Homeहिन्दीजानकारीUAE में 10 साल से रह रहे इस भारतीय के साथ यह...

UAE में 10 साल से रह रहे इस भारतीय के साथ यह क्या हो गया:धर्म की आड़ में हो रहे इन अपराधों का अंत कब? जानिए एक दर्दनाके घटना के बारे में।

आज हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताएंगे जो यूएई में रह रहे एक व्यक्ति के साथ एके भारतीय व्यक्ति के साथ घटी, जो काफी दर्दनाक है। पिछले 10 साल से UAE में रह रहेबएक व्यक्ति के साथ एक ऐसी घटना घटी है जिसको सुनकर आप सभी के आँखों मे आंसू आ जायेगा। उस व्यक्ति का नाम अखिलेश पाण्डे है। वह एक मैकेनिकल इंजीनियर है। आपको बता दें, अखिलेश पाण्डे को पिछले साल यानी 2019 के अक्टूबर में UAE में गिरफ्तार कर लिया गया था और उन्हें 15 साल के लिए जेल भेज दिया गया था। सिर्फ इतना ही नहीं उन पर एक करोड रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। अखिलेश पर यह आरोप लगाया गया है की उन्होंने UAE और वहां का धर्म मुसलमान के खिलाफ अनाब-सनाब बोला है। अखिलेश पांडे को UAE और वहां के धर्म के खिलाफ बोलने के आरोप में 1 करोड़ रुपए का जुर्माना और 15 साल के कैद की सजा दी गई है।

UAE में अखिलेश पांडे की वाइफ अंकिता अपने 2 साल के बच्ची के साथ रहती है। इस घटना के बाद वह पिछले 1 साल से इंसाफ मांग रही है। अखिलेश के जेल होने के बाद सोचिए इन पर क्या बीता होगा। अंकिता ने बताया कि पिछले दिनों इनकी 2 साल की बच्ची बीमार हो गई थी और उस बच्ची के इलाज में काफी परेशानियां आई। तो अब आप लोग सोचिए। अगर परिवार का इकलौता कमाने वाला ही जेल में हो तो उसके परिवार का क्या होगा। अखिलेश पाण्डे उत्तर प्रदेश में गोरखपुर के रहने वाले है। इस खबर को सुनने के बाद गोरखपुर में रह रहे उनके माता-पिता भी बहुत परेशान है।

अखिलेष पाण्डे की पत्नी अंकिता पाण्डे ने क्या कहा

अखिलेष पाण्डे की पत्नी अंकिता पाण्डे ने कहा की जिन्होंने अखिलेश के खिलाफ यह कम्प्लेन किया है, चारों एक ही कम्युनिटी के हैं। इनमें से कोई भी UAE का लोकल नागरिक नही है। उन्होंने मेरे हस्बैंड को एक प्लेन बनाकर फसाया है। चारों झूठे इल्ज़ाम लगा रहे हैं जिसने कंप्लेन की है उसके पास कोई भी फिजिकल एविडेंस नहीं था। उसने बस अपने साथ तीन विटनेस तैयार कर लिए थे। जिन लोगों ने उस पर इल्जाम लगाया है वह अपने पर्सनल बेनिफिट के लिए लगाया है और कंपनी के इंटरनल पॉलिटिक्स को लेकर लगाया है। मेरे हस्बैंड ने ऐसा कुछ नहीं किया है। मैं पीएम श्री नरेंद्र मोदी जी से यही रिक्वेस्ट करती हूं कि यहां से मेरे पति को निकालें ताकि हम इंडिया में आकर रह सकें। यहां पर हमारा कोई भी फाइनेंशियल सपोर्ट नहीं है। पिछले 9 महीने से यहां मैं और मेरी बेटी बहुत परेशानियों का सामना कर रहे हैं। हमारे पास इतने भी पैसे नहीं है ताकि हम सही से दो वक्त का खाना खा सकें। पिछले दिनों मेरी बच्ची भी बीमार थी लेकिन मेरे पास इतने भी पैसे नहीं थे ताकि मै अपनी बच्ची का इलाज करा सकूं। मैंने यह सुना है कि UAE के जो लोग हैं वह बहुत अच्छे हैं और यहां के गवर्नमेंट भी बहुत अच्छी हैं। जो सच्चा होता है वह उसके साथ खड़े होते हैं। मुझे उम्मीद है कि यहा के गवर्नमेंट भी मुझे इंसाफ देगी। मुझे और मेरे हस्बैंड को इस कॉन्ट्री से निकालेगी ताकि हम इंडिया में जाकर रह सके।  

