Homeहिन्दीखेलमीराबाई चानू ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को दिलाया पहला गोल्ड मेडल

मीराबाई चानू ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को दिलाया पहला गोल्ड मेडल

ओलंपिक पदक विजेता मीराबाई चानू ने महिलाओ की 49 किलोग्राम भारोत्तोलन की श्रेणी में राष्ट्रमंडल खेल साल 2022 में भारत का पहला स्वर्ण पदक जीताया। इस प्रतियोगिता में उन्होंने अपने अधिकार पर मुहर लगाने और इस प्रक्रिया में राष्ट्रमंडल खेलो का रिकॉर्ड हासिल करने के लिए कुल 201 किलोग्राम का कुल योग किया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा

भारत को गोल्ड दिलाने वाली मीराबाई चानू को बधाई देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि असाधारण मीराबाई चानू एक बार फिर भारत को गौरवान्वित किया है। हर भारतीय इस बात से खुश हैं कि उन्होंने बर्मिंघम खेलो में 1 स्वर्ण पदक जीता और एक नया राष्ट्रमंडल रिकॉर्ड बनाया। उनकी सफलता कई भारतीयो को प्रेरित करती है खासकर के नए एथलीटो को राष्ट्रमंडल खेलो के संस्करण में अब तक भारत ने 3 पदक जीते एक स्वर्ण पदक, एक रजत और एक कांस्य पदक।

मीराबाई चानू ने कहा कि कुछ लोग सोचते हैं कि पदक जीतने के बाद प्रेरणा कम हो जाती है। लेकिन मैं ऐसा नहीं सोचती मैं और ज्यादा सुधार करती हूं हर एक जीत के साथ मेरा प्रशिक्षण और भी कठिन होता गया मुझे और अधिक मेहनत करनी पड़ी है क्योंकि मैं टोक्यो में रजत से अधिक जीतना चाहती थी।

मीराबाई चानू ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को दिलाया पहला गोल्ड मेडल

मीराबाई चानू ने कॉमनवेल्थ गेम्स में देश को पहला गोल्ड मेडल दिला कर इतिहास रच दिया है। मीराबाई ने कुल 201 किलोग्राम का वजन उठाया क्लीन एंड जर्क के पहले राउंड में उन्होंने 109 किलो का भार उठाया। इसके साथ ही उन्होंने गोल्ड मेडल जीत लिया बर्मिंघम साल 2022 कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत का यह पहला गोल्ड होने के साथ तीसरा मेडल हैै। मीराबाई चानू दूसरे स्थान की खिलाड़ी से कोसो आगे थी उन्होंने 29 किलोग्राम से आगे रहते हुए भारत को गोल्ड मेडल दिलाया।

मीराबाई चानू ने स्नैच इन एच राउंड के अपने दूसरे प्रयास में 88 किलो वजन उठाकर 12 किलो की लिस्ट बना ली थी। उन्होंने अपने पहले प्रयास में 84 किलो भार उठाया था हालांकि स्नैच राउंड के तीसरे प्रयास में वह 90 किलो का भार उठाने से चूक गई थी। जिसके बाद में क्लीन एंड जर्क राउंड में उन्होंने पहले ही प्रयास में 109 किलो का भार उठाकर भारत को गोल्ड मेडल से जीता दिया। जीत के बावजूद भी मीराबाई चानू नहीं रुकी उन्होंने दूसरे प्रयास में 113 किलो उठायाा।

हालांकि अगर वह इस प्रयास के लिए नहीं भी आती तभी भी वह गोल्ड पर कब्जा कर चुकी थी। गोल्ड पर कब्जा कर चुकी मीराबाई चानू क्लीन एंड जर्क राउंड के पहले और दूसरे प्रयास के बाद भी ना रुकते हुए तीसरे प्रयास का इस्तेमाल किया जिस पर उन्होंने 105 का भार उठाने का प्रयास किया था। लेकिन वह इससे चुक गई हालांकि स्नैच राउंड एंड राउंड को मिलाकर 201 किलो का भार उठाने वाली मीराबाई चानू ने बेहद आसानी से गोल्ड को अपने नाम कर लिया और भारत को गोल्ड से जीता दिया।

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!