Homeहिन्दीउत्तरप्रदेशUP में केबिनेट का बड़ा फैसला, पिपरांइच, पीपीगंज और मुंडेरा बाजार नगर...

UP में केबिनेट का बड़ा फैसला, पिपरांइच, पीपीगंज और मुंडेरा बाजार नगर पंचायत भी GDA की सीमा में शामिल।

UP उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार ने 28 नई नगर पंचायतें बनाने का फैसला किया है। गोरखपुर व वाराणसी नगर निगम के साथ नगर पालिका के 9 परिषदों और 12 नगर पंचायतों का सीमा विस्तार किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने Cabinet by circulation इन प्रस्तावों को मंजूरी दी है। आशुतोष टंडन जो नगर विकास मंत्री हैं उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में 276 राजस्व ग्रामों को शामिल करते हुए 28 नई नगर पंचायतें बनाई गई हैं और 77 राजस्व ग्रामों को शामिल करते हुए 12 नगर पंचायतों का सीमा विस्तार किया गया है। 

इसके साथ 102 राजस्व गांवों को शामिल करते हुए नगर पालिका के 9 परिषदों और नगर निगम गोरखपुर में एक और नगर निगम वाराणसी में 9 राजस्व गांवों को शामिल करते हुए सीमा विस्तार किया गया है। उत्तर प्रदेश में अब निकायों की संख्या 735 हो गई है, जिसमें 17 नगर निगम है, 200 नगर पालिका परिषद है और 518 नगर पंचायतें हो गई हैं। नए निकायों के गठन और विस्तार होने के बाद नगर में 9 लाख 5 हज़ार 700 जनसंख्या की बड़ोतरी हुई है और 57 हज़ार 474 हेक्टर क्षेत्रफल की वृद्धि हुई है। साल 2011 की जनगणना के अनुसर राष्ट्रीय स्तर पर शहरी क्षेत्र 31.16 प्रतिशत है। उत्तर प्रदेश राज्य में केवल 22 फीसदी ही शहरी क्षेत्र है। इस अनुसार यूपी काफी पीछे है। और इसीलिए राज्य सरकार  उत्तर प्रदेश में शहरीकरण की वृद्धि पर ध्यान दे रही है।

सीमा विस्तार

नगर निगम गोरखपुर और नगर निगम वाराणसी। नगर पालिका परिषद बहराइच, भदोही, जायस अमेठी, कन्नौज, भदोही, पुखरायां कानपुर देहात, गौराबरहज देवरिया, नवाबगंज बाराबंकी, मारहरा एटा,कन्नौज नगर पालिका परिषद का विस्तार किया गया है। और नगर पंचायतों में परशदेपुर रायबरेली, कुलपहाड़ महोबा, बबेरू, हरगांव सीतापुर, गोलाबाजार गोरखपुर, ओबरा सोनभद्र, हरैया बस्ती, रामपुरा जालौन, औरास उन्नाव,नरैनी व तिंदवारी सभी बांदा का विस्तार किया गया है।

नई नगर पंचायतें

रतसड़कलां बलिया, कप्तानगंज, मुंडेरवा, गणेशपुर व नगर बाजार बस्ती, कंचौसी कानपुर देहात, बरौली अलीगढ़, राजेसुल्तानपुर व जहांगीरगंज अंबेडकरनगर, असोथर फतेहपुर, ढकवा प्रतापगढ़, चरवा कौशांबी, मऊ चित्रकूट, कैसरगंज बहराइच, रटौल बागपत, रामगंज प्रतापगढ़,  कलान शाहजहांपुर, खिरौनी सुचित्तागंज अयोध्या, अचलगंज उन्नाव, महमूदपुरमाफी मुरादाबाद, रामसनेहीघाट बाराबंकी,सूजाबाद वाराणसी, रामसनेहीघाट बाराबंकी, सैदनगली अमरोहा, जवां सिकंदरपुर व टप्पल अलीगढ़,कुमारगंज अयोध्या और चौक महराजगंज को नगर पंचायत बनाया गया है।

UP में केबिनेट का बड़ा फैसला, पिपरांइच, पीपीगंज और मुंडेरा बाजार नगर पंचायत भी GDA की सीमा में शामिल।

वर्तमान में गोरखपुर विकास प्राधिकरण (GDA) का क्षेत्रफल 284.96 वर्ग किलोमीटर से बढ़कर 641.73 वर्ग किलोमीटर हो जाएगा। इसपर यूपी सरकार ने कैबिनेट की मुहर भी लगा दी है। GDA में 233 नए राजस्व ग्राम शामिल किए गए हैं। अब कुल मिलकर राजस्व ग्रामों की संख्या बढ़कर 319 हो गई है।  

