Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।

5
Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।
Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।

एक जमाना था जब, बीमारियां काफी कम थी। इतने बीमारियों के नाम भी लोगों को पता नहीं थे और बीमारी होती भी थी तो लोग देसी इलाज करके ही उन्हें ठीक कर लेते थे। दरअसल पहले का खानपान अलग था, खानपान में कोई मिलावट नहीं थी। लोग प्रकृति से जुड़ी चीजों का सेवन करते थे और स्वस्थ रहते थे। लेकिन आज की लाइफ स्टाइल और खानपान दोनों एकदम बदल गया है। लोग 24 घंटे Busy रहने लगे हैं, खाने-पीने का कोई सही समय नहीं है आज। साथ ही साथ खानपान में भी मिलावट आ गई है। इसी कारण नई नई बीमारियां आए दिन लोगों को जकड़ रही हैं। ऐसी ही एक बीमारी है गुर्दे में पथरी। Research से यह पता चला है कि हर 100 में से 15 लोगों को गुर्दे में पथरी है। इसीसे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह बीमारी कितनी गंभीर रूप लेती जा रही है दिन प्रतिदिन। लेकिन सवाल यह है कि ये बीमारी लगती कैसे हैं। चलिए पहले इसी बारे में जानते हैं।

किडनी में पथड़ी का कारण

दोस्तों! आज की लाइफ स्टाइल को देखते हुए ऐसा कोई निश्चित कारण नहीं बता सकते, जिसके कारण किडनी में पथरी होती है। बहुत से ऐसे वजह है जिससे पथरी होने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ वजह सामने आई है तो कुछ वजह अभी तक अनजान है। लेकिन  सबसे ज्यादा जिस वजह से गुर्दे में पथरी होती है, वह यह कि किडनी के फिल्टर मेकेनिज्म  खराबी आ जाती है। जब उसमें खराबी आ जाती है तो यूरिन में कुछ रसायन अधिक हो जाते है। जो जमा होकर गुर्दे में पथरी का रूप ले लेते है। किडनी में पथरी होने के कुछ कारण इस प्रकार है।

Kidney Stone का इलाज:  जानिए गुर्दे में पथड़ी क्यों होता है, इसके उपचार कौन कौन से है।

प्रोटीन, नमक और ग्लूकोजयुक्त पदार्थ का अधिक मात्रा में सेवन

हम सभी को पता है कि प्रोटीन और ग्लूकोज हमारी सेहत के लिए जरूरी है। लेकिन अगर इसकी मात्रा अधिक हो जाए तो बीमारी लगते देर नहीं लगती। प्रोटीन, ग्लूकोज और नमक के ज्यादा सेवन से गुर्दे में पथरी होने का खतरा रहता है।
थाइरॉएड से ग्रस्त होने पर

थाइरॉएड की दिक्कत  होने से भी पथरी होने का खतरा रहता है। इसीलिए थाइरॉएड से ग्रस्त रोगी को अपनी सेहत का ध्यान रखना चाहिए, साथ ही उन्हें बीच-बीच में जांच कराते रहना की कही उनके गुर्दे में भी पथरी तो नहीं हो गयी।
वजन अधिक होना 

कम या ज्यादा वजन हमारे शरीर के लिए घातक होता है। जिन लोगों का वजन ज्यादा है, उन्हें बाकी बिना बीमारियों के साथ किडनी स्टोन होने का भी खतरा रहता है। इसी कारण वजन को नियंत्रित रखना बहुत जरूरी होता है।
बाईपास सर्जरी का होना 

जिन लोगों ने हालही में अपना बाईपास सर्जरी करवाया है, उनको भी किडनी में पत्थर होने का खतरा रहता है। ज्यादातर यह बाईपास सर्जरी के साइड इफेक्ट के कारण होते हैं।
पानी कम पीना 

कुछ लोग को पानी कम पीने की आदत होती है। वह लोग ज्यादा पानी नहीं पी पाते। लेकिन ऐसा करना सही नहीं। पानी कम पीने से हमारे शरीर में बहुत सी बीमारी लगने का खतरा रहता है। पानी कम पीने से हमारा शरीर पूरी तरह से साफ नहीं हो पाता और हमारे गुर्दे में पथरी बनने की संभावना रहती है।

गुर्दे में पथरी कितने प्रकार के होते हैं

कैल्शियम स्टोंस (Calcium stones) — अधिकांश लोगों को कैल्शियम स्टोंस होते हैं। यह आमतौर पर कैलशियम ऑक्सलेट के रूप में होती है। ऑक्सलेट एक प्राकृतिक रूप से पाया जानेवाला पदार्थ है जो भोज्य पदार्थों में मिलने के साथ-साथ लीवर में भी इसका निर्माण होता है। बात करें भोज्य पदार्थों की तो कुछ फल-सब्जियां,अनाज, चॉकलेट इत्यादि में ऑक्सलेट पाए जाते हैं।

स्रावित स्टोंस(Secreted stones) — यह स्टोंस आमतौर पर संंक्रमण के कारण होते हैं। अगर यह स्टोन हो जाए तो ये काफी जल्दी बड़े हो सकते हैं।

यूरिक एसिड स्टोंस(Uric acid stones)– यह पथरी महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा होती हैं। यह उन लोगों को खासतौर पर होती है जो, पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ या पानी का सेवन नहीं करते और जिनके मूत्र में एसिड की मात्रा अधिक होती है। 

सिस्टीन स्टोंस(Cysteine stones)– यह काफी कम लोगो मे होता है। यह स्टोन खासतौर पर उन लोगों के शरीर में होती है, जिनको कोई अनुवांशिकी विकार है। इस स्थिति में सिस्टीन एसिड, किडनी से लीक होकर मूत्र में आ जाता है।

Kidney stone का इलाज 

किडनी स्टोन के इलाज के लिए बहुत से विकल्प मौजूद है जैसे कि –

Homeopathy Treatment — काफी लोग जो खास करके ज्यादा खर्च करने के लिए सक्षम नहीं है या फिर ऑपरेशन से डरते हैं या फिर ज्यादा अंग्रेजी दवाइयों का सेवन नहीं कर सकते उनके लिए होम्योपैथिक बेस्ट उपाय है। अगर शुरुआती दिनों में ही बीमारी का पता लग जाए होम्योपैथिक ट्रीटमेंट बहुत कारगर साबित होता है और जल्दी ही पथरी को खत्म कर देता है।

अंग्रेजी दवाइयों का सेवन — अंग्रेजी दवाइयां किडनी स्टोन को बढ़ने नहीं देती और बाकी दिक्कतें भी नहीं आने देती। जिससे हम किडनी स्टोन को निकालने का पर्याप्त इलाज ढूंढ सकते हैं। 

थेरेपी — थेरेपी भी बहुत कारगर इलाज है किडनी स्टोन को बाहर निकालने के लिए लेकिन ज्यादातर लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है या साइड इफेक्ट के डर से लोग थेरेपी लेने से कतराते हैं। लेकिन इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है और यह 100% सच है।

ऑपरेशन — जब कोई विकल्प नहीं बचता तो हमारे पास आखिरी विकल्प ऑपरेशन ही बच जाता है। लेकिन अगर आप लोगों के पत्थर का साइज ज्यादा बड़ा नहीं है और आपको ज्यादा दिक्कत नहीं है तो आप पहले बाकी इलाज को ट्राई करें, तभी ऑपरेशन के बारे में सोचे। क्योंकि ऑपरेशन में खर्चा भी आपको 50 हजार से 1 लाख के करीब पर जाएगा और आपके शरीर को भी कष्ट होगा। इसीलिए बाकी दूसरा कोई विकल्प ना बचने पर ही ऑपरेशन के बारे में सोचें आप लोग।

