Wednesday, May 18, 2022
Homeहिन्दीधनतेरस व दिवाली पर कीजिए छोटे-छोटे नियमों का पालन और पाएं बड़े-बड़े...

धनतेरस व दिवाली पर कीजिए छोटे-छोटे नियमों का पालन और पाएं बड़े-बड़े सुख-समृद्धि से भरपुर परिनाम l

इस साल धनतेरस 13 नवंबर को है वैसे तो धनतेरस और दिवाली एक ऐसा त्यौहार है जब हमारे किए गए नियमों से घर में बरकत आती है। और हमेशा के लिए माता लक्ष्मी हमारे घर में विराजमान हो जाती है। लेकिन समय पर हम अगर इन नियमों का पालन नहीं कर पाते तो माता लक्ष्मी हमारे घर चली जाती। जिस कारण साल भर हमें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आज के पोस्ट में हम आपको धनतेरस और दिवाली के दिन किए जाने वाले कुछ नियमों के बारे में बताएंगे जिसे अगर आप करते हैं, तो जरूर आपके घर में बरकत आएगी। माता लक्ष्मी आपके घर में हमेशा के लिए विद्यमान हो जाएगी, जिससे आपके घर में कभी भी धन से जुड़ी समस्या नहीं होगी। साथ ही आपके घर पर मंडरा रहे बुरे सायो से भी आपको छुटकारा मिलेगा,

इसके अलावा हमारे आस पास ही बहुत से शत्रु होते हैं जो हमारे शुभ कार्य में बाधा डालते हैं, लेकिन हम उन्हें देख नहीं पाते। लेकिन दिवाली धनतेरस पर की गई नियमों से हम उन शत्रुओं को हरा सकते हैं और अपने कामो में विजय पा सकते हैं। तो चलिए जानते हैं उन नियमों के बारे में जिसे करने के बाद आपके जीवन में हो रही सारी समस्याओं का समाधान तो होगा ही साथ ही आपके राशि में लगे ग्रह दोष भी नष्ट होंगे।

धनतेरस पर किए जाने वाले उपाय —

1. सबसे पहले धनतेरस के दिन घर का जो भी व्यक्ति सुबह उठता हैं वह घर के मुख्य द्वार पर गंगाजल छिड़के। अगर आपके घर में गंगाजल नहीं है तो आप जल में तुलसी का पत्ता डालकर रखें और उसे घर के मुख्य द्वार पर सुबह उठते ही छिड़क दे या फिर आप तांबे के बर्तन में पानी लेकर भी मुख्य द्वार पर छिड़क सकते हैं। वह भी गंगा जल के समान ही होता है।

2. धनतेरस के सुबह ही यह करने के बाद आपको सबसे पहले मुख्य द्वार पर एक बाल्टी पानी डालना है, उसके बाद ही आपको घर में झाड़ू लगाना चाहिए। क्योंकि कहा जाता है कि ऐसा करने से जिन लोगों ने भी आपके घर की खुशियों या कार्यो में बाधा डाला है या फिर अपना बुरा नजर लगाया है। वह सब हट जाते हैं और उन लोगों का बुरा नजर उन लोगों पर ही चला जाता है।

3. उसके बाद आपको घर के मुख्य द्वार के एक तरफ किसी भी बर्तन में जल भरकर इसमें थोड़ा सा सुगंध वाले कोई फूल की पंखुड़ी डालकर रख देना है। कहा जाता है कि धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी हर घर में आती है ऐसे में अगर जल भरा हुआदेखती हैं तो वे उस घर में जरूर प्रवेश करेंगी।

4. धनतेरस दिवाली के दिन सुबह-सुबह घर को पोछा लगाते समय उसमें फिटकरी या खरीदा हुआ नमक डालकर पोछा लगाना चाहिए कहा जाता है कि ऐसा करने से घर में रह रही बुरी शक्तियों का नाश होता है।

धनतेरस व दिवाली पर कीजिए छोटे-छोटे नियमों का पालन और पाएं बड़े-बड़े सुख-समृद्धि से भरपुर परिनाम