प्राधिकरण के दायरे में आने वाले क्षेत्रो का वर्तमान क्षेत्रफल 284.96 वर्ग किलोमीटर था। जीसमें 356.77 वर्ग किलोमीटर का वृद्धि है। अब प्राधिकरण के तहत कुल 641.73 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्रफल आएगा। राजस्व ग्रामों की बात करें तो अभी तक प्राधिकरण की सीमा में 86 राजस्व ग्राम आते थे और अब 233 और राजस्व ग्राम जुड़ गए हैं। यानी प्राधिकरण के दायरे में अब कुल 319 राजस्व ग्राम आ गए है। इसी तरह पहले GDA के तहत नगर निकाय के तौर पर केवल नगर निगम ही आता था अब इनकी संख्या चार हो गई है। अब प्राधिकरण के क्षेत्र में पिपराइच, पीपीगंज और मुंडेरा बाजार नगर पंचायतें भी शामिल हो गई हैं। 

साल 2019 से चल रही थी, विस्तारीकरण की प्रक्रिया


  साल 2019 से ही गोरखपुर विकास प्राधिकरण के सीमा विस्तार के लिए प्रयास चल रहा था। पिछले साल यानि 2019 को 12 जून के दिन ही प्रस्ताव तैयार कर भेजा गया था। बाद में शासन के निर्देश पर हिंदी के साथ इंग्लिश भाषा में भी प्रस्ताव को तैयार करके भेजा गया था और आख़िरकार अब कैबिनेट से मंजूरी मिल गई है।

अब GDA को लैंड बैंक की कमी नहीं पड़ेगी


वर्तमान समय में GDA  लैंड बैंक की कमी से जूझ रहा था। प्राधिकरण के पास अब खोराबार और मानबेला में ही जमीन थी। लेकिन इन दोनों जगहों पर भी विवाद चल रहा है। एक लम्बे समय से लटका मानबेला का मामला अभी तक पूर्ण रूप से सुलझा नहीं है। खोराबार में कुछ काश्तकारों ने अधिग्रहण की कार्रवाई पूरी होने के बाद भी जमीन बेच दी और बड़ी संख्या में वहां कब्जा भी है। ऐसे में प्राधिकरण का दायरा दोगुने से भी अधिक बढ़ जाने के कारन अब किसी भी आवासीय और व्यावसायिक परियोजनाओं में जमीन की कमी आड़े नहीं आएगी।

आने वाले वर्षों में बढ़ जाएगा शहर का दायरा आने वाले समय में प्राधिकरण की सीमा विस्तार ही शहर के सीमा विस्तार की आधारशिला है। योगी आदित्यनाथ जी के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही गोरखपुर सहित पुरे उत्तर प्रदेश के चारो ओर विकास हो रहा है। लगातार नई नई परियोजनाओं पर काम हो रहे हैं, ऐसे में ऐसा माना जा रहा है कि लखनऊ,इलाहाबाद,गाजियाबाद, वाराणसी आदि बड़े शहरों की तरह ही शहर का दायरा भी जल्द ही बढ़ जाएगा। क्योंकि बीते चार से पांच सालों में ही शहर का दायरा एक तरफ खोराबार से आगे, वाराणसी रोड पर एकला तो लखनऊ रोड पर सहजनवां तक हो गया है। इसी तरह सोनौली और महराजगंज मार्ग पर भी तेजी से शहर का दायरा बढ़ते दिख रहा है।


अब नगर निगम के अलावा पिपरांइच, पीपीगंज और मुंडेरा बाजार नगर पंचायत भी GDA की सीमा में शामिल हो गए हैं। GDA की तरफ से तैयार किए गए प्रस्ताव के मुताबिक प्राधिकरण क्षेत्र में आने वाला नगर निगम का एरिया 14101.60 हेक्टेअर है। जिसमें 1 लाख 12 हजार 237 घर आते हैं, जबकि आबादी 6 लाख 73 हजार 446 की है। इसी तरह पिपरांइच का कुल एरिया 800 हेक्टेअर है, जिसमे 2 हज़ार 636 घर हैं और आबादी 15 हज़ार 621 की है। और पीपीगंज की बात करें तो पीपीगंज नगर पंचायत का एरिया 600 हेक्टेअर है, जिसमें 2 हज़ार 300 घर और आबादी 13 हज़ार 517 की आबादी है। तो वहीं मुंडेरा बाजार नगर पंचायत का एरिया 600 हेक्टेअर, 1 हज़ार 683 घर और 10 हज़ार 818 की आबादी है।

GDA के सचिव राम सिंह गौतम ने बताया कि GDA के सीमा विस्तार को कैबिनेट से मंजूरी मिल गई है। प्राधिकरण क्षेत्र में 233 राजस्व ग्राम और बढ़े हैं। यानी अब कुल संख्या 319 हो गई है और इसी तरह नगर निकायों की संख्या भी चार हो गई है।

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!