Homeहिन्दीWorld Sleep Day 2021, पर जाने नींद और सेहत का कैसे रखे...

World Sleep Day 2021, पर जाने नींद और सेहत का कैसे रखे ध्यान।

सेहत ही व्यक्ति का सबसे बड़ा धन होता है सेहत फिट होता है तो हम फिट रहते हैं सेहत सर्वोपरि होता है। और इस सेहत के लिए खान पान जितना जरूरी होता है नींद भी उतना ही जरूरी होता है। World Sleep Day के इस अवसर पर हम नींद का सेहत से क्या सम्बंध है और क्यों जरूरी है नींद इस बारे में बात करने वाले हैं। साथ ही नींद से जुड़ी और भी जानकारी के बारे में बात करने वाले हैं तो आइए जानते हैं नींद के अहमियत के बारे में।

क्यों मनाया जाता है World Sleep Day 

विश्व भर में सोने के प्रति जागरुकता को बढ़ाने के लिए साल 2007 से वर्ल्ड स्लीप डे मनाया जाता है। इसका मकसद है की दुनिया भर के लोगो को नींद के महत्व के प्रति जागरूकता को बढ़ाना जिससे कि उन्हें यह समझ में आ सके, कि जीवन में नींद कितना मायने रखती है और इसके पूरा न होने पर कई परेशानियो से भी गुजरना पड़ सकता है। 

World Sleep Day 2021, पर जाने नींद और सेहत का कैसे रखे ध्यान।

वर्ल्ड स्लीप डे मनाने का उद्देश्य 


वर्ल्ड स्लीप डे मनाने का उद्देश्य लोगो को नींद से होने वाले समस्याओं के प्रति जागरूक करना और नींद के वजह से होेने वाली समस्याओ को दूर करना होता है। हर साल वर्ल्ड स्लीप सोसाइटी की ओर से एक विषय तय करके उसके प्रति लोगो को जागरूक किया जाता है। शायद ऐसा भी हो सकता है कि आपने वर्ल्ड स्लीप डे के बारे में नही सुना होगा लेकिन आपको अपने नींद के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें जरूर जान लेनी चाहिए।

सेहत के लिए नींद का महत्व 


हमारे शरीर के लिए जिस तरह तमाम प्रकार के विटामिन्स, मिनरल्स और अन्य पोषक तत्व जरूरी होते हैं, उसी प्रकार पर्याप्त मात्रा में नींद की भी आवश्यकता होती है। नींद पूरा न होने पर दिनभर चिड़चिड़ापन बना रहता है। कम मात्रा में सोने के वजह से शरीर में भूख को बढ़ाने वाले लेप्टिन नामक हार्मोन का स्तर कम होने लगता है। नींद के प्रति लोगो को जागरूक करने के उद्देश्य से ही हर साल 13 मार्च के दिन वर्ल्ड स्लीप सोसाइटी की ओर से  वर्ल्ड स्लीप डे मनाया जाता है। 


नींद पूरा न होने पर होने वाली समश्या 

स्वास्थ्य विशेषज्ञ और डॉक्टर भी अक्सर लोगो को अच्छी और पर्याप्त नींद लेने की सलाह देति हैं। अगर आप पूरी नींद नहीं लेंगे तो आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती है। ऐसे में आपको सिर दर्द, बदन दर्द, तनाव, गैस, अपच जैसी कई प्रकार पेट की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। 


नींद न आने कारण


दरअसल आजकल ज्यादातर लोगो की जिंदगी भागदौड़ वाली है। ऐसे में पर्याप्त मात्रा में नींद न होने की समस्या आम है। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कई तरह की चिंताए और दिक्कतें चलती रहती हैं। इस बारे में डॉ प्रवीण कुमार सिन्हा बताते हैं कि दैनिक जीवनशैली में बदलाव इसका बड़ा कारण होता है। कई बार तनाव और हार्मोन्स में बदलाव के कारण भी नींद ना आने की समस्या हो जाती है।  नींद न आने की इस समस्या को इन्सोमनिया कहा जाता है। इस समस्या के गंभीर हो जाने पर डॉक्टर नींद की गोली लेने की सलाह देते हैं। हमारी यही कोशिश होनी चाहिए कि हमें नींद की गोली की जरूरत ही न पड़े। 

स्वस्थ जीवन लिए कितनी जरूरी है नींद 


अगर पूर्ण रूप से नींद ना मिले तो पूरा दिन खराब हो जाता हैं इसके साथ ही व्यक्ति के सेहत पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। ऐसे में यह जरूरी है कि आप सही नींद लें। सामान्यत हमारे लिए रोजाना 6 से 7 घंटे की नींद काफी होती है। वहीं, हेल्पगाइड के अनुसार ज्यादातर स्वस्थ लोगो को 7 से 9 घंटे की नींद ही पर्याप्त होती है। 12 साल से लेकर 18 साल के युवा साढ़े 8 घंटे से लेकर 10 घंटे तक की नींद काफी होती है। जबकि छोटे बच्चो के लिए 12 से 14 घंटे की नींद जरूरी होती है।

नींद लेने के फायदे 

यह जरूरी नहीं है कि स्वस्थ रहने के लिए सभी को 8 से 10 घंटे की नींद लेनी चाहिए। सभी लोगो के शारीरिक और मानसिक कार्य और कई दूसरे तथ्यो के अनुसार सभी के लिए नींद के अलग-अलग घंटे हो सकते हैं। ऐसे में अगर आप अपने अनुसार पूरी नींद लेते हैं, तो उसके कई फायदे हैं- 

  • आप ऊर्जावान महसूस करेंगे। 
  • आपके सोचने और निर्णय लेने की क्षमता बढ़ जाएगी। 
  • आप विभिन्न प्रकार के बीमारियो से बचे रहेंगे। 
  • स्किन और हेयर प्रॉब्लम्स दूर हो जाएगी। 
  • जब आप सोते हैं, तब आपका शरीर तो रिलैक्स होता ही है इसके साथ ही आपका मस्तिष्क भी शांत हो जाता है।

वर्ल्ड स्लीप डे का स्लोगन

वर्ल्ड स्लीप डे साल  2020 का विषय है बेटर स्लीप, बेटर लाइफ, बेटर प्लेनेट (better sleep, better life, better planet) नींद, हमारे सेहत के लिए केेेवल हिस्सा ही नही है, बल्कि यह हमे सही निर्णयों को समझने और इसे लेने में एक अहम योगदान देता है। हेल्दी नींद हमारे जीवनस्तर को बेहतर बना सकती है। वर्ल्ड स्लीप डे साल 2021 का थीम है रखा गया है Regular Sleep, Healthy Future. 

World Sleep Day 2021, पर जाने नींद और सेहत का कैसे रखे ध्यान।
  • एक अच्छी नींद के लिए इन बातो का ध्यान रखें 
  • अच्छी नींद के लिए संतुलित आहार का सेवन करें। 
  • आप जहां सोते हैं, वहां पर साफ-सफाई व शांति होनी चाहिए। 
  • आपका बिस्तर ज्यादा मोटा नहीं होना चाहिए।
  • सोने से पहले थोड़ी स्ट्रेचिंग कर लेना सेहत के लिए अच्छा होता है।
  • मोटापा कम करने के लिए बहुत से लोग रात को खाना नहीं खाते हैं, लेकिन आपको ऐसा कभी नहीं करना चाहिए।
  • हमें खाली पेट कभी नहीं सोना चाहिए इससे नींद नहीं आती है और मोटापा बढ़ने की समस्या भी हो सकति है। 
  • रात को खाने के तुरंत बाद सोना न सोएं। 
  • खाने और सोने के बीच कुछ समय का अंतर जरूर रखें।
  • खाना खाकर तुरंत सोने से शरीर में इंसुलिन और ब्लड शुगर की समस्या बढ़ति है। जो वजन बढ़ने का भी कारण होता है। 
  • खाना खाकर कुछ देर टहलना शेहत के लिएअच्छा होता है। इससे पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है। 