5. धनतेरस के दिन सोना, चांदी या पीतल खरीदने के बारे में तो आप लोग जानते ही होंगे। लेकिन धनतेरस के दिन आपको तीन चीजें जरूर से जरूर खरीदने चाहिए। धनतेरस के दिन आपको साबुत धनिया खरीदना चाहिए और धनतेरस के दिन झाड़ू तो जरूर से जरूर ही खरीदें क्योंकि झाड़ू माता लक्ष्मी का प्रतीत होता है। कहा जाता है कि झाड़ू में माता लक्ष्मी विराजमान रहती है हमें कभी भी झाड़ू को पाव नहीं लगानी चाहिए हमेशा ही झाड़ू की इज्जत करनी चाहिए इसीलिए धनतेरस पर झाड़ू खरीदने का रिवाज है। तीसरा जो चीज है वह है नमक, आप को धनतेरस के दिन जरूर नमक खरीदने चाहिए। और धनतेरस के दिन ख़रीदे गए उसी नमक से 5 दिन तक खाना बनाना चाहिए। आपके घर में पहले से नमक है आप उस नमक को अलग रख सकते हैं और 5 दिन बाद उस नामक का फिरसे इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन धनतेरस के दिन ख़रीदे गए नमक से ही पांच दिन तक खाना बनाना चाहिए।

नमक से जुड़ी इन बातो का आपको जरूर ध्यान रखना चाहिए —

  • * कभी भी नमक अपने हाथ से किसी के हाथ में नहीं देना चाहिए कहा जाता है कि ऐसा करने से आपस में रिश्ते खराब हो जाते हैं
  • * नमक को कभी भी प्लास्टिक के बर्तन या किसी और बर्तन में नहीं रखनी चाहिए। नमक को हमेशा कांच के डिब्बे या लकड़ी के डिब्बे या फिर कांच के बर्तन में रखने चाहिए
  • * हमेशा ही नमक को ढक कर रखना चाहिए, क्योंकि कहा जाता है कि नमक जल्दी ही नकारात्मक शक्तियों को अपने अंदर सकती है इसीलिए हमें हमेशा ही नमक को ढक कर रखना चाहिए।

धनतेरस पर नमक के कुछ उपाय होते हैं जिसे करने से घर के नकारात्मक भाव दूर होने के अलावा सकारात्मक भाव व ऊर्जा आती है। ननकरात्मक भाव तो हर किसी के घर में हर किसी के मन में कहीं ना कहीं उत्पन्न होता रहता है और इस नकारात्मक भाव से छुटकारा पाने के लिए धनतेरस के दिन नमक से कुछ इस प्रकार उपाय किए जाते हैं —

6. धनतेरस के दिन एक कांच के कटोरि या ग्लास में थोड़ा सा नमक रखकर घर के उत्तर-पूरव दिशा में रख देना है और फिर उस नमक को दीपावली के अगले दिन लेकर किसी जगह नदि या तलाब या कहीं पर भी बहा देना चाहिए। कहा जाता है कि ऐसा करने से घर में बस रही नकारात्मक शक्तियां उस नमक के साथ दूर हो जाती है। लेकिन आपको उस नमक को खाली नहीं फेंकना चाहिए, ध्यान रखें कि कभी भी नमक को जमीन पर खाली ना फेंके ऐसा करना अशुभ होता है इसीलिए नमक को कभी भी पानी वाली जगह पर फेंकना चाहिए।

7. धनतेरस के दिन दान करने का भी बहुत महत्व होता है। धनतेरस के दिन आप अगर किसी को दिए दान करते हैं तो आपके घर में धन की कभी भी कमी नहीं होती। इसके अलावा धनतेरस के दिन किसी को सफेद चीज़े जैसे कि सफेद कपड़ा, चावल, चीनी, मिठाई इत्यादि दान करना चाहिए। धनतेरस के दिन सफेद चीजें दान करने का भी काफी महत्व होता है।

8. धनतेरस व दीपावली के दिन आपको किसी को पैसे नहीं देने चाहिए, लेकिन घर पर आए हुए किसी भी व्यक्ति को खाली हाथ नहीं जाने देना चाहिए। अगर कोई धनतेरस या दिवाली के दिन आपके घर पर कुछ मांगने आए तो उसे जरूर देना चाहिए लेकिन पैसे नहीं देने चाहिए। पैसों को छोड़कर खाने की वस्तु या कोई और चीज देना शुभ होता है इसीलिए धनतेरस और दिवाली के दिन किसी को पैसे ना दें और ना ही किसी को घर से खाली हाथ जाने दें।

9. दिवाली पर रंगोली बनाना तो हमारा पुराना परंपरा है। लेकिन कुछ लोग रंगोली नहीं बनाते हैं लेकिन दिवालि या धनतेरस के दिन हमें जरूर रंगोली बनाना चाहिए। दिवाली या धनतेरस के दिन मुख्य द्वार पर चावल पीसकर या फिर गुलाब या किसी और फूल की पंखुड़ी से छोटा सा ही सही लेकिन रंगोली बनानी चाहिए। और शाम को उसी रंगोली पर दो दिए जलाकर रखने चाहिए, कहा जाता है कि माता लक्ष्मी रंगोली देखकर आकर्षित होती हैं। इसके अलावा भी धनतेरस के दिन मुख्य द्वार के दोनों तरफ सिंदूर या रोली में घी मिलाकर एक एक स्वास्तिक का चिन्ह बनाना ना भूले और स्वास्तिक चिन्ह के दोनों तरफ की खड़ी रेखा बनाना ही ना भूले।

10. धनतेरस के दिन से दिवाली तक माता लक्ष्मी को लोंग का जोड़ा चढ़ाएं साथ ही धनतेरस और दिवाली के दिन सूर्य को हल्दी मिलाकर जल अर्पित करें। ऐसा करने से कहा जाता है कि हमें रोग से छुटकारा मिलता है और हमारे इष्ट देवता भी प्रसन्न होते हैं। धनतेरस के दिन धनतेरस की पूजा करने से पहले और बाद में शंख में जल भरकर घर के चारों दिशाओं में छिड़कना चाहिए मतलब की पूजा करने से पहले शंख में जल लेकर घर के चारों दिशाओं में छिड़के और फिर पूजा करने के बाद भी घर के चारों दिशाओं में उसी तरह शंख में जल लेकर छिड़के l

11. धनतेरस के दिन एक छोटा सा लाल कपड़ा लें और उसमें 21 चावल रखे और उस चावल को एक लाल कपड़े में बांधकर घर की तिजोरी या धन रखने वाले जगह में रख दें। ऐसा करने से धन स्थिर धन की प्राप्ति होती है। इस दिन और एक उपाय करें एक लाल कपड़े में थोड़ा सा फिटकिरी या फिर नामक बांधकर घर के मुख्य द्वार के बाहर की ओर बांध दें। ऐसा करने से हमारे घर पर कोई बुरी नजर नहीं डाल पाता है।

12. धनतेरस के दिन अपने परिवार में सुख शांति और अपने परिवार के सारे सदस्यों के स्वास्थ्य प्राप्ति व समृद्धि के लिए हमें यह उपाय जरूर करना चाहिए, यह उपाय हमें काला तिल से करना होता है। घर का कोई भी व्यक्ति हाथ में थोड़ा सा काला तीन लेकर उसे घर के सभी सदस्यों के सिर के ऊपर से 3 बार वार कर उस तिल को घर के बाहर की ओर दक्षिण दिशा में फेंक देना चाहिए इससे घर में शांति आती है।

हर कोई चाहता है कि उसका जीवन सुख और समृद्धि से भरा रहे। कष्ट कोई नहीं भोगना चाहता लेकिन क्या ऐसा संभव होता है? जी नहीं! हर किसी के जीवन में कोई ना कोई कमी, कोई ना कोई बाधा तो रह ही जाती है। लेकिन क्योंकि कठिनाइयां है, हम हार नहीं मानते। हम निरंतर प्रयास करते रहते हैं। कामयाबी के लिए हम कठिन से कठिन कार्य कर बैठते हैं, किसी भी हद से गुजर जाते हैं। लेकिन इतने संघर्ष के बाद भी अगर हमें सफलता ना मिले तो अक्सर हमारा दिल यह सवाल कर बैठता है की आखिर हमें हमारे परिश्रम का फल क्यों नहीं मिल रहा।

लेकिन अक्सर लोग कुछ छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज कर देते हैं या फिर अविश्वास करते हैं। परिणाम स्वरूप उन्हें छोटे से छोटे सुख के लिए भी बहुत संघर्ष करना पड़ता है। बात करें हिंदू धर्म की तो हिंदू धर्म में पूजा पाठ का सबसे ज्यादा महत्व होता है। लेकिन साथ ही हिंदू धर्म में यह भी माना गया है की हमारी जीवन शैली काफी हद तक ग्रहों नक्षत्रों के द्वारा प्रभावित होती है। बाकी यह तो सच है ही कि भगवान पर विश्वास हो तो हम कुछ भी कर सकते हैं। हिंदू धर्म में ग्रहों, नक्षत्रों और राशि का अपना-अपना महत्व है, जो शायद ही आम आदमी को समझ में ना आए लेकिन बड़े-बड़े ज्योतिषियों और पंडितों द्वारा उनका अर्थ अच्छे से समझा जा सकता है। अगर हमारे ग्रह नक्षत्र शांत और सही दिशा में रहे तो हमें सफल और समृद्ध होने से कोई नहीं रोक सकता। लेकिन सवाल यह है कि ग्रह नक्षत्र को शांत किया कैसे जाएं? 

Jhuma Ray
Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।
RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: