Homeहिन्दीपूर्वांचलयोगी आदित्यनाथ: सही मायनों में हिन्दू धर्म के रक्षक।

योगी आदित्यनाथ: सही मायनों में हिन्दू धर्म के रक्षक।

योगी आदित्यनाथ जी ने UP उत्तर प्रदेश के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य किए हैं। उन महत्वपूर्ण कार्यों में से उन्होंने हिंदू धर्म के कई धार्मिक कार्यों को पूरा कराया है। उन्होंने हिंदू पक्ष के लोगों के भगवान के प्रति रहने वाले श्रद्धा का लाज रखा, आज हम भगवान से यह कह सकते हैं कि हमने उनके जन्म भूमि पर उनका मंदिर बनवाया है। जिसका श्रेय जाता है योगी आदित्यनाथ जी को जिन्होंने अपने कार्यकाल में इस कार्य को संभव करके दिखाया है। सालों से रुका इस कार्य का संभव हो पाना काफी कठिन था जो कि CM योगी आदित्यनाथ जी ने कर दिखाया। हम हिंदू जातियों के स्वाभिमान श्री राम जी के जन्म भूमि पर उनका मंदिर निर्माण करवा कर उन्होंने यह साबित कर दिया कि भारत में हिंदू जाति के लोगों का भगवान के प्रति श्रद्धा अभी भी उसी तरह बरकरार है, उन्होंने भगवान और भक्त के संबंध को और भी मजबूत कर दिया है।

CM योगी आदित्यनाथ हिंदू के धर्म का सम्मान करते हैं उनके धर्म को रक्षा करते हैं। यह हम ऐसे ही समझ सकते हैं क्योंकि हम देख सकते हैं कि नेता होते हुए भी योगी आदित्यनाथ मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा करते हैं। वह हर साल मंदिरों में जाकर कन्या पूजन करते हैं यह इसीलिए क्योंकि वह मां दुर्गा के शक्ति को मानते हैं और इसीलिए वह मां दुर्गा रूपी कन्याओं और महिलाओं का सम्मान करते हैं। यह बात हर कोई जानता है कि योगी आदित्यनाथ हर साल मंदिरों में जाके मां दुर्गा की पूजा अर्चना करते हैं फिर मां दुर्गा से आशीर्वाद लेते हैं।

योगी आदित्यनाथ भगवान राम के महान भक्त हैं  

योगी आदित्यनाथ धार्मिक कार्यों में इतने जूटे की पूरा हिंदूस्तान इनको अपना आदर्श मानने लगा। योगी को लेकर लोग अब धार्मिक गाने भी बनाने लगे हैं। अभी अभी एक नया गाना निकला जो कि काफी ज्यादा फेमस हुआ है। और यह योगी आदित्यनाथ जी को लेकर बनाया गया है। अयोद्धा में भगवान श्री राम जी का मंदिर निर्माण करवाने के बाद हिंदू धर्म के बहुत से लोग योगी आदित्यनाथ जी को अनंत गुरु के रूप में मान देने लगे है। लोग उन्हें नेता कम भगवान के भक्त के रूप में ज्यादा देखते हैं और उन्हें पसंद करते हैं। योगी जी के सम्मान में बनाए गए कई गानों में से एक गाना भगवान श्री राम जी के साथ योगी जी को जोड़कर बनाया गया है वह गाना कुछ इस प्रकार है “राम राम राम से है… योगी जी का नाम रे“  योगी आदित्यनाथ जी महाराज गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महंत अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी और सांसद है। योगी आदित्यनाथ जी ने हिंदू जाति के लोग भगवान मानने वाले गौ के हत्या पर रोक लगाने के लिए भी कई सार्थक कार्य किए हैं। शिव अंश की उपस्थिति में छात्र रूपी योगी जी को शिक्षा के साथ-साथ सनातन हिंदू धर्म की विकृतियों और उस पर हो रहे प्रहार से व्यथित कर दिया।

योगी आदित्यनाथ: सही मायनों में हिन्दू धर्म के रक्षक।

प्रथम प्राप्ति से प्रेरित होकर योगी जी ने अपने 22 वर्ष की अवस्था में ही सांसारिक जीवन को त्याग कर सन्यास जीवन ग्रहण कर लिया। वे अपने विज्ञान वर्ग से स्नातक तक शिक्षा ग्रहण की और छात्र जीवन में विभिन्न राष्ट्रवादी आंदोलनों से भी जुड़े रहे। बहुआयामी प्रतिभा से संपन्न योगी जी हिंदू धर्म के साथ-साथ राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों के माध्यम से राष्ट्र की सेवा में मग्न हो गए। योगी आदित्यनाथ जी को लोग इतना मानते हैं कि वह जहां भी खड़े होते हैं वही सभा शुरू हो जाती है। वह जो भी बोलते हैं उनके समर्थकों के लिए वह पत्थर की लकीर होती है यही नहीं होली और दीपावली जैसे त्यौहार कब मनाए जाएंगे इसके लिए भी योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर से ऐलान करते हैं। गोरखपुर और वहां के आसपास के इलाके में योगी आदित्यनाथ और उनकी हिंदू युवा वाहिनी की तूती बोलती है।

UP के CM और गोरक्ष पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ हर साल नवरात्रि के अवसर पर अष्टमी के दिन से लेकर दशहरे तक अपने गृह नगर स्थित नाथ संप्रदाय के सबसे बड़े केंद्र गोरखनाथ में रुकते हैं। इस अवसर पर वे अष्टमी की महापूजा से लेकर विजयादशमी के जुलूस में शामिल होते हैं। ऐसे में इस साल भी CM योगी दशहरे पर प्राचीन परंपरा कायम रखते हुए गोरखधाम मंदिर से विजय जुलूस निकाला गया। योगी आदित्यनाथ शोभायात्रा निकालकर कड़ी सुरक्षा के बीच से रामलीला मैदान पहुंचे और वहां उन्होंने श्री राम जी का राजतिलक किया।

रथ के बदले वाहन से ही मानसरोवर मंदिर पहुंचे  

हर साल CM योगी आदित्यनाथ दशहरे के दिन गोरक्ष पीठाधीश्वर रथ पर सवार होकर शोभायात्रा निकालते हैं। लेकिन इस साल कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए CM योगी जी अपने वाहन से ही मानसरोवर मंदिर पहुंचे। वहां वे देवी देवताओं की पूजा अर्चना करने के बाद रामलीला मैदान पहुंचे जहां उन्होंने भगवान श्री राम जी का तिलक किया जिसके बाद “राघव शक्ति मिलन” कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें भगवान श्री राम, माता जानकी और भाई लक्ष्मण के साथ पहुंचकर मां आदिशक्ति की पूजा अर्चना करते हैं। “राघव शक्ति मिलन” कार्यक्रम का आयोजन साल 1948 से होता चला आया है। इस कार्यक्रम में नेताओ के अलावा आसपास के जिलों के लोग भी शामिल होते हैं। पूरे देश भर में सिर्फ गोरखपुर में ही इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है और इसी कारण यह लोगों के आकर्षण का केंद्र भी बना रहता है। लेकिन इस साल कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए कम लोगों की उपस्थिति में ही इस कार्यक्रम को संपन्न किया गया।

विजयादशमी के अवसर पर गोरखनाथ मंदिर से गोरक्ष पीठाधीश्वर की परंपरागत विजय शोभायात्रा रविवार के दिन शाम को श्रद्धा भक्ति और हर्षोल्लास के वातावरण के साथ आन बान शान से निकली। नाच गाने की धुन के साथ निकली इस शोभा यात्रा के राह में खड़े श्रद्धालुओं ने भव्य रूप से स्वागत किया। शोभायात्रा में शामिल होने के लिए गोरक्ष पीठाधीश्वर योगी आदित्य नाथ पंथ के पारंपरिक परिधान में अपने आवास से शाम को 4:30 बजे निकली और पुजारियों, पुरोहितों व साधु संतों के साथ श्रद्धांजलि के दरबार में पहुंचे। इस समय ढोल, नगाड़ो और शंख के गूंज से पूरा वातावरण भक्ति के रंग में रंग गया था फिर पीठाधीश्वर ने श्रीनाथ जी की पूजा अर्चना की और इसके बाद विजय शोभा यात्रा की अगुवाई करने निकले।

