Homeहिन्दीजानकारीवर्ल्ड हेपेटाइटिस डे पर जानिए इस बिमारी के लक्षण, बचाव और खानपान...

वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे पर जानिए इस बिमारी के लक्षण, बचाव और खानपान से जुड़ी जानकारी

दुनिया भर में 28 जुलाई के दिन वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन को मनाने के पीछे का उद्देश्य यही है कि लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक किया जाए। हेपेटाइटिस B में वायरस की वजह से लिवर में इंफेक्शन हो जाता है लिवर में इन्फेक्शन होने के कारण गंभीर बीमारी जैसे कैंसर, लीवर खराब होना और यहां तक की मौत होने का भी  खतरा होता हैं।

हेपिटाइटिस वायरस के कारण दुनिया भर में हर 30 सेकेंड पर एक व्यक्ति की मौत हो जाती है। इस बीमारी की गंभीरता को देखते हुए साल 2030 तक हेपेटाइटिस को खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है। ज्यादातर लोग इस वायरस से संक्रमित होते हुए भी जानकारी ना होने के कारण हुआ इसके लक्षणों को नजरअंदाज कर देते हैं।

हेपेटाइटिस के प्रकार

वैसे तो हेपेटाइटिस कई प्रकार के होते हैं जिसके वजह से हमारे शरीर को अलग-अलग समस्याएं होती है। आमतौर पर हेपिटाइटिस वायरस A,B,C,D और E प्रकार के होते हैं। दुनिया भर में यह वायरस से भी टाइट इसके सामान्य वजह है हालांकि हेपेटाइटिस दवाओ के अनुचित सेवन और शराब के सेवन साथ ही हानिकारक पदार्थों के कारण होता है। हेपिटाइटिस केे वायरसो में हेपेटाइटिस A,B और C सबसे आम है।

हेपेटाइटिस A 

हेपेटाइटिस A के वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है और दूषित पानी या भोजन के सेवन से फैलता है। हेपेटाइटिस A के लक्षणो में उल्टी, मतली, दस्त, बुखार, लीवर एरिया में दर्द जैसे कुछ लक्षण नजर आते हैं। वही हेपिटाइटिस B वायरस संक्रमित खून और शरीर के अन्य तरल पदार्थो के संपर्क में आने से फैलता है। जन्म के दौरान भी संक्रमित मां से उसके बच्चे में इस वायरस के ट्रांसमिशन की संभावना हो सकती है। 

हेपेटाइटिस B 

हेपेटाइटिस B वायरस लक्षण प्रकट होते 6 महीने तक शरीर में निष्क्रिय रह सकता है जिसमें अत्यधिक थकान, एरिया में दर्द, भूख ना लगना, पीलिया और जल्द से जल्द करवाएं WHO के अनुसार भारत में 4 लोग लंबे समय से प्रभावित होते हैं तो वही एक लाख लोग जटिलताओ के कारण जाते हैं।

हेपिटाइटिस C 

वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे पर जानिए इस बिमारी के लक्षण, बचाव और खानपान से जुड़ी जानकारी

हेपिटाइटिस C वायरस संक्रमित खून के संपर्क में आने से फैलता है यह खून ट्रांसफ्यूजन और दूसरे प्रोडक्ट के यहां प्रोसेस के जरिए होता है। हेपेटाइटिस C से संक्रमित होने के लक्षण दिखाई नहीं देते जिस कारण इसका निदान नहीं किया जाता है। गंभीर हेपेटाइटिस C संक्रमण से लीवर खराब हो जाता है और लीवर सिरोसिस होने की संभावना बड़ जाति है इस तरह हेपेटाइटिस A और B की तुलना में हेपेटाइटिस C ज्यादा मौतो का कारण बनता है।

हेपेटाइटिस D और E

हेपेटाइटिस D आमतौर पर हेपेटाइटिस B वाले लोगो में होता है हेपेटाइटिस B वायरस मुख्य रूप से प्रदूषित पानी से फैलता है।ज्यादातर हेपेटाइटिस से पीड़ित लोग इस बीमारी से संक्रमित होने के बात से अनजान होते हैं और ऐसे में देर से ट्रीटमेंट हो पाता है जिस कारण मरीज को सही तरह इलाज नहीं मिल पाता।हेपेटाइटिस के संक्रमण से बचे रहने के लिए दूषित पानी पीने से बचे और खास करके स्वच्छता वाले क्षेत्रों में रहने का प्रयास करें, दूषित हुए सुई और सिरिंज के इस्तेमाल से दूरी बनाए। बच्चो के लिए 

हेपेटाइटिस B टीकाकरण की सिफारिश की जाती है क्योंकि उनमें संक्रमण विकसित होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है इसीलिए इन सब बातो को ध्यान में रखकर चलें।

हेपेटाइटिस के लक्षण

हेपेटाइटिस के लक्षणो में त्वचा और आंखो का रंग पीला होना, अत्यधिक थकान और उल्टी होना, पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द होना,भूख कम लगना, बुखार आना, मूत्र का रंग पीला हो जाना आदि समस्याएं होती है।

हेपेटाइटिस से बचने के उपाय

हेपेटाइटिस से बचने के लिए हमें साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए। टैटू के लिए स्टरलाइट नीडल का उपयोग करना चाहिए, एक दूसरे के साथ टूथब्रश और रेजर शेयर नहीं करना चाहिए। खास करके टॉयलेट से आने के बाद सफाई का ध्यान रखना चाहिए और दूषित पानी पीने से बचना चाहिए। साथ ही पौष्टिक और सुपाच्य आहार खाना चाहिए लेकिन वजन को नियंत्रन में रखना चाहिए। 

वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे पर जानिए इस बिमारी के लक्षण, बचाव और खानपान से जुड़ी जानकारी

शराब, तंबाकू और धूम्रपान से बचना चाहिए, यौन संबंध बनाने से पहले सुरक्षा का ध्यान रखना चाहिए। डॉक्टर की दी गई किसी भी दवाई को ओवर डोज नहीं लेना चाहिए, अगर किसी बीमारी का ट्रीटमेंट ले रहे हो तो लीवर को ध्यान में रखना चाहिए इसके अलावा योग, व्यायाम और टहलने की भी आदत डालनी चाहिए। 

हेपिटाइटिस कितने दिन तक ठीक हो सकते हैं 

हेपेटाइटिस B दो प्रकार के होते हैं एक एक्यूट और दूसरा क्रॉनिक। शुरुआत के 6 महीने में हेपेटाइटिस B इन्फेक्शन को एक्यूट माना जाता है और सही इलाज होने पर ज्यादातर लोग इन 6 महीनो में ठीक हो जाते हैं। लेकिन अगर हेपिटाइटिस वायरस टेस्ट 6 महीने के बाद भी पॉजिटिव होता है तो यह क्रॉनिक में बदल जाता है और इस कारण लीवर सिरोसिस या लिवर कैंसर की भी संभावना बढ़ जाती है।

हेपेटाइटिस दिवस मनाने का उद्देश्य

हर साल 28 जुलाई को विश्वभर में हेपेटाइटिस दिवस मनाने का उद्देश्य लोगो को इस गंभीर बीमारी के प्रति जागरूक करना है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार लोग हेपेटाइटिस बीमारी के प्रति ज्यादातर जागरूक नहीं है, जिस कारण लोग इस बिमारी से ज्यादातर ग्रस्त होते हैं। साथ ही जरूरत के अनुसार बचाव किए बिना यह बीमारी बढ़ती जाती है और यही उनकी मृत्यु का कारण बनता है। इसीलिए हर साल लोगो में जागरुकता फैलाने के लिए विश्व हेपेटाइटिस दिवस को किसी ने किसी थीम के साथ मनाया जाता है।

हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति को क्या खाना चाहिए

हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति के लिए साबुत अनाज का सेवन फायदेमंद होता है। साबुत अनाज के साथ ही गेहूं का दलिया, ब्रेड ब्राउन राइस, खिचड़ी आदि का सेवन फायदेमंद होता है।हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति के लिए फल और सब्जियो का सेवन बहुत जरूरी होता है। एंटीऑक्सीडेंट के गुणो से भरपूर फल और सब्जियो के सेवन से मरीजो को इस बीमारी से राहत मिलती है। 

वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे पर जानिए इस बिमारी के लक्षण, बचाव और खानपान से जुड़ी जानकारी

हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति के लिए प्रोटीन युक्त खानपन का सेवन करना चाहिए। भरपूर मात्रा में प्रोटीन के सेवन के लिए लीन चिकन, फली वाली सब्जीया, अंडे और सोयाबीन का सेवन करना चाहिए।इसके आलावा आप अपने डाइट में ऑलिव ऑयल और अलसी के तेल का भी उपयोग कर सकते हैं।

हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति को क्या नहीं खाना चाहिए 

हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति को रेड मीट, अजवाइन, टमाटर, ट्रांस फैट, शराब, प्रोसैस्ड फूड्स, कार्बोनेटेड ड्रिंक्स, शुगर की अधिक मात्रा रहने वाले फूड, रेड मीट, संतृप्त वसा आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा अधिक नमक, चीनी और फैट वाले वस्तुओ से भी दूर रहना चाहिए। हेपेटाइटिस के मरीजो को दिन में कम से कम 3 बार ही भोजन करना चाहिए इसके अलावा नियमित रूप से व्यायाम और दवाओ का सेवन करना चाहिए।

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!