Tuesday, May 17, 2022
Homeहिन्दीस्वास्थ्यजानिए क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

जानिए क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

हर साल 20 मार्च के दिन संयुक्त राष्ट्र (United Nations)  अंतरराष्ट्रीय खुशी दिवस (International Day of Happiness) मनाति है। यह लोगो के बीच खास जागरुकता को फैलाने का दिन है। तो आइए जानते हैं कि यह दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय प्रसन्नता दिवस (International Day of Happiness) के अवसर पर आप अपने जीवन में खुशीया लाने के लिए क्या करने जा रहे हैं, इस बारे में जरूर सोचे।

इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे मनाने का उद्देश्य


विश्व स्तर पर हैप्पीनेस डे मनाने का उद्देश्य यही है कि आप अपने नजरिए को इस प्रकार बदले कि आपके जीवन में खुशी का महत्व बढ़ता ही रहे। 
इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे की शुरुआत करने वाले जेमी इलियन का मानना था कि किसी भी देश या समाज का आर्थिक विकास हो लेकिन उससे ज्यादा जरूरी है कि लोग खुश रहें। इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे मनाने का यह मतलब नहीं है कि आप केवल आज के दिन ही खुश रहने का प्रयास कर सकते हैं। इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे मानने का उद्देश्य यह है कि आप खुशी के महत्व को समझें। तो आइए जानते हैं इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे के बारे में कुछ खास बातें और खुश रहने पर हेल्थ पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में।

जानिए क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

 International Happiness Day खुश रहने का दिन है हालांकि खुश रहने का कोई एक दिन नहीं होता, लेकिन इंसानी ज़िन्दगी और सभ्य समाज में खुशहाली कितनी ज़रूरी है यह दिन इसी की याद दिलाता है। साल 2013 से हर साल संयुक्त राष्ट्र इस दिवस को मनाता आ रहा है ताकि दुनिया भर के लोग ख़ुशी के महत्व को ज़ाहिर कर सके। इसके अलावा यह दिवस समावेशी, न्यायोचित और संतुलित आर्थिक विकास की ज़रूरत पर बल देता है। जिससे की सतत तरक्की, गरीबी उन्मूलन और सभी की खुशहाली व सुख को सुनिश्चित किया जा सके। 

क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

संयुक्त राष्ट्र द्वारा 20 मार्च के दिन दुनिया भर के लोगो को खुशी के महत्व के प्रति जागरुकता को बढ़ाने के लिए यह दिन मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 12 जुलाई साल 2012 को इसे मनाने का संकल्प लिया था। संयुक्त राष्ट्र के लिए इस दिवस को मनाने के पीछ मशहूर समाज सेवी जेमी इलियन के प्रयासो का नतीजा था। उन्हीं के विचारो ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव जनरल बान की मून को प्रेरित किया और 20 मार्च साल 2013 को इंटरनेशल डे ऑफ हैप्पीनेस घोषित किया गया।

संयुक्त राष्ट्र ने साल 2015 में 17 संवहनीय विकास लक्ष्यो की घोषणा की थी, जो गरीबी को खत्म करने, असमानता को कम करने और हमारे ग्रह की रक्षा करने के लिए निर्धारित किए गए हैं। ये तीन प्रमुख पहलू अच्छे जीवन और खुशी के लिए बहुत जरूरी माने गए हैं। संयुक्त राष्ट्र की यह भी कोशिश है कि इस दिवस को मनाते हुए दुनिया के नीति निर्धारको और निर्माताओ का ध्यान खुशी जैसे अंतिम लक्ष्य पर बनाए रखा जाए।

खुशी को कितना महत्व

संयुक्त राष्ट्र का यह भी मानना है कि दुनिया में संधारणीय विकास, गरीबी उन्मूलन, और खुशी के लिए आर्थिक विकास में समानता, समावेशता और संतुलन का नजरिया शामिल करने की आवश्यकता है। खुशी को महत्व देने की औपचारिक पहल भूटान जैसे छोटे से देश ने की थी। जो साल 1970 के दशक से अपने राष्ट्रीय आय से ज्यादा राष्ट्रीय खुसी के मूल्य को ज्यादा महत्व देता आ रहा है। तब से ही यहाँ राष्ट्रीय सकल उत्पाद के जगह राष्ट्रीय सकल आनंद को अधिक महत्व दिया जा रहा है।

साल 2021 में International Happiness Day का थीम

संयुक्त राष्ट्र द्वारा हर साल हर दिवस के लिए एक नई थीम जारी की जाती है। जिसके दायरे में ही यह दिवस मनाया जाता है यानि उसी थीम पर फोकस करके इस दिवस को मनाया जाता है। इस साल कोविड-19 का प्रभाव जारी है जो पिछले साल बहुत अधिक दिखा था। कोविड महामारी को ध्यान में रखते हुए इस साल यानि साल 2021 का थीम रखा गया है, शांत रहें, बुद्धिमान रहें और दयालु रहें।

