगों को भी जागरूक करेंगे। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे लाइक करें और ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, ताकि देश के सभी लोग इस बात को समझ सके।

Jhuma Ray
Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।
RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: