Homeहिन्दीजानकारीमार्च महीने में मनाया जाने वाला सेफ्टी दिवस/सप्ताह क्या है, कब और...

मार्च महीने में मनाया जाने वाला सेफ्टी दिवस/सप्ताह क्या है, कब और क्यों मनाया जाता है?

हर साल देशभर में 4 मार्च एक दिन राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के तौर पर मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य देशभर में लोगों को सुरक्षा के प्रति जागरूक बनाना और हर एक के साथ होने वाले दुर्घटनाओं को रोकना है। वर्तमान में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस एक राष्ट्रीय सप्ताह के रूप में मनाया जाने लगा है इसका मुख्य उद्देश्य देश भर में लोगो को सुरक्षा के प्रति जागरूक करना और उनके साथ होने वाले दुर्घटनाओं को रोकना, हर एक के सुरक्षा के प्रति जागरुकता कार्यक्रम के द्वारा दुर्घटना से कैसे बचा जाए इसके बारे में लोगों को जागरुक बनाने के लिए पूर्ण उत्साह के साथ इस दिवस को मनाया जाता है।

नेशनल सेफ्टी डे यानी राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस अभियान पूरे एक हफ्ते तक चलता है यह एक महत्वपूर्ण दिवस है जो हर साल 1 सप्ताह तक मनाया जाता है। यह दिवस उन बलिदानों को समर्पित है जिसने अपना बलिदान देकर हर समय देश की सुरक्षा की है। इस दिन पूरा हिंदुस्तान उन शहीदो के हौसले, जज्बे और विरता को सलाम करता है जो शहीद देश के लिए बिना कुछ सोचे अपनी जान दे देते हैं। उनके शहादत को कोई कैसे शब्दों में बता सकता है वह तो अपने कर्मों से अपने बलिदानों से दिल में जगह बना लेते हैं।   

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पर क्या होता है

राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह विभिन्न सरकारी, गैर सरकारी संस्थानों के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग और विभिन्न ओद्योगिक संगठनो द्वारा मिलकर मनाया जाता है। ये संस्थाए विभिन्न कार्यक्रमों और विभिन्न प्रमोशनल मटेरियल्स के द्वारा लोगों में राष्ट्रीय सुरक्षा कि भावना को जागरूक करती है। इन कार्यक्रमों को लोगों तक पहुँचाने के लिए विभिन्न इलेक्ट्रोनिक मीडिया, पत्रिकाओं, समाचार पत्रों और अन्य ओद्योगिक पत्रिकाओं का उपयोग कीया जाता है।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के सप्ताह के दौरान विभिन्न जागरूकता के कार्यक्रमों का आयोजन होता है। जिसके माध्यम से औद्योगिक दुर्घटनाओं से बचाव के तरीकों से लोगों को अवगत कराया जाता है। वर्तमान में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस देश की सीमाओं पर सुरक्षा में तैनात होने वाले हजारों सिपाहियो और सिक्योरिटी विभाग को समर्पित है, जिनके वजह से देश की सीमाएं सुरक्षित रहती है। राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह के दौरान विभिन्न तरीकों को अपनाकर लोगों को अवगत कराया जाता है। पूरे सप्ताह में की जाने वाली हर गतिविधि का एकमात्र उद्देश्य लोगों को उनकी सुरक्षा के लिए जागरूक करके उन्हें सुरक्षा के विभिन्न तरीकों से अवगत कराना होता है। राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस देश के सिक्योरिटी विभाग एवं उन सभी सोल्जर को जाता है, जो देश की सुरक्षा करते हैं। इनके कारण ही देश की सीमा सुरक्षित रहती है, देश में शांति और आवाम में सुरक्षा का भाव विराजमान होता है। इस दिन हम सभी देशवासियों को देश के सुरक्षा बलों को दिल से अभिवादन करना चाहिए।

मार्च महीने में मनाया जाने वाला सेफ्टी दिवस/सप्ताह क्या है, कब और क्यों मनाया जाता है?


इस पूरे राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह के दौरान राष्ट्रीय स्तर और राज्य स्तर पर विभिन्न प्रकार के गतिविधियों जैसे की सुरक्षा संदेशो के पोस्टर, सेमिनार, सुरक्षा पुरुस्कार वितरण,स्लोगन, बैनर, निबंध प्रतियोगिता, वाद-विवाद प्रतियोगिता, प्रदर्शनी, विभिन्न प्रकार के नाटक, गीत, खेल प्रतियोगिता, विभिन्न कार्यशालाए और प्रशिक्षण कार्यक्रमों के द्वारा लोगों को सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण के मुद्दो पर जागरूक किया जाता है। इसके अलावा विभिन्न औद्योगिक कर्मचारियों के लिए सुरक्षा के मुद्दो पर विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। ताकि वे अपनी ज़िम्मेदारीयो को अच्छे से समझ सकें। इस प्रशिक्षण में उन्हे विभिन्न मशीनों, रसायनिक और विद्युत जोखिमो से निपटने और विभिन्न सुरक्षा उपकरणो जैसे अग्निशामक, प्राथमिक चिकित्सा आदि का ज्ञान दिया जाता है। इस प्रकार इन कार्यक्रमों के जरिए राष्ट्रीय सुरक्षा को बढ़ावा दिया जाता है।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का इतिहास

नेशनल सेफ्टी काउंसिल ने राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को अस्तित्व में लाने की पहल की गई थी। राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को मनाए जाने की पहली बार शुरुआत 4 मार्च साल 1972 से हुई थी। भारत में इसी दिन नेशनल सेफ्टी काउंसिल की स्थापना की गई थी। जिस कारण इस दिन को नेशनल सेफ्टी डे के रूप में मनाया जा रहा है। नेशनल सेफ्टी काउंसिल में एक गैर सरकारी और गैर लाभकारी संगठन के तौर पर कार्य करता था और साल 1966 में मुंबई में सोसायटी अधिनियम के तहत इस संगठन की स्थापना की गई थी जिसमें 8 हजार सदस्य शामिल हुए थे।

इस दिन को अस्तित्व में लाने की पहल नेशनल सेफ्टी काउंसिल द्वारा की गई थी। क्योंकि 4 मार्च के दिन ही भारत में नेशनल सेफ्टी काउंसिल की स्थापना हुई थी और इसलिए इस दिन नेशनल सेफ्टी डे के तौर पर मनाया जाता है। नेशनल सेफ्टी काउंसिल एक निकाय है जोकि सार्वजनिक सेवा के लिए गैर सरकारी और गैर लाभकारी संगठन के रूप में कार्य करता है। इसके बाद साल 1972 में इस संगठन के द्वारा नेशनल सेफ्टी दिवस यानी राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाने का निर्णय लिया गया था। और जल्द ही इसे नेशनल सेफ्टी काउंसिल डे यानी राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह के रूप में मनाया जाने लगा।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम

इस साल 2021 में पूरे देश में 50 वां राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाया गया। और इस साल इस दिवस का थीम रखा गया था – साल 2021 के नेशनल सेफ्टी डे का थीम है “आपदा से सीखें और सुरक्षित भविष्य की तैयारी करें (Learn from Disaster and prepare for a Safer Future)” है। 

  • राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस हर साल अलग-अलग थीम के साथ मनाया जाता है। साल 2020 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम था “सुरक्षा कर्मियों को सलाम”।
  • साल 2019 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “औद्योगिकी संस्थानों की सुरक्षा”।
  • साल 2018 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “सुरक्षा हमारी प्राथमिकता नहीं है यह हमारा मूल्य है”।
  • साल 2017 में इस दिवस का थीम रखा गया था “एक दूसरे को सुरक्षित रखें”। इससे पहले साल 2016 में इस दिवस का थीम रखा गया था ” ऐसा सुरक्षा आंदोलन जिसमें लोगों को कोई नुकसान ना हो”।
  • साल 2015 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “सतत आपूर्ति श्रृंखला के लिए एक सुरक्षा संस्कृति बनाए”।
  • साल 2014 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “कार्यस्थल पर दबाव और सुरक्षा के साथ खतरों का नियंत्रण”।  
  • साल 2013 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “सुरक्षित और स्वस्थ कार्यस्थल सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करना”।
  • साल 2012 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “सुरक्षित और स्वस्थ कार्य वातावरण सुनिश्चित करना था – यह एक मौलिक मानव अधिकार है”।
  • साल 2011 में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का थीम रखा गया था “निवारक सुरक्षा और स्वास्थ्य संस्कृति की स्थापना और रखरखाव करना”।

कुछ समश्या ऐसे होते हैं जो राष्ट्रीय सुरक्षा के दायरे में होते हैं वैसे सुरक्षा राष्ट्रीय सुरक्षा के अंतर्गत होने के कारण इस पर ध्यान देना व्यक्ति का पहला कर्तव्य बनता है। जब हम राष्ट्रीय सुरक्षा के अंतर्गत आने वाले हर एक क्षेत्र में सुरक्षित होंगे तभी हम पूर्ण रूप से सुरक्षित हो पाएंगे, इसके लिए हमें हर एक क्षेत्र में सुरक्षा का ध्यान रखना अनिवार्य है।

* गरीबी

भारत में गरीबो की संख्या बहुत ज्यादा है जिस कारण उनके लिए सोचना हमारा पहला कर्तव्य बनता है क्योंकि वह गरीब के साथ-साथ असुरक्षित भी है। किसी ना किसी कारण गरीबों को भूखा ना रहना पड़े और उन्हें आजीविका का कोई जरिया मिल जाए। इसके लिए भी हम सभी को एक होने की आवश्यकता है क्योंकि यह भी राष्ट्रीय सुरक्षा के ही अंतर्गत आता है।

* खाद्य पदार्थ

आज के समय में ज्यादातर मिलावटी वस्तुओं का ही बोलबाला है जीससे कई प्रकार की बीमारियां होने के साथ नई नस्ल भी कमजोर होती जा रही है। इस सबसे देश को सुरक्षित रखना हम सब का कर्तव्य बनता है और यह भी राष्ट्रीय सुरक्षा के अंतर्गत ही आता है। क्योंकि खाद्य पदार्थ मनुष्य को जीवन देता है और खाद्य पदार्थ में ही अगर मिलावट होने लगे तो मनुष्य के जीवन से खिलवाड़ हो सकता है ऐसे में सुरक्षा का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

* नारी की सुरक्षा 

नारी सुरक्षा एक बेहद महत्व पूर्ण बात है क्योंकि आज के दौर में जिस तरह महिलाएं लड़कों से कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं उसी प्रकार कुछ क्षेत्रों में आज भी नारी के साथ बेहद भेदभाव होता है और उनकी सुरक्षा के साथ खिलवाड़ हो जाता है। ऐसे में उनकी सुरक्षा का ध्यान रखना हम सब की पहली और महत्वपूर्ण जिम्मेदारी बनती है। हम सभी को मिलकर इस सुरक्षा का ध्यान रखना जरूरी है।जब महिला के साथ घटना घट जाती है तब गुनहगार को सजा देना न्यायपालिका का काम होता है। लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के अंतर्गत हमें इन सभी घटने वाली घटनाओं को ही समाप्त करने का प्रयास करना चाहिए, तभी राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस कारगर साबित होगा।

* स्वच्छता

राष्ट्रीय सुरक्षा के तहत इन सब विषयों पर ध्यान देने के अलावा सब एक और महत्वपूर्ण विषय है और बाहर स्वच्छता देश में लोगों को बीमारियों से सुरक्षा बेहद महत्वपूर्ण है और इसके लिए स्वच्छता एक अहम भूमिका निभाता है। राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस सभी को इस दिशा में अपना कदम बढ़ाने के लिए प्रेरित करता है कि वे स्वच्छता की ओर बड़े तभी हर एक व्यक्ति बीमारी मुक्त होगा और जब हर एक व्यक्ति बीमारी मुक्त होगा तभी वह व्यक्ति सुरक्षित होगा। देश को स्वच्छ रखना सुरक्षा के अंतर्गत शामिल है जिसमें सरकार और जनता के साथ-साथ उद्योगपति जिम्मेदार है। और इन सभी को एक साथ मिलाकर देश में स्वच्छता संबंधी सुरक्षा लाना अनिवार्य है इस तरह भी स्वच्छता भी सुरक्षा दिवस का अहम उद्देश्य बन जाता है। 


राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पर जाने कुछ महत्वपूर्ण बातो के बारे में –

  • स्वस्थ और सुरक्षित कार्यस्थल के लिए मिलकर प्रयास करें।
  • जब तक आप सुरक्षा को अपनाकर चलते हैं सुरक्षा को 
  • प्रथम स्थान पर रखते है सफलता हमेशा आपके साथ रहेगी।
  • जीवन में सुरक्षा ही सर्वोपरि है, सुरक्षा के बिना सब व्यर्थ होता है।
  • जीवन सुरक्षा कोई नारा नहीं है बल्कि यह जीने का एक तरीका है।
  • आपकी सुरक्षा केवल आप ही की ज़िम्मेदारी है, जो सुरक्षा से नाता तोड़ेगा वह समय से पहले ही जीवन को छोड़ेगा।
  • आपकी सुरक्षा केवल आप ही के हाथो में है।
  • खुद की सुरक्षा एक बेहद सस्ती और कारगर सुरक्षा पॉलिसी है। 
  • घर में अपनो कि सुरक्षा अपने हाथ में रखे और कार में सीट बेल्ट का प्रयोग करे।
  • सेफ्टी एक इंजन है जिसे चालू करने की चाबी केवल आपके पास है।

वैसे तो आपकी सुरक्षा आप ही की ज़िम्मेदारी है लेकिन दूसरे लोग आपको इसके लिए जागरूक कर रहे है सुनने में थोड़ा अजीब तो लगता है लेकिन जब आप इस पर गौर करेंगे तो आप इसके महत्व को जान पाएंगे और सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण को ही अपना प्रथम सुरक्षा मानेंगे। जब हम अपने आप को सही तरह से हर दिशा से सुरक्षित रखने लगेंगे तभी इस दिवस का मुख्य उद्देश्य पूर्ण रूप से पूरा होगा। और जब हम अपने साथ-साथ दूसरों को भी इस बारे में जागरूक करेंगे ताकि लोग अपने सुरक्षा को अपने साथ लेकर चले। तो आइए हम और आप इस राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के अवसर पर संकल्प ले की हम हमेशा सुरक्षा को साथ लेकर चलेंगे और लोगों को भी इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेंगे।  

Jhuma Ray
नमस्कार! मेरा नाम Jhuma Ray है। Writting मेरी Hobby या शौक नही, बल्कि मेरा जुनून है । नए नए विषयों पर Research करना और बेहतर से बेहतर जानकारियां निकालकर, उन्हों शब्दों से सजाना मुझे पसंद है। कृपया, आप लोग मेरे Articles को पढ़े और कोई भी सवाल या सुझाव हो तो निसंकोच मुझसे संपर्क करें। मैं अपने Readers के साथ एक खास रिश्ता बनाना चाहती हूँ। आशा है, आप लोग इसमें मेरा पूरा साथ देंगे।

Leave a Reply Cancel reply

error: Content is protected !!