देसी इलाज या घरेलू नुस्खा भी ट्राई किया जा सकता है — अगर आपके किडनी में स्टोन है तो देसी इलाज इलाज अपना सकते हैं। बार-बार पानी पीना और पेशाब करना एक महत्वपूर्ण इलाज है, इससे किडनी की पथरी अपने आप निकल जाती है। बहुत सारे ऐसे घरेलू नुस्खे हैं, जो गुर्दे की पथरी निकालने में कारगर साबित हुए हैं। नींबू का रस, सेव का सिरका इत्यादि का सेवन करना काफी फायदेमंद होता है इस बीमारी मे। कुछ अन्य देसी और घरेलू उपाय है —

अनार जूस — अगर आपके गुर्दे में पथरी की समस्या हो गई है तो आपको रोज सुबह एक गिलास अनार का जूस पीना चाहिए। अनार के जूस के सेवन से पथरी में होने वाले दर्द से आपको काफी राहत मिलेगी और पथरी का साइज बड़ा नहीं होगा। साथ ही आप पथरी को निकालने के लिए जिन दवाइयों का सेवन कर रहे हैं उन दवाइयों का असर भी झटपट होगा और आपको पथरी की समस्या से निजात मिल जाएगा

इलाइची — एक चम्मच इलायची, दो चम्मच मिश्री और थोड़े से खरबूज के बीज की गिरी ले। उनको आधा कप पानी में अच्छी तरह उवाले और सुबह शाम उस पानी को पी लें। ऐसा करने से आप की पथरी के निकलने में काफी मदद मिलेगी और दर्द से भी आप को राहत मिलेगी। साथ ही पथरी के बाकी लक्षणों से भी आपको निजात मिलेगी।

राजमे का पानी — आप थोड़े से राजमे को भिगो लें। उसके बाद उसको पानी में अच्छी तरह उबाले। फिर राजमें को निकाल ले और जो पानी बच जाए उसको दिन भर में थोड़ा-थोड़ा करके कई बार पिए। पथरी के रोगियों के लिए यह पानी किसी दवाई से कम नहीं है।

प्याज का रस —  दो प्याज ले और उनको छोटे-छोटे टुकड़ों में काट ले। अब उस प्याज के टुकड़ों को थोड़ा सा पानी में डालकर धीमी आंच पर थोड़ी देर के लिए पकाए। पकने के बाद गैस बंद कर दे और उस प्याज को अच्छी तरह से पीसकर प्याज का रस निकाल ले। अब उस रस को पी जाए। ऐसा आप एक-दो दिन के अंतराल पर करें ।आपको काफी फायदा होगा।

मकई(Corn) — पथरी के रोगियों के लिए मकई का सेवन भी काफी फायदेमंद होता है। मकई खाने से पेशाब ज्यादा लगता है और पथरी छोटे-छोटे कणों के रूप में बाहर निकल आते हैं। आप कुछ दिन तक मकई खाकर देखे आपको किडनी के पथरी से अवश्य निजात मिलेगा।

व्हीट ग्रास — सिर्फ किडनी की पथरी ही नहीं किडनी कि किसी भी प्रकार के रोग के लिए व्हीटग्रास काफी फायदेमंद है। आप व्हीटग्रास को थोड़ा सा पानी में उबालें और फिर उस पानी को पिए। ऐसा करने से आपकी पथरी तो निकलेगी ही साथ ही आपके किडनी के बाकी बीमारियों से भी आप को राहत मिल जाएगी। आपकी किडनी स्वस्थ रहेगी।

खजुर — खजूर में फाइबर की अच्छे मात्रा होती है जो किडनी में पथरी होने के खतरे को कम कर सकता है। अगर आपकी किडनी में पथरी नहीं भी है तो भी आप इसका सेवन करें। इससे आपकी किडनी स्वस्थ रहेगी और पथरी होने के चांसेस कम रहेंगे। आप रातभर थोड़े से खजूर को भिगोकर रख दे। सुबह उठकर खजूर को चबा चबा कर खाए बचा हुआ पानी भी पी ले। आपको काफी फायदा होगा। अगर आपकी किडनी में पथरी हो भी गयी है, फिर भी आप इसका सेवन करें। किडनी की पथरी धीरे-धीरे बाहर निकलेगी और दर्द से भी आप को राहत मिलेगी।

आशा है आपको यह जानकारी अच्छी लगी।

Leave a Reply