जानिए क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

इस थीम को रखने के पीछे का उद्देश्य यही है की कोविड महामारी के बीच उपजी निराशा के बीच खुशी खोजने के लिए खुद को प्रेरित करना है। जब हम शांत रहने को लक्ष्य बनाते हैं तो हम खुद को याद दिलाएं कि सबकुछ हमारे नियंत्रण में नहीं है. इसके बाद बुद्धिमत्तापूर्ण चुनाव सभी के लिए मददगार होंगे और हमें सकारात्मक बनाए रखेंगे। इसके साथ ही एक दूसरे के प्रति दया भाव कायम रखना होगा। कोरोना काल में हमें इसकी सबसे ज्यादा आवश्यकता है।

इंटरनेशनल हैप्पीनेस डे का इतिहास 

संयुक्त राष्ट्र की आम सभा ने 12 जुलाई साल 2012 को अपने प्रस्ताव 66/281 के तहत हर साल 20 मार्च को International Day of Happiness मनाने का ऐलान किया। यह प्रस्ताव समाज सेवी, कार्यकर्ता और संयुक्त राष्ट्र के विशेष सलाहकार रहे जेमी इलियन के प्रयासो का परिणाम था। उन्होंने ही इस दिवस की अवधारणा और रूप रेखा बनाई थी। उनका मकसद एक ऐसे प्रस्ताव को लाना था, जो खुशी की तलाश को मानवीय अधिकारो और बुनियादी लक्ष्य में शामिल कर सके। जेमी इलियन ने जब International Happiness Day का प्रस्ताव दिया तब उन्हें संयुक्त राष्ट्र के तत्कालीन मुखिया बान की मून का भरपूर समर्थन मिला। यही नही यूएन के सभी 193 देशो ने इस प्रस्ताव को स्वीकार किया जिसे भूटान ने पेश किया। भूटान एक ऐसा देश है जो साल 1970 से ही राष्ट्रीय आय की तुलना में राष्ट्र की खुशहाली को तरजीह देता आया है।

खुश रहने से स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ता है 

प्रतिरक्षा प्रणाली जैविक कारको से जुड़ी है, व्यक्ति के इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के लिए खुश रहना बहुत जरुरी होता है। हमारे आस-पास कई चीजे होती हैं जो खुशी और तनाव को नियंत्रित करती है और जिसके अनुसार हमारा शरीर प्रतिक्रिया देता है। स्वस्थ रहने के लिए खुश रहना जरूरी है और खुश रहने के लिए भावनात्मक रुप से स्वस्थ रहना भी जरुरी होता है। व्यक्ति का मानसिक स्वास्थ्य भी व्यक्ति के शरीर पर प्रभाव डालता है इसलिए व्यक्ति को जीवन में चल रहे चीजो का ध्यान रखना चाहिए।  संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यो ने एकजुट होने पर सहमति व्यक्त कीया कि प्रसन्नता को अधिक प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

दुनिया भर के हजारो लोग दूसरो के साथ नए सकारात्मक संबंध बनाने के लिए आए, इस दिन को व्यक्ति के जीवन में खुशी के महत्व को पहचानने, समावेशी और दुनिया में खुश रहकर जीवन जीने के लिए मनाया जाता है। दुनिया के सबसे खुशहाल देशो में भारत 122 वे स्थान पर है। वहीं पिछले साल के सर्वेक्षण के अनुसार नॉर्वे सबसे खुशहाल देशो में शीर्ष स्थान पर रहा है। कई लेखको, दार्शनिको और व्यापारिक लोगो ने खुश होने के बारे में अपनी जानकारी साझा की है। रोआल्ड डाहल ने अपनी पुस्तक ‘The Twits’ में एक बार लिखा था कि अगर आपके पास अच्छे विचार हैं, तो वे आपके चेहरे रौशनी की तरह चमकेंगे और आप हमेशा सुंदर दिखेंगे। 

जानिए क्यों मनाया जाता है International Happiness Day

ऐसे कई चीजे हैं जो आपके दिन को एक खुशहाल बनाती हैं। यह ऐसी चीज है, जिसे आप सिर्फ भुगतान करके प्राप्त नहीं कर सकते। खुशी सिर्फ किसी एक चीज में नहीं होती बल्कि सारे तरीके होते हैं जिससे आप अपना दिन बना सकते हैं। कुछ लोग इसे गाने सुनकर प्राप्त करते है, तो कुछ पढ़ कर, कुछ लोगो को व्यायाम करके ख़ुशी मिलती है, इसी तरह आपको जो करके जिस चीज से ख़ुशी मिलती है आप वही कीजिए और अपने सपनो की ओर आगे बढिए।