योगी आदित्यनाथ: सही मायनों में हिन्दू धर्म के रक्षक।

कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए गोरक्षा पीठाधीश्वर व मुख्यमंत्री योगी बंद गाड़ी में सवार थे और सड़क के दोनों ओर खड़े श्रद्धालुओं का अभिवादन स्वीकार कर रहे थे। मुख्यमंत्री की गाड़ी के पीछे एक रथ पर संत और पुजारी भी मौजूद थे जिससे काफिले की भव्यता भी काफी बढ़ गई। गोरखनाथ मंदिर से लेकर गंतव्य मानसरोवर मंदिर के छातों पर खड़े लोग फूल बरसा रहे थे फूल बरसा कर लोग पूरे काफिले का स्वागत भव्य रूप में कर रहे थे। जब शोभा यात्रा मानसरोवर मंदिर पहुंची जहां मुख्यमंत्री ने सबसे पहले वहां स्थापित सभी देवी देवतायों की पूजा अर्चना की और भगवान शिव को जल चढ़ाकर भक्ति अर्पण कीया। उसके बाद वे रामलीला मैदान पहुंचे जहां उन्होंने भगवान श्री राम जी के राजतिलक की परंपरा पूरी की।

शोभायात्रा के दौरान हनुमान अखाड़े से जुड़े युवाओं का उत्साह देखने को मिला

यात्रा में हनुमान अखाड़े से जुड़े युवाओं का उत्साह देखने लायक था। जहां युवा लाठी से युद्ध कला का प्रदर्शन दिखा रहे थे जो सभी लोगों का ध्यान खींच रहा था। उनके पीछे श्रद्धालुओं का समूह जय श्रीराम और नाथ संप्रदाय का जयकारा लगाए आगे बढ़ रहे थे। परंपरागत रूप से शोभायात्रा में हनुमान जी की प्रतिमा भी शामिल थी भले ही युवाओं के इस दल का प्रदर्शन को कोविड प्रोटोकॉल के कारन श्रीनाथजी के दरबार से गोरखनाथ मंदिर गेट तक ही सीमित रखी गई।

विजय शोभायात्रा के दौरान कड़ी सुरक्षा दी गई

शोभा यात्रा कड़ी सुरक्षा के बीच से गुजरी विजय शोभायात्रा के दौरान पुलिस प्रशासन की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था भी देखने को मिली। CRPF, रैपिड एक्शन फोर्स, पुलिस, एनएसजी के सुरक्षाकर्मी तैनात थे साथ ही शोभायात्रा के जगह-जगह छतों पर पुलिस बल तैनात किया गया था।

गोरक्ष पीठाधीश्वर की वीजय शोभायात्रा का कैफुलवरा परिवार ने स्वागत किया

गोरक्ष पीठाधीश्वर की विजय शोभायात्रा का चौधरी कैफुलवरा परिवार वर्षों से स्वागत करता आ रहा है औरइस परंपरा को उस परिवार ने इस वर्ष भीबड़े ही धूमधाम से निभाया। इस बार बुनकर समाज भी उनके साथ था। परिवार के चौधरी जैद ने बताया कि कोविड प्रभाव के कारण पीठाधीश्वर ने बंद गाड़ी से ही उनका अभिनंदन स्वीकार किया।

बात नवरात्रि में कन्या पूजन करने की हो या होली में शोभायात्रा निकालना। अयोध्या राम मंदिर का वर्षो से रुका हुआ काम पूरा करना हो या फिर कुंभ मेला का आयोजन करना हो, योगी जी किसी भी तरह से धार्मिक कार्यों में पीछे नहीं रहते और सदा ही हिंदू धर्म के हित में हिंदू धर्म की रक्षा के लिए कार्य करते रहते हैं। वह योगी जी ही है जिनकी वजह से यूपी बिहार में गौ हत्या पर रोक लगाई गई। हालांकि पूरे देश में यह नियम लागू है लेकिन पूरे देश में लोग इस आदेश को उतनी गहराई से नहीं मानते लेकिन यूपी बिहार ऐसी जगह है जहां योगी जी की कड़ी निगरानी मकी वजह से गौ हत्या नहीं होती। कुल मिलाकर योगी जी ने पूरे देश में हिंदू धर्म का मान बढ़ाया है। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताइए और इस पोस्ट को लाइक करें। अगर पोस्ट पसंद आई तो इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करे और अपनी राय हमे कमेंट करके जरूर बताएं।

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!