सुबह उठने का सही समय

सुबह 6 से 7 बजे के बीच ही उठ जाएं। ज्यादा समय तक सोने से तन और मन दोनों तरोताजा नहीं रहते। हालांकि अगर आप काम के कारण देर रात को (करीब 1-2 बजे) सोते हैं तो आप देर से उठ सकते हैं। लेकिन मात्रा अनुसार नींद पूरा होना जरूरी है। अगर रात भर में आपकी नींद पूरी नहीं होती तो सुबह उठकर एक्सरसाइज और ब्रेकफास्ट आदि करने के एक घंटे बाद आप एक आध घंटे का नैप लें इससे आपकी नींद पूरी हो जाएगी। और एक बात का आपको ध्यान रखना जरूरी है सुबह उठने के बाद सबसे पहले एक गिलास सादा या गुनगुना पानी जरूर पिएं। इससे शरीर के विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं आप चाहे तो एक गिलास पानी में आधा नीबू निचोड़ कर भी पी सकते हैं।

नींद पूरा होने के बाद ज्यादा सोने से हो सकती है समस्याए

अच्छी सेहत के लिए सोना जरूरी है। भरपूर नींद लेने से आपको अपने दिन भर के कामो को करने की एनर्जी मिल जाती है। अगर आप रोजाना आठ से नौ घण्टों की सुकून की नींद लेते हैं, तो आपको डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याओं से भी बचाव होता है। लेकिन इसका यह मतलब  बिल्कुल भी नहीं है कि आप घण्टों तक सोते रहें, क्योंकि यह आदत आपको बहुत बीमार बना सकती है। ज्यादा समय तक सोना से या सुबह देर तक सोते रहने से आपको कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। लेकिन कुछ विशेष स्थितियो  में ज्यादा सोने से डिप्रेशन, हृदय संबंधी रोग, थायरॉइड और कई प्रकार की बीमारियों का सामना करना पर सकता है।

बिगड़ सकती है दिल की सेहत

अगर आप ज्यादा देर तक सोते हैं तो दिल की सेहत पर बोझ पडऩे लगता है। साल 2013 में अमरीकन जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी के एक रिपोर्ट के मुताबिक ज्यादा समय तक सोने से लेफ्ट वेंटिकुलर का वजन बढ़ सकता है। जिससे हार्ट अटैक की होने लगती है। न्यूरोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि कम नींद लेने के वजह से कार्डियोवैस्कुलर रोगों का खतरा 18 प्रतिशत बढ़ सकता है, जबकि देर तक सोने के कारण स्ट्रोक का जोखिम 46 प्रतिशत हो सकता है। लंबे समय तक सोना आपके मूड को प्रभावित कर सकता है और इससे आपको डिप्रेशन की समस्या भी हो सकति है। 

World Sleep Day 2021, पर जाने नींद और सेहत का कैसे रखे ध्यान।

मनुष्य के मस्तिष्क में नींद न्यूरोट्रांसमीटर को प्रभावित करती है। लंबी नींद लेने से शारीरिक गतिविधि कम हो जाती है जबकि न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को बढ़ाने के लिए अधिक शारीरिक गतिविधि महत्त्वपूर्ण होता है, जो आपके मन को बेहतर बनाती है। इसलिए आप सोने का एक नियम जरूर बनाएं।

मोटापा बढऩे लगता है

अतिरिक्त नींद और मोटापे के बीच एक कनेक्शन होता है। अगर आप लंबे समय तक सो रहे हैं, तो आप उस अवधि के लिए शारीरिक रूप से निष्क्रिय हैं। कम शारीरिक गतिविधि का मतलब है कि आपका शरीर कम कैलोरी ही खर्च कर पा रही है, जिससे आपका वजन बढऩे लगता है। स्लीप पत्रिका में प्रकाशित हुए 2008 के एक शोध के मुताबिक लंबे समय तक सोने से भविष्य में वजन बढऩे के अलावा हाई ब्लड प्रेशर और हाई ब्लड शुगर की आशंका भी हो जाती है। इसलिए अपने सोने की अवधि को आठ घण्टे से ज्यादा कभी ना बढ़ाएं।