UAE में 10 साल से रह रहे इस भारतीय के साथ यह क्या हो गया:धर्म की आड़ में हो रहे इन अपराधों का अंत कब? जानिए एक दर्दनाके घटना के बारे में।

अखिलेश की पत्नी ने आगे कहा, UAE में 30 लाख से भी ज्यादा भारतीय लोग काम करते हैं। UAE के साथ भारत के संबंध भी काफी अच्छे हैं। हमें UAE की न्याय प्रणाली पर भी भरोसा है और हमें UAE के सरकार पर भी भरोसा है कि वह किसी के साथ अन्याय नहीं होने देगी। हम यह नहीं कह रहे हैं कि UAE में किसी पर किसी प्रकार का अत्याचार होता है। लेकिन जिस तरह इस भारतीय को जेल में डाल दिया गया है इस विषय पर UAE के सरकार को जरूर विचार करना चाहिए।

अखिलेश की पत्नी अंकिता ने आरोप लगाने वाले 4 व्यक्तियों के बारे में कहा कि वह एक ही कम्यूनिटी के हैं। लेकिन UAE के नागरिक नहीं है। अंकिता ने उन चार नागरिकों के नाम नहीं लिया लेकिन अंकिता को पता है कि वह चार नागरिक कौन है। फिर भी अंकिता उनका नाम नहीं ले सकती क्योंकि अगर वह उनका नाम लेंगी तो वे उनका जीना भी मुश्किल कर देंगे। दोस्तों, वह चार नाम है- अब्दुल मुनीम जो सूडान के हैं, माजिद राणा राउफ जो कि पाकिस्तान के हैं, मोहम्मद हुसैन खान जो भारत के हैं और मोहम्मदुला शेख ये भी भारत के हैं। अंकिता ने बताया कि इन चारों के पास अपने आरोप को प्रूफ करने के लिए कोई सबूत भी नहीं था। सूडान के नागरिक अब्दुल मुनीम ने अखिलेश पाण्डे पर UAE और इस्लाम धर्म का अपमान करने का आरोप लगाया और बाकी तीनों को गवाह के रूप में पेश कर दिया। बस इन तीनों के गवाहों को ही सच मानकर अखिलेष पांडे को 15 साल के लिए जेल भेज दिया गया।

अखिलेष ने बार-बार उस जगह के सीसीटीवी फुटेज देखने की बात कही लेकिन सबूत देखने के बजाय इन तीनों लोगों के गवाही को ही सच मानकर अखिलेश को जेल में डाल दिया गया। UAE के अबू धाबी कोर्ट ने अखिलेश को जो सजा सुनाई थी उसके खिलाफ वहां के सुप्रीम कोर्ट में अब अपील दाखिल की गई है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट अब कुछ दिनों में अपना फैसला सुनाएगी और इसी दौरान UAE में भारतीय दूतावास लगातार अखिलेश के परिवार से संपर्क में है और हम उम्मीद करते हैं की इस भारतीय परिवार को न्याय जरूर मिलेगा UAE के जो सुप्रीम कोर्ट है वह जरूर न्याय करेंगें ।

अफसोस होता है यह जानकर कि आज 21 वी सदी में भी दुनिया में ऐसे कट्टरपंथी लोग मौजूद है जो धर्म को जरिया बना कर लोगों का जीना दूभर कर देते हैं और उससे भी अफसोस तब होता है, जब उस कट्टरपंथी दल में कोई भारतीय भी शामिल होता है। अब तो हम यही आशा कर सकते हैं कि जल्द से जल्द अंकिता और उसके पति अखिलेश पांडे को न्याय मिले और वे दोनों अपने देश भारत लौट सके।

ये भी पढ़े- phonepe app से पैसे कैसे कमाए

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!