Homeहिन्दीजानकारीAmbidextrous स्कूल : भारत में एक ऐसा स्कूल जहां बच्चे दोनों...

Ambidextrous स्कूल : भारत में एक ऐसा स्कूल जहां बच्चे दोनों हाथों से लिख सकते हैं।

हम में से ज्यादातर लोग लिखने से शुरू करके बाकी सारा काम अपने दाहिने हाथ से ही करते हैं! लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो अपने काम को करने के लिए अपने बाएं हाँथ का इस्तेमाल करते हैं। जानकारी के मुताबिक दुनिया में 10 percent लोग ऐसे हैं, जो अपने Left Hand से भी लिख पाते हैं। हमे पता है अब आप यही कहेंगे कि, हाँ तो ठीक है ना! उसमे कौन सी बड़ी बात है। जी हाँ, इसमें कोई बड़ी बात नहीं हैं।

The gifted children

लेकिन शायद आपको यह नही पता होगा कि दुनिया में ऐसे भी कुछ genius बच्चे मौजूद है, जो अपने Left और Right दोनों हाँथो से एक साथ लिख सकते हैं। आपको जानकर खुशी होगी कि वो Amazing और Talented बच्चे इंडिया में ही हैं। अब तो आप भी यह कहेंगे ना “OMG, ये मेरा इंडिया”। यही देखने के लिए हम MP के Singrauli में पँहुचे और वहां जाकर हमने देखा कि वहां के Veena Vadini स्कूल में एक या दो नहीं बल्कि कुल 150 Studants से भी ज्यादा बच्चें हैं। जो एक टाइम में ही दोनों हाँथो से एक साथ लिख सकते हैं। जी हाँ! सही सुना आपने। एक साथ एक ही बार में दोनों हाँथो से। 

Ambidextrous स्कूल : भारत में एक ऐसा स्कूल जहां बच्चे दोनों हाथों से लिख सकते हैं।

Only Ambidextrous school in india

आपको बता दें यह इंडिया का एकलौता  Ambidextrous स्कूल है। OMG क्या सरपट सरपट हाथ चलते हैं उनके। आपको पता है ये सिर्फ एक ही laungage में नहीं, बल्कि हिंदी,इंग्लिश,उर्दू,संस्कृत, ऐराबिक जैसी कुल ६ (six) भाषाओं में लिख सकते हैं। Ambidextrous का मतलब तो आपको पता ही होगा। इस शब्द का मतलब होता है दोनों हाँथो से निपुण। 

The Man Behind the Concept

अब आपको क्या लगता है! बच्चो में इस Extraordinary Skill को Developed करने में एक Extraordinary Mind की जरूरत नहीं होगी। बिल्कुल जरूरत पड़ेगी। अब बारी है उस Extraordinary Mind से आपको मिलवाने का। तो आपको बता दे की उस स्कूल के Principal और उस Extraordinary Mind का नाम है Mr. B.P.Sharma (Ex -Army Man). शर्मा जी हमारे पहले President Dr.Rajendra Prasad जी के Ambidextrous Skill से प्रेरित हुए। शर्मा जी के कहे अनुसार ल, वे पहले बच्चो को एक हाथ से लिखवाते हैं। उसके बाद फिर दूसरे हाथ से लिखवाते हैं और End में दोनों हाँथो से लिखवाते हैं। 45 मिनट के Class में हर बच्चा 15 मिनट अपने दोनों हाँथो से उस Subject को लिखने की प्रेक्टिस करते हैं। 

master ji

Input from the children

बच्चो से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि तीन घंटे का पेपर वह 1 से डेर घंटे में लिख लेते हैं। बच्चो की बेहतर Concentration की वजह है योगा, जो यहाँ के बच्चो को हर दिन कराया जाता है। और तो और Scientific Approach Use करने के तरीके से इस प्रकार खेल खेल में ही पढ़ाई हो जाती है। अब आप भी यही सोच रहें होंगे ना की काश मैंने भी ऐसी पढ़ाई की होती तो आज मैं भी एक साथ एक बार में अपने दोनों हाँथो का इस्तेमाल कर पाता। ये बच्चे, बच्चे नहीं एक Wonders हैं। इसलिए हमने बात की Neurologist से, यह जानने के लिए कि क्या वाकई में दोनों हाँथो से निपुण बच्चो की Development अलग होती है? जब हमने इस विषय में एक Neurologist से पूछा हमें जवाब कुछ ऐसा मिला —

when asked from a neurologist

“यह तो सभी जानते है कि मस्तिष्क की कोशिकाएँ आकार और संख्या में वृद्धि करके पुनरावृत्ति गतिविधियों का जवाब देती हैं।क्योंकि, इस मामले में बच्चे अपने दोनों हाथों से और अलग-अलग भाषाओं में गतिविधियाँ कर रहे हैं, इसलिए इस बात की पूरी पूरी संभावना है कि उनके मस्तिष्क के दोनों पक्ष एक साथ उत्तेजित हों और कोशिकाएं बढ़ रही हैं। और क्योंकि Connection मस्तिष्क के दोनों किनारों का विकास कर रहे हैं। इसलिए वे उन सामान्य बच्चो के मुकाबले तेज और उपस्थित बुद्धि हो सकते हैं जो एक हाँथ से लिखते हैं।”

जैसे ये बच्चे दोनों हाँथो से लिखने में  सक्षम होते हैं। उसी तरह उनके सुनने के क्षमता में भी बृद्वि होती है। वो दो अलग अलग विषयो को एक साथ सुनने और समझने की ताकत रखते हैं।

writing with both hands is a art

रुकिए रुकिए दोस्तों! अभी OMG factor खतम नहीं हुआ है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इन बच्चो का दिमाग इतना शांत है कि हर किसी  को  80 तक के टेबल्स याद है। मतलब इन बच्चो के हाथ में मोटर और इनके दिमाग में Calculator fit है। शर्मा जी कहते है की Future तो उन बच्चो के नाम है। क्योकि इन सबका Genius बनना और Future में अपना नाम रौशन करना तो तय है। I

conclusion

I hope यह आर्टिकल आपको बहुत Interesting लगा होगा और इससे पहले आपने ऐसे किसी चीज के बारे में कभी नहीं सुना होगा। हमें खुशी है हम अपने लेख के जरिए एक नई बात आपके सामने पेश कर पर और अब आप से यही अनुरोध करेंगे कि हमारे आर्टिकल को like करने के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ताकि सबको अपने India पर गर्व करने का एक और मौका मिल सके। अंत में हम और आप यही आशा करेंगे कि Veena Vadini जैसे और भी Ambidextrous school खोले जाये और बच्चो के future को बेहतर बनाया जाये। एक फिर से बोलिये “OMG ये मेरा इंडिया”। 

GR Newsdesk
Globalreport.in is a dynamic and versatile team of writers, contributing to a common cause. Journalism at its best. We cover a number of topics.

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!