बना रहता है आलस

अनावश्यक सोना हमारे शरीर की बायोलॉजिकल क्लॉक की प्रणाली को असंतुलित कर देता है। जिससे आलस बना रहना, सुस्ती महसूस होना, मूड खराब होना, सिरदर्द की समस्या होना, पीठदर्द और हर वक्त थकान महसूस होना जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। इसका सबसे बड़ा असर आपकी वर्क परफॉर्मेंस के खराब होने के रूप में देखी जाती है, क्योंकि आप किसी भी चीज पर ठीक से फोकस नहीं कर पाते।

दिमाग पर असर पड़ता है 

ज्यादा सोना आपके मस्तिष्क की शक्ति को भी प्रभावित कर सकता है। अगर दिन में भी नींद लेते हैं, तो हो सकता है कि इससे आपकी रात की नींद प्रभावित हो जाए। ऐसे में आपको सिरदर्द की समस्या भी हो सकती है। कुछ लोगो में ओवरस्लीपिंग के कारण ही माइग्रेन की समश्या भी हो सकति है। 

World Sleep Day पर जाने अनिद्रा के कारण और उपाए

आजकल के भागदौड़ भरी जिंदगी और रोज़ के जीवनशैली में एक सबसे बड़ी समस्या बनकर उभरी है। अनिद्रा यानी नींद का ना आना या बिस्तर पर काफी देर पड़े रहने के बावजूद भारी प्रयास के बाद नींद आना। यह एक ऐसी समस्या है, जिससे शहरी जीवनशैली बिताने वाला हर शख्स जूझ रहा है। 

रात को ज्यादा ना सोंचे

कई लोग बिस्तर पर जाने के बाद भी दिनभर के घटनाओं और बातो पर सोच में परे रहते हैं। लेकिन यह आपकी गलति है, ऐसा करके आप सवालो और बातो में और ज्यादा उलझते रहते हैं। नई और अच्छी सुबह के लिए आप चित्त को हमेशा शांत ही रखें।

World Sleep Day 2021, पर जाने नींद और सेहत का कैसे रखे ध्यान।

सोने से पहले चाय, कॉफ़ी शराब का सेवन न करें 

बिस्तर पर सोने जाने से पहले कॉफी कभी न पिएं, सोने के समय के 4 से 6 घंटे पहले तक कैफीन वाली दूसरी चीजें- जैसे कि चाय, सोडा, चॉकलेट ड्र‍िंक आदि से भी बचे रहें। सोने के समय से 4, 6 घंटे पहले तक शराब का सेवन न करें। कुछ लोगो को लगता है कि शराब पीने से उन्हें अच्छी नींद आएगी, लेकिन ऐसा नहीं होता है। शराब‍ पीने के बाद जैसे ही खून में एक बार अल्कोहल की मात्रा घटती है, उसके तुरंत बाद ही नींद खुल जाती है।

सोने के तरीके का रखें ध्यान

ज्यादातर आम लोग यह सोचते हैं कि अगर रात को खाना न खाया जाए तो वजन कम हो जाता और इसीलिए खाली पेट नहीं सोना चाहिए जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है। डॉक्टर हमेशा यही सलाह देते हैं कि आप कभी खाली पेट न सोएं। क्योंकि खाली पेट सोने से नींद नहीं आति और जिस कारण आपका मोटापा और बढ़ सकता है। इसके अलावा भी कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं। 

खाने के तुरंत बाद न सोएं

डॉक्टर यह भी सलाह देते हैं कि आप रात के समय जब भी खाना खाएं तो उसके बाद ही लगातार सोने के लिए न जाएं। खाना खाने के बाद कुछ देर कुछ कदम चलें खाना  खाने और सोने के समय में आपको कुछ समय का अंतर रखना चाहिए। खाना खाने के तुरंत बाद सोने से ब्लड शुगर और इंसुलिन बढ़ता है, जिस कारण वजन बढ़ने की समश्या हो सकती है। आप चाहे तो सोने से पहले, हल्की स्ट्रेचिंग कर सकते हैं ऐसा करने से आपका मोटापा नही बढ़ेगा साथ ही आपको नींद भी अच्छी आएगी।

उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छी लगीहोगी अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया तो इसे लाइक करें और शेयर करें।

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!