खुश रहना हर एक व्यक्ति का अधिकार है, लेकिन हम लोगो ने खुद का जीवन को इस प्रकार बना लेते हैं, कि हमें ख़ुशी दिखाई नही देती। हम लोगो ने इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में खुद को इस प्रकार बना लिया है कि ख़ुशी पाने के लिए बहुत कुछ सोचने और करने के बाद भी हमें खुशी नहीं मिल पाती।  वैसे अगर इस बात पर हम ध्यान देकर सोचें तो खुशी पाना उतना कठिन भी नहीं होता जितना की हमें लगता है। खुशियाँ तो हमारे चारो ओर मौजूद होती है, बस जरुरत होती है उन्हें पहचानने की। अगर खुशियाँ आपके पास नहीं आती तो क्या हुआ आप खुशियों के पास जरूर जा सकते हैं इस पोस्ट में हम आपसे कुछ ऐसी बातें बताएंगे, जिन्हें अपनाकर आप अपने जीवन में खुशियां पा सकते हैं।

  • अगर आप सच में खुश रहना चाहते हैं तो बुरे लोगो और बुरी चीजों से हमेशा दूर रहें।
  • अपने समय को बिना किसी मतलब के बर्बाद ना करें।
  • दूसरो को किसी प्रकार दोष देने से पहले अपने गलतियो को सुधारें और नई शुरुवात करें।
  • लोगो की बात को ना सुनकर हमेशा अपने दिल की बात सुनें।
  • जिस काम को करने से आपको खुशी मिले आप वही काम करें। 
  • आप छोटे हो या बड़े अपने प्रयास के ताकत को समझें।
  • किसी के साथ लड़ाई झगड़ा करने से बचें क्योंकि इससे बात नहीं बनती, किसी भी विषय पर अच्छे से बातचीत करें।
  • अपने मन को हमेशा शांत रखें और किसी भी बात को अच्छे से सुनने पर ही उसका जवाब दें। दूसरो की बातो और लोगो को देखकर कभी जलन महसूस न करें।
  • घर में पेड़ पौधे लगाए, क्योंकि इससे वातावरण स्वच्छ और सुन्दर रहता है और मन भी खुश रहता है।
  • हमेशा अपने क्रोध को काबू में रखे। 
  • अपने जीवन में उत्साह लाने के लिए अपने कामो को रचनात्मक बनाए। और दूसरो को साबित करने के लिए कुछ न करें।जीवन कठिन नही है बल्कि लोग इसे अपने कामो से कठिन बनाते हैं। बैठे रहने से कुछ प्राप्त नही होता, अपनी दुख भरी जिंदगी से बहार निकले और कुछ बेहतरीन करके खुश रहने के उपाय ढूँढें।
  • अपने आप पर अटूट विश्वास रखें, कि आप हर चीज कर सकते हैं। अपने हर दिन के लिए, अपने जीवन के हर एक पल के लिए भगवान का आभार व्यक्त करें।
  • अपने जीवन के कामो का भार और अपना भार आप खुद उठाए, वरना मुश्किल समय आने पर आप हार मान लेंगे।
  • लोगो को सम्मान और खुशियाँ दें और बदले में उनसे भी खुशिया और सम्मान पांए।अपने घर में कोई पालतू जानवर रखें, जैसे कुत्ते या बिल्ली, इससे आपका समय अच्छे से बीतेगा।
  • अपने ख़ुशीयो को दूसरो के साथ शेयर करें और लोगो से  खुल कर बात करें, साथ ही नियमित रूप से व्यायाम भी करें।
  • TV कम देखें, Comedy प्रोग्राम देखें और दुख भरे फ़िल्में देखना बंद करें।
  • अच्छा और स्वस्थ भोजन करें, एक चीज याद रखें की पैसा कभी भी ख़ुशी से बढ़ कर नहीं होता।
  • आपके पास जो भी है, उसी से खुश रहें, ज्यादा की कामना करना दुःख को आगमन देना होता है।
  • अपने जीवन को मुश्किन ना बनाए साधारण जीवन जिए, और हमेशा खुश रहें।
  • अपने जीवन के ख़ुशी के लम्हो को लिख कर या फोटो के रूप में अपने ऑफिस या घर के दिवार पर चिपकाएँ,इससे आपको जरूर ख़ुशी मिलेगी।
  • जीवन में आपके साथ जो भी घटनाएँ घटती है, अगर आप हमेशा उनके सकारात्मक पहलू पर ध्यान देते हैं तो खुशियां हमेशा आपके पास रहती है।

Jhuma Ray
Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।
RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: