Wednesday, May 18, 2022
Homeहिन्दीजानकारीWorld Forestry Day: कब क्यों और कैसे मनाया जाता है वन दिवस

World Forestry Day: कब क्यों और कैसे मनाया जाता है वन दिवस


वनो का संरक्षण हमारे लिए बेहद जरूरी है, वनो के बिना हम मानव जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। लोगो को इसके संरक्षण के लिए जागरूक करने के लिए 21 मार्च को विश्व भर में ‘अंतरराष्ट्रीय वन दिवस’ (International Day of Forests) के तौर पर मनाया जाता है। 28 नवंबर साल 2012 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने हर साल 21 मार्च को अंतरराष्ट्रीय वन दिवस के रूप में मनाने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया था। 

बीते कुछ सालो से जिस तरह बिना सोचे-समझे वनो की कटाई की जा रही है, उसे देखते हुए इस तथ्य से इनकार नही किया जा सकता, कि अब जल्द ही हमें इसके भयावह परिणाम देखने को मिल सकते हैं। ऐसे में 21 मार्च का यह दिन बेहद महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इस दिन विश्व भर में वनो और पेड़ो से संबंधित गतिविधियो का आयोजन करने के लिए स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रयासो को प्रोत्साहित किया जाता है।


कब से मनाई जाती है World Forestry Day  

World Forestry Day: कब क्यों और कैसे मनाया जाता है वन दिवस

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 28 नवंबर साल 2012 को एक प्रस्ताव पारित करते हुए हर साल 21 मार्च को अंतरराष्ट्रीय वन दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी। इस दिन को विश्व भर में सभी प्रकार के वनो के प्रति लोगो में जागरूकता बढ़ाने और इनके महत्व को समझाने के तौर पर मनाया जाता है।


 World Forestry Day का थीम  

हर साल रखी जाती है अलग अलग थीम World Forestry Day को हर साल अलग-अलग थीम के साथ मनाया जाता है।  इस साल 2021 में इसका थीम रखा गया था, ‘फॉरेस्ट रेस्ट्रोरेशन: ए पाथ टू रिकवरी एंड वेल बीइंग’ । संयुक्त राष्ट्र के अनुसार इस साल की थीम UN Decade on Ecosystem Restoration (2021-2030) पर आधारित है। जिसका उद्देश्य दुनियाभर के ecosystem का बचाव और पुनरुत्थान करना है। साथ ही इस दिन दुनिया भर के देशो में वनो के संरक्षण के उद्देश्य से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के साथ स्थानीय स्तर पर भी विभिन्न कार्यक्रमो और वृक्षारोपण अभियान का भी आयोजन किया जाता है। हमारे जीवन में वनो के महत्व को समझने और समझाने के लिए हर साल इस दिन को मनाया जाता है।


लोगो की आजीविका वनो पर निर्भर है

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार दुनिया के करीब 1.6 बिलियन लोग अपने भोजन, आवास और दवाईयो के साथ साथ आजीविका के लिए वनो पर निर्भर करते हैं। हर साल दुनियाभर में करीब 10 मिलियन हेक्टेयर वन कम होता है जो कि वायु परिवर्तन का एक मुख्य कारण है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार हम जिन दवाइयो का उपयोग करते हैं, उनमें से 25 प्रतिशत इन्ही वनो से प्राप्त होता है। न्यूयॉर्क, टोक्यो, बार्सिलोना और बोगोटा के साथ कई बड़े शहरो का एक तिहाई हिस्सा पीने के पानी के लिए इन संरक्षित वनो पर निर्भर करता है।

पहली बार यह दिवस साल 1971 में मनाया गया था। इसकी शुरुआत भारत में तत्कालीन गृहमंत्री कुलपति कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी ने की थी। यह मनोत्सव भारत में साल 1950 से मनाया जाना शुरू किया गया। इसको मनाने के पीछे एक ही उद्देश्य था की सभी देश अपने मातृभूमि और अपनी मिट्टी का कद्र समझे और इस चीज़ के प्रति जागरूक हो सके की उनकी मिट्टी, उनके जंगल, उनकी वनसम्पदा कितनी महत्वपूर्ण हैं।

World Forestry Day: कब क्यों और कैसे मनाया जाता है वन दिवस


लोगो में दिन प्रतिदिन पैसे की भूख बढती जा रही है। इस पैसा के पीछे लगी भीड़ में लोगो के अंदर से सच में महत्वपूर्ण चीजो का महत्व समझने की क्षमता कम होती जा रही है। और वे इस चीज़ को भूलते जा रहे हैं, की वनों से प्रेम, जन्तुओ से प्रेम, आपस में प्रेम इन लालच भरी चीजो से कई ज्यादा बढ़ कर है। जिस पृथ्वी में हम सभी जीवो को उस ईश्वर ने जीवन का भेंट दिया है। और हम सभी को एक जीवन चक्र से जोड़ा है जिसका मतलब यह है की अगर किसी वजह से किसी एक तरह के प्राणी का जीवन विलुप्त हो जाए तो ये दुसरे प्राणी के जीवन पर भी उतना ही प्रभाव डालता है। उनको भी कई प्रकार समश्याओ का सामना करना पड़ता हैं और ऐसा भी हो सकता है की आने वाले दिनो में उसका खुद का जीवन भी खतरे में पड़ जाए।

वानिकी के तीन महत्वपूर्ण तत्व हैं – सुरक्षा, उत्पादन और वन विहार इसके बारे में लोगो को जानकारिया देने के लिए 21 मार्च के दिन को ‘विश्व वानिकी दिवस’ के रूप में चुना गया। विशेषज्ञो के अनुसार जंगल एक ऐसा जीवित समुदाय है जिसमें विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु, पेड़-पौधे, कीट-पतंगे एक-दूसरे पर निर्भर होकर अपना जीवन बिताते हैं। पर्यावरणविदो की शिकायत है कि पिछले कुछ दशको में जिस प्रकार मनुष्य ने अपने लालच की पूर्ति के लिए जंगलो को काटना शुरू कर दीया है, उससे जलवायु परिवर्तन, ग्लोबल वॉर्मिंग, ग्लेशियर का पिघलना जैसे कई विकट समस्याएं शुरू हुई हैं। अगर अभी भी हमने ध्यान नहीं दिया तो सम्पूर्ण प्रकृति व जीव खतरे में पड़ जाएंगे। 


किसी वयस्क व्यक्ति को जिंदा रहने के लिए जितना परिमाण में ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है, वो उसे 16 बड़े-बड़े पेड़ो से प्राप्त हो सकती है। लेकिन पेड़ों की हो रही अंधाधुंध कटाई से उनकी संख्या दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है। वर्तमान समय में वायुमंडल से कार्बन डाई ऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड, सीएफसी जैसी जहरीली गैसो को सोखने वाली और असंख्य जीवधारियो को ‘ऑक्सीजन’ देने वाले जंगल आज खुद अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं। 

दुनिया को इस मुसीबत से छुटकारा दिलाने के लिए विश्व की सम्पूर्ण जनसंख्या अगर 1-1 पेड़ भी लगाए तो फिर से पृथ्वी को हरा-भरा बनाया जा सकता है। हमने अपने फायदे के लिए पेड़ काट दिए, लेकिन जंगल कुदरत का दिया हुआ वह उपहार हैं, जो हमें जीवन के लिए जरूरी ऑक्सीजन देते हैं। दुनिया के आधे से ज्यादा वनस्पति, जीव-जंतु और कीट प्रजातिया इन्हीं ऊष्णकटिबंधीय वर्षावनो में पाई जाती हैं। लेकिन बड़ी तेजी से काटे जा रहे पेड़ों के कारण आज सभी का जीवन खतरे में पड़ रहा है। आज मनुष्य जिस प्रकार जंगलों को खत्म कर रहा है, उसे देखकर लगता है कि आने वाले कुछ सालो में जंगल नही रहेंगे। हमें हर हाल में जंगलो को बचाने और ज्यादा से ज्यादा पेड़-पौधे लगाने की आवश्‍यकता है।


World Forestry Day पर हमें करने चाहिए यह काम

  • जलवायु परिवर्तन जैसे तमाम समस्याओ से बचने के लिए हमें पेड़ लगाने चाहिए।
  • ज्यादा से ज्यादा पेड़ पौधे लगाए और लोगो को भी इस बारे में जागरूक करें।
  • जितना हो उतना पौधो को कटने से बचाए।
  • स्वथ्य जीवन के लिए मनुष्य को पेड़ पौधे लगाने चाहिए।
  • अगर अभी हमने कुछ नहीं किया तो कल चलकर हमें बिना सांस लिए ही मरना पड़ेगा।
  • जंगल में कटे हुवे वृक्षो की जगह नए वृक्षो को लगाना।पेड़ लगाने से ग्लोबल वार्मिंग नियंत्रण में आएगी और जो मौसम में असामनता है उससे हमें निजात मिलेगा।वनों की रक्षा के लिए हमे लकड़ी का उपयोग कम करना होना जिससे की वनो की कटाई में कमी आ सके।
  • बचे हुए वनो की रक्षा करना चाहिए, ताकि जो भी वन हमारे पास उपलब्ध है, उसकी हम रक्षा कर सके।
  • अति ज्वलनशील पदार्थो को वन क्षेत्रो से दूर रखना चाहिए।
  • आग को रोकने के लिए पर्याप्त व्यवस्थाए की जानि चाहिए।
  • सूखा सीजन आने पर वनो की साफ़ सफाई पर ध्यान दिया जाना चाहिए।
  • इलेक्ट्रिसिटी wire को मेन्टेन करना है जरूरी।
Jhuma Ray
Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